यूपी ब्लॉक प्रमुख चुनावः सिद्धार्थनगर में पूर्व स्पीकर के हाथ से पर्चा छीना, कार में तोड़फोड़

सिद्धार्थनगर ,

उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख के चुनावों को लेकर हलचल, हंगामा और मारपीट का दौर जारी है. सिद्धार्थनगर जिले के इटवा ब्लॉक पर भी नामांकन करने के दौरान जमकर हंगामा हुआ. इससे पहले सीतापुर, श्रावस्ती और अंबेडकरनगर समेत कई जिलों में झड़प, हाथापाई और फायरिंग तक की नौबत आ गई थी.

इटवा ब्लॉक पर नामांकन के दौरान हंगामा तब शुरू हुआ जब प्रदेश के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय अपनी पत्नी फूलमति पांडेय का नामांकन करने पहुंचे थे, उसी समय उनसे धक्का-मुक्की कर कुछ अराजक तत्वों ने पर्चा छीन कर फाड़ दिया.यही नहीं साथ ही कुछ उपद्रवियों ने पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय की गाड़ी का शीशा भी तोड़ दिया. जिसके बाद जमकर हंगामा हुआ. आरोप है कि सपाइयों ने जमकर नारेबाजी की.

3 सेट में दाखिल किया नामांकन
हालांकि माता प्रसाद पांडेय ने अपनी पत्नी के लिए 4 सेट में पर्चा खरीदा था. अराजक तत्वों के हाथ सिर्फ एक पर्चा ही लगा. बाद में माता प्रसाद पांडेय की पत्नी ने 3 सेट में अपना नामांकन किया.यह मामला आज गुरुवार दोपहर लगभग 1 बजे का है. इस घटना के बाद मौके पर काफी संख्या में सपा के लोग पहुंच गए और जमकर नारेबाजी की. इस सारे घटनाक्रम के दौरान वहां पर पुलिस फोर्स भी मौजूद थी. उन्होंने बीच बचाव कर मामले को शांत कराया.

बेसिक शिक्षा मंत्री पर लगा आरोप
पूरे घटनाक्रम पर माता प्रसाद पांडे ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लोगों ने ब्लॉक पर आते ही मेरे साथ धक्का-मुक्की कर मेरा पर्चा छीनकर फाड़ दिया. साथ में धक्का मुक्की भी की गई.उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि यह सब इटवा से भाजपा के विधायक और प्रदेश सरकार के बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री सतीश द्विवेदी के इशारे पर हो रहा है.

अन्य जगहों पर भी हिंसा
सीतापुर में भी गुरुवार को नामांकन के दौरान राउंड फायरिंग की गई. नामांकन पत्र नहीं मिलने को लेकर दो पक्षों में बवाल हो गया. जानकारी के मुताबिक, भाजपा और निर्दलीय प्रत्याशियों के समर्थकों में भिड़ंत हुई, जिसके बाद फायरिंग की गई. इसमें एक युवक समेत कुल तीन लोग घायल हो गए, जिन्हें लखनऊ रेफर किया गया है.

श्रावस्ती में भी नामाकंन पत्र को लेकर बवाल हुआ. नामाकंन पत्र ना मिलने पर समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा जमकर हंगामा किया गया. सपा प्रत्याशी और उनके समर्थक इस दौरान इकौना के ब्लॉक परिसर में जाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोकना चाहा. इस बीच दोनों पक्षों में जमकर झड़प हुई सपा कार्यकर्ताओं का आरोप है कि समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी को नामांकन पत्र दाखिल करने नहीं दिया गया, जिसके बाद उन्होंने नारेबाजी की. माहौल बिगड़ने पर पुलिस और पीएसी की तैनाती करनी पड़ी.

About bheldn

Check Also

प्रयागराज: तोड़फोड़ केस में 1000 पर FIR, छात्रों की पिटाई मामले में 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड

लखनऊ, मंगलवार को प्रयागराज में छात्रों ने नौकरी ना मिलने को लेकर जोरदार विरोध प्रदर्शन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *