पंजाब: कैप्टन और सिद्धू की जंग में सुनील जाखड़ की कुर्सी की चढ़ेगी बलि?

नई दिल्ली ,

पंजाब में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच चली आ रही अंतर्कलह कांग्रेस हाईकमान के दखल के बाद अब थम गई है. कैप्टन और सिद्ध के वर्चस्व की जंग में पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ की कुर्सी की बलि चढ़ने जा रही है. कांग्रेस हाईकमान पार्टी की पंजाब इकाई में बड़ा फेरबदल करने की तैयारी में है. इसका ब्लू प्रिंट तैयार कर लिया है, जिसमें कैप्टन अमरिंदर की कुर्सी बरकरार रहेगी और सिद्धू को एडजस्ट किया जाएगा.

पंजाब में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए कांग्रेस शीर्ष नेतृत्व ने पार्टी में तीन स्तर पर बदलाव करने की रूप रेखा बनाई है. एक तो पंजाब कांग्रेस को नया अध्यक्ष दिया जाएगा और दूसरा, नवजोत सिंह सिद्धू को एडजस्ट किया जाएगा और उनको नई जिम्‍मेदारी दी जाएगी. इसके बाद पंजाब कैबिनेट में भी फेरबदल किया जाना है. कांग्रेस के महासचिव व पंजाब के प्रभारी हरीश रावत ने कहा कि पार्टी जल्द ही सुनील जाखड़ की जगह किसी अन्य को प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष नियुक्त करेगी.

हरीश रावत ने कहा है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह पद पर बने रहेंगे. रावत ने कहा कि पंजाब को जल्द ही नया पीसीसी चीफ मिलेगा और अमरिंदर सिंह की कैबिनेट में नए चेहरे होंगे. रावत ने कहा कि सीएम स्तर पर कोई बदलाव नहीं होगा. उस स्तर पर किसी ने बदलाव की मांग नहीं की. लोगों को कुछ दिक्कत थी. जिनका निराकरण किया जाएगा. साथ ही पार्टी को कई बातों को ध्यान में रखना होगा.सही व्यक्ति को सही भूमिका देनी होगी.

उन्होंने कहा कि दो-तीन दिनों के भीतर बदलाव हो रहे हैं. मुझे विश्वास था कि 8 जुलाई से पहले सब कुछ हल हो जाएगा. इसलिए मैंने घोषणा की थी कि जुलाई के पहले सप्ताह के अंत तक सब कुछ सुलझा लिया जाएगा. वहीं, माना जा रहा है कि सिद्धू के मामले में पार्टी हाईकमान ने पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह की बात मान ली है.

सुनील जाखड़ को हटाकर सिद्धू को खुश किया जा रहा है. जाखड़ की कुर्सी भले ही जा रही, लेकिन सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बनाने की कोई संभावना नहीं है. जाखड़ की जगह प्रदेश अध्यक्ष की कमान किसी हिंदू नेता को दिए जाने की संभावना है, जिसकी तरफदारी कैप्टन अमरिंदर कर रहे थे. सोनिया गांधी से मुलाकात से पहले कैप्टन ने स्पष्ट कर दिया था कि अगर पार्टी सिद्धू को अध्यक्ष बनाती है, तो पंजाब का हिंदू वर्ग कांग्रेस से छिटक सकता है.

माना जा रहा है कि पार्टी हाईकमान कैप्टन की इस बात से सहमत है कि पंजाब कांग्रेस की कमान सिख नेता के बजाय हिंदू नेता को सौंपी जाए. हरीश रावत ने कहा कि पंजाब कांग्रेस में ‘हर कोई’ खुश होगा. उन्होंने पिछले दो दिनों में सिद्धू के ट्वीट का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री के बजाय बादल को निशाना बनाने पर कहा कि यह देखा जा सकता है कि किस तरह से सिद्धू ने अपनी दिशा बदली है.

रावत ने कहा कि सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद अमरिंदर का यह बयान कि वह कांग्रेस अध्यक्ष के फैसले का पालन करेंगे, ‘एक बड़ी बात’ थी. उन्होंने कहा, ‘कैप्टन साहब की इतनी उदारता थी कि उन्होंने सिद्धू के बारे में कुछ नहीं कहा और कहा कि उन्होंने सब कुछ कांग्रेस अध्यक्ष पर छोड़ दिया है. कैप्टन साहब के कद का कोई ऐसा शब्द कहे तो बहुत बड़ी बात है. पंजाब कांग्रेस को इस हफ्ते नया अध्यक्ष मिल सकता है.

About bheldn

Check Also

प्रयागराज: तोड़फोड़ केस में 1000 पर FIR, छात्रों की पिटाई मामले में 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड

लखनऊ, मंगलवार को प्रयागराज में छात्रों ने नौकरी ना मिलने को लेकर जोरदार विरोध प्रदर्शन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *