हर चरण में असफल हो रही है मोदी सरकार की वैक्सीनेशन पॉलिसी : आतिशी मर्लेना

नई दिल्ली

आम आदमी पार्टी (AAP) विधायक आतिशी मर्लेना ने टीकाकरण को लेकर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की नीतियों के लगातार असफल होने का आरोप लगाया है। उन्होंने सवाल उठाया कि जब दुनिया वैक्सीन खरीद रही थी तब भारत सरकार ने किस मंशा से दूसरे देशों को टीका बेचा था? उन्होंने वैक्सीन की उपलब्धता को लेकर केंद्र पर दिल्ली सरकार के साथ भेदभाव करने का भी आरोप लगाया।

आतिशी ने कहा, “मोदी सरकार की वैक्सीनेशन पॉलिसी हर चरण में असफल पर असफल हो रही है। पहले चरण में जब दुनिया वैक्सीन खरीद रही थी, तब भाजपा वैक्सीन निर्यात कर रही थी। दूसरे चरण में केंद्र सरकार ने राज्यों को अपने दम पर वैक्सीन खरीद करने के लिए कहा, लेकिन निर्माताओं के हाथ बांध दिए। अब तीसरे चरण में केंद्र ने सब कुछ आपूर्ति करने का वादा किया है, लेकिन 21 जून तक दिल्ली को एक भी डोज नहीं मिला।”

उन्होंने कहा कि जब दिल्ली सरकार ने केंद्र के फर्जी वैक्सीनेशन कैंपेन के खिलाफ आवाज उठाई, तो नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने ट्वीट करके और केंद्र सरकार ने प्रेस रिलीज जारी कर कहा है कि 45 प्लस की वैक्सीन 18 प्लस के लिए भी इस्तेमाल हो सकती है। आतिशी ने कहा, “इससे पहले हम बार-बार केंद्र से आग्रह करते रहे कि हमारे पास 45 प्लस की पर्याप्त वैक्सीन है और इसे 18 प्लस के लिए इस्तेमाल करने दीजिए, तब केंद्र ने साफ मना कर दिया था।”

उन्होंने केंद्र सरकार पर दिल्ली के मुख्यमंत्री सीएम अरविंद केजरीवाल के लिए अभद्र भाषा के प्रयोग का आरोप लगाया और कहा कि सीएम के लिए गाली निकालने से देश कोरोना से नहीं बचेगा, सिर्फ वैक्सीनेशन से ही देश सुरक्षित हो सकता है। उन्होंने कहा, “भाजपा के नेताओं और मंत्रियों को एक ही काम है और वो है मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और दिल्ली सरकार को गाली-गुफ्तार करना। केंद्र सरकार वैक्सीन पर राजनीति करना बंद करे। दिल्ली और देश के लोगों को कोविड से बचने की जिम्मेदारी केंद्र की है। इसलिए पर्याप्त वैक्सीन उपलब्ध कराई जाए।”

आप एमएलए ने टीकाकरण में चरण दर चरण केंद्र सरकार की विफलता गिनवाई। उन्होंने कहा कि पहले चरण में भाजपा नेता 5 राज्यों में चुनाव लड़ने में व्यस्त थे और वैक्सीन उत्पादन का कोई प्लान नहीं बना कि देश की पूरी जनता को वैक्सीन कैसे लगे, बल्कि जब भारत में वैक्सीन का उत्पादन हो रहा था, उस वैक्सीन को निर्यात कर दिया। दूसरे चरण में जब केंद्र सरकार को समझ में आ गया कि उनके पास वैक्सीन नहीं है, तो उन्होंने वैक्सीन खरीदने की जिम्मेदारी राज्यों पर डाल दी। अब जब तीसरा चरण शुरू हुआ है तब वो कह तो रहे हैं कि सब कुछ हम देंगे, लेकिन दिल्ली को 21 जून के लिए वैक्सीन की एक भी डोज नहीं दी गई।

आप की वरिष्ठ नेता ने कहा कि 18 से 44 आयु वर्ग के लोगों के लिए हमारे बार-बार मांगने के बावजूद बहुत कम वैक्सीन की डोज दी गई है। दो हफ्ते से ज्यादा का समय था, जब दिल्ली में 18 से 44 वर्ष के आयु वर्ग वाले लोगों के लिए एक भी वैक्सीन की डोज उपलब्ध नहीं थी। हम केंद्र सरकार के सामने हाथ जोड़ते रह गए, लेकिन केंद्र सरकार मना करती रही।

जब दिल्ली सरकार बार-बार यह सवाल पूछ रही थी, बार-बार हम चिट्ठियां लिख कर कह रहे थे कि हमें 45 प्लस की वैक्सीन को 18 प्लस के लिए इस्तेमाल करने दीजिए, तब केंद्र सरकार ने हाथ खड़े कर दिए और तब केंद्र सरकार ने मना कर दिया। वहीं, आज जब उनकी गलती सामने आ गई है, तो केंद्र सरकार चुपके से एक प्रेस रिलीज जारी कर देती है और कहती है कि 45 प्लस की वैक्सीन तो 18 प्लस के लिए भी इस्तेमाल हो सकती है।

आतिशी ने कहा कि हमारा केंद्र सरकार आग्रह है कि आप यह प्रेस कॉन्फ्रेंस, प्रेस रिलीज और ट्वीटर की गाली-गुफ्तार की राजनीति छोड़ दीजिए। उन्होंने कहा कि दिल्ली और देश की जनता को जल्द से जल्द वैक्सीन उपलब्ध कराई जाए। आपने जो 15 लाख वैक्सीन हमें जुलाई में देने का वादा किया है, उतनी वैक्सीन तो हर महीने दिल्ली के पास आ ही रही थी। अगर 15 लाख वैक्सीन की डोज हर महीने आएंगी तो पूरी दिल्ली को पूरी तरह से वैक्सीन लगाने में एक साल से ज्यादा समय लग जाएगा।

About bheldn

Check Also

दिल्ली में 8 रुपये सस्ता हुआ पेट्रोल, केजरीवाल सरकार ने घटाया VAT

नई दिल्ली, दिल्ली सरकार ने जनता को राहत देते हुए पेट्रोल के दाम कम कर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *