ओलिंपिक में बैन हुई अश्वेतों के लिए बनी स्विमिंग कैप, मोट-कालों बालों का रखती थी ध्यान

लंदन

ओलिंपिक शुरू होने से पहले अश्वेतों से जुड़े एक विवाद ने जन्म ले लिया है, जो आगे चलकर बढ़ भी सकता है। दरअसल, अश्वेत तैराकों के लिए यूके की एक कंपनी ने खास स्विमिंग कैप बनाई थी, जो प्राकृतिक काले, मोटे और घने बालों की खास देखभाल करता, लेकिन इंटरनेशनल स्विमिंग फेडरशन (FINA) ने इस पर प्रतिबंध लगा दिया, जिसका अश्वेत एथलीट और आंदोलनकारी जबरदस्त विरोध कर रहे हैं।

इस स्विमिंग गियर को बनाने वाली ब्रिटिश कंपनी के मालिक खुद एक अश्वेत व्यक्ति हैं। इंस्टाग्राम पर जारी एक बयान में वह कहते हैं कि इस नियम से कई युवा तैराकों का मनोबल गिरेगा, यह हतोत्साहित करने वाला फैसला है। दुनिया भर में आलोचना होती देख FINA ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर कहा कि वह सोल कैप पर अपने प्रतिबंध की समीक्षा कर रहा है।

सोल कैप पर क्यों लगा प्रतिबंध?
इंटरनेशनल स्विमिंग फेडरशन (FINA) के मुताबिक यह कैप सिर के प्राकृतिक ढ़ाचे पर फिट नहीं बैठती। अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों में इससे पहले कोई भी एथलीट इस तरह की कैप पहनकर पूल में नहीं उतरा है और न ही इसकी कभी जरूरत पड़ी। हालांकि मनोरंजन और शिक्षण उद्देश्यों के लिए सोल स्विम कैप पर कोई प्रतिबंध नहीं है। एक तर्क ये भी दिया गया कि आकार में अपेक्षाकृत बड़े ये स्विम कैप पानी के प्रवाह को तेजी से काटेगी, इससे सामान्य स्विम कैप वाले एथलीट के साथ भेदभाव होगा।

About bheldn

Check Also

‘टीम इंडिया में दो फाड़, अलग-अलग बैठे थे केएल राहुल और विराट कोहली’

नई दिल्ली पाकिस्तान के पूर्व लेग स्पिनर दानिश कनेरिया ने दावा किया है कि पार्ल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *