बकरीद: असम में गाइडलाइन, मस्जिद में 5 लोगों को नमाज की इजाजत

गुवाहाटी,

असम सरकार ने कोरोना की स्थिति को देखते हुए सोमवार को नई गाइडलाइन जारी की. इसके मुताबिक, 5 जिलों में टोटल कर्फ्यू का ऐलान किया गया. यह 20 जुलाई सुबह 5 बजे से लागू रहेगा. इसके अलावा मस्जिद में धर्मगुरु समेत सिर्फ 5 लोगों को नमाज की इजाजत होगी. असम के मुख्य सचिव जिष्णु बरुआ ने आदेश जारी कहा, गोलाघाट, जोरहाट, लखीमपुर, सोनितपुर और विश्वनाथ में पूर्ण कर्फ्यू रहेगा. यह शहरी और ग्रामीण दोनों इलाकों में अगले आदेश तक जारी रहेगा.

इन जगहों पर शाम 5 बजे से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू
इसके अलावा धुबरी, कामरूप, सलमारा, माजुली, बंगाईगांव, चिरांग, उदलगुरी, कार्बी आंगलोंग, दिमा हसाओ, चराईदेव , हैलाकंडी, डिब्रूगढ़, शिवसागर, कोकराझार, बारपेटा, नालबरी, बक्सा, बाजाली, होजई, धेमाजी, करीमगंज में शाम 5 बजे से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू रहेगा. इन जगहों पर पिछले कुछ दिनों में पॉजिटिविटी रेट में कुछ सुधार आया है.

5 जिलों में रहेगा सब कुछ बंद
जिन 5 जिलों में पॉजिटिविटी रेट ज्यादा हैं, वहां सभी दुकानें, दफ्तर, बिजनेस प्रतिष्ठान, ग्रॉसरी शॉप, फल, सब्जी, डेरी, मिल्क बूथ, रेस्टोरेंट, ढाबा, शोरूम, कोल्ड स्टोरेज, वेयरहाउस अगले आदेश तक बंद रहेंगे. वहीं, जिन जिलों में पॉजिटिविटी रेट में सुधार है, वहां दोपहर 12 बजे तक दुकानें, मार्केट और अन्य प्रतिष्ठान खोले जा सकेंगे. वहीं, जहां पॉजिटिविटी रेट बेहतर हुआ है, वहां बाजार शाम 4 बजे तक खोले जा सकेंगे. इसके अलावा 5 जिलों में पब्लिक और प्राइवेट ट्रांसपोर्ट भी बंद रहेगा. हालांकि, माल की आवाजाही जारी रहेगी. वहीं, अन्य जिलों में सभी पब्लिक ट्रांसपोर्ट में कोरोना गाइडलाइन का पालन करना होगा.

5 जिलों में लोगों के इकट्ठा होने पर भी पाबंदी
टोटल कर्फ्यू वाले जिलों में लोगों के इकट्ठा होने पर पूरी तरह से रोक है. वहीं, अन्य जिलों में शादी या अंतिम संस्कार में 10 लोग शामिल हो सकेंगे. सार्वजनिक स्थानों पर मास्क अनिवार्य है. राज्य में शराब का अवैध उत्पादन और बिक्री पर भी कार्रवाई होगी.

घर पर रहकर ईद मनाने की अपील
राज्य सरकार ने लोगों से अपील की है कि वे बकरीद घर पर रहकर मनाएं. हालांकि, मस्जिद में धर्मगुरु समेत सिर्फ 5 लोगों को नमाज की इजाजत है.

About bheldn

Check Also

यूपी चुनाव : तीसरी सूची के वो ‘दलबदलू’, जिन्हें बीजेपी ने इस बार दिया है टिकट

नई दिल्ली, चुनावी मौसम में नेताओं का एक पार्टी से दूसरी पार्टी में पलायन होता …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *