भारत में मिले डेल्टा वेरिएंट पर अब डॉ. फाउची ने चेताया, बताया सबसे बड़ा खतरा

नई दिल्ली,

कोरोना वायरस की तबाही ने पूरी दुनिया में हाहाकार मचा रखा है. इसी बीच अमेरिका के इंफेक्शन डिसीज एक्सपर्ट डॉक्टर एंथनी फाउची ने मंगलवार को कहा कि भारत में पाया गया डेल्टा वेरिएंट कोविड-19 महामारी का जड़ से सफाया करने में अमेरिका के प्रयासों के लिए सबसे बड़ा खतरा है. बता दें कि देश को कोरोना मुक्त बनाने के लिए अमेरिका तेजी से लोगों को वैक्सीनेट करने में जुटा है.डॉ. फाउची ने कहा कि डेल्टा वेरिएंट कोविड-19 के मूल वेरिएंट से ज्यादा संक्रामक है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के चीफ साइंटिस्ट ने शुक्रवार को चेतावनी देते हुए कहा था कि ये वेरिएंट अब पूरी दुनिया में बीमारी का एक नया वर्जन बन रहा है.

डॉ. फाउची ने कहा, ‘डेल्टा वेरिएंट निश्चित रूप से कोविड-19 के मूल वेरिएंट से कहीं ज्यादा तेजी से फैल रहा है. इस वेरिएंट ने बीमारी की गंभीरता को भी काफी ज्यादा बढ़ा दिया है. अच्छी बात ये है कि अमेरिकी वैक्सीन इस पर प्रभावी है. हमारे पास इसके खिलाफ हथियार है और हमें इसका इस्तेमाल करना चाहिए.’ डॉ. फाउची की ये चेतावनी ऐसे वक्त में आई है जब भारत ने भी डेल्टा वेरिएंट के खतरे को देखते हुए इसे ‘वेरिएंट ऑफ कंसर्न’ की श्रेणी में डाल दिया है.

कोरोना के डेल्टा वेरिएंट ने अप्रैल और मई के दौरान भारत में खूब तबाही मचाई. इससे देश में स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित हुईं और रोजाना हजारों लोगों की मौतें हुईं. वेरिएंट एक्सपर्ट के मुताबिक, ‘कोरोना की दूसरी लहर के दौरान भारत में रोजाना 4 लाख से ज्यादा मामले दर्ज किए गए. देश का हेल्थ सिस्टम बुरी तरह लड़खड़ा रहा था.’

बीमारी से लड़ने में अमेरिका की तैयारियों पर बोलते हुए WHO के चीफ साइंटिस्ट ने ये भी कहा कि अमेरिका के पास कोरोना के डेल्ट वेरिएंट से निपटने के लिए पर्याप्त वैक्सीन उपलब्ध है. कोरोना की महामारी और इसके नए वेरिएंट से निपटने के लिए अमेरिका Pfizer/BioNTech जैसी वैक्सीन का इस्तेमाल कर रहा है.’

व्हाइट हाउस ने मंगलवार को कहा कि 70 फीसद वयस्कों को वैक्सीनेट करने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए अमेरिका को कुछ हफ्ते ज्यादा लग सकते हैं. बता दें कि इससे पहले राष्ट्रपति जो बाइडेन की सरकार ने 4 जुलाई 2021 तक यानी स्वतंत्रता दिवस तक 70 फीसद वयस्कों को वैक्सीनेट करने का लक्ष्य निर्धारित किया था.

व्हाइट हाउस के कोविड-19 सीनियर एडवाइजर जैफ्री जाएंट्स ने एक बयान जारी करते हुए कहा था कि अमेरिका 4 जुलाई तक 27 साल से ज्यादा ज्यादा उम्र के तकरीबन 70 फीसद लोगों को वैक्सीनेट कर देगा.पिछले सोमवार को ही सामने आए एक डेटा के मुताबिक, अमेरिका अब तक 150 मिलियन से ज्यादा (15 करोड़ से ज्यादा) लोगों को वैक्सीनेट कर चुका है. यानी देश की तकरीबन 45 फीसद आबादी को वैक्सीन मिल चुकी है.

सोमवार को यूएस सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन (CDC) ने भी युवाओं में वैक्सीन न लगावाने की इच्छा की तरफ इशारा किया. वयस्कों की तुलना में युवा वैक्सीनेशन प्रोग्राम में बहुत कम दिलचस्पी ले रहे हैं. इससे अमेरिका में वैक्सीनेशन कवरेज को पूरा करने में बाधा उत्पन्न हो सकती है. CDC ने कहा कि अगर अगस्त के महीने तक वैक्सीनेशन प्रोग्राम के प्रति युवाओं की दिलचस्पी का स्तर यही रहा तो उसे वयस्कों की तरह एक बड़े लेवल पर लेकर जाना मुश्किल हो जाएगा.

About bheldn

Check Also

अखिलेश बताएं कृष्ण जन्मभूमि पर मंदिर चाहते हैं या नहीं- केशव मौर्य का सवाल

प्रयागराज, यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने ‘अब मथुरा की बारी है’ बयान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *