चिराग से भेंट के बाद लालू की तेजस्वी को नसीहत- संभल कर करो सियासत

पटना

बिहार में राजनीतिक तापमान एक बार फिर से चढ़ने लगा है। बाहर से सबकुछ ठीक दिखने वाले भाजपा और जदयू गठबंधन के अंदरखाने में हलचल मची हुई है। दोनों दलों के नेताओं के बीच जुबानी जंग भी देखने को मिल रहा है। इसी बीच भाजपा सांसद अजय निषाद ने राज्य में कानून व्यवस्था को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा है। वहीं लोजपा सांसद चिराग पासवान ने संभावित राजनीतिक गठजोड़ को लेकर राजद नेता लालू प्रसाद यादव और तेजस्वी यादव से बात की है। चिराग से मीटिंग के बाद लालू ने तेजस्वी को संभल कर राजनीति करने की सलाह दी है।

रविवार को बिहार के मुजफ्फरपुर में जब पत्रकारों ने भाजपा सांसद अजय निषाद से राज्य के कानून व्यवस्था को लेकर सवाल पूछा तो उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को निशाने पर लेते हुए कहा कि इन दिनों अपराधियों का मनोबल बढ़ा हुआ है और पुलिस प्रशासन पर लोगों का विश्वास घटता जा रहा है। साथ ही उन्होंने कहा कि साल 2005 से नीतीश कुमार ही मुख्यमंत्री हैं और राज्य की कमान उन्हीं के हाथ में है। राज्य प्रशासन को अपराध कम करने के लिए ठीक ढंग से काम करना चाहिए।

हालांकि बाद में भाजपा सांसद अजय निषाद ने कहा कि उनके बयान का गलत अर्थ निकाला जा रहा है. अजय निषाद ने कहा कि जिनको अपराध पर लगाम लगाने की जवाबदेही दी गई है, उन्हें ही इसको ठीक करना होगा। मुख्यमंत्री के ऊपर बहुत सारी जिम्मेदारी होती है वह सभी कामों को अकेले नहीं कर सकते हैं। इसलिए अगर हर विभाग विभाग ठीक से अपना काम करे तो स्थिति ठीक हो जाएगी।

वहीं दूसरे राजनीतिक घटनाक्रम में लोजपा सांसद चिराग पासवान ने राजद नेता लालू प्रसाद यादव और उनके बेटे तेजस्वी यादव से फोन कर बात की। दरअसल राजद नेता श्याम रजक शनिवार को चिराग पासवान से मिलने पहुंचे। इस दौरान श्याम रजक ने चिराग की बात तेजस्वी और लालू से करवाई। इस मुलाकात के बाद दोनों दलों के बीच होने वाले राजनीतिक गठजोड़ की संभावना भी जताई जा रही है। पिछले दिनों भी तेजस्वी यादव ने चिराग पासवान को साथ आने के लिए कहा था। हालांकि श्याम रजक ने किसी भी राजनीतिक संभावनाओं से इंकार किया और कहा कि यह सिर्फ शिष्टाचार मुलाकात थी।

बिहार में हो रहे राजनीतिक घटनाओं को लेकर लालू ने तेजस्वी को संभल कर राजनीति करने की सलाह दी है। दरअसल मंत्रिमंडल विस्तार के बाद से ही जदयू के अंदर उलझन पैदा हो गई है। हाल ही में केंद्रीय कैबिनेट में शामिल कराए गए आरसीपी सिंह और थोड़े दिनों पहले जदयू में शामिल हुए उपेंद्र कुशवाहा के बीच सब कुछ ठीक-ठाक नहीं है। लालू प्रसाद यादव भी इस खींचतान पर नजर बनाए हुए हैं। इसी को लेकर लालू ने तेजस्वी को संभल कर राजनीति करने की सलाह दी है। साथ ही जदयू से राजद में आए श्याम रजक को अपनी पुरानी पार्टी के असंतुष्ट नेताओं से बात करने की जिम्मेवारी दी गई है।

About bheldn

Check Also

प्रयागराज: तोड़फोड़ केस में 1000 पर FIR, छात्रों की पिटाई मामले में 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड

लखनऊ, मंगलवार को प्रयागराज में छात्रों ने नौकरी ना मिलने को लेकर जोरदार विरोध प्रदर्शन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *