किसान नहीं, मवाली: विवादित बोल पर हंगामे के बाद मिनाक्षी लेखी ने दी सफाई, वापस लिए शब्द

नई दिल्ली

कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन में जुटे लोगों को मवाली बताने वालीं मोदी सरकार की मंत्री मिनाक्षी लेखी ने अब सफाई दी है। सोशल मीडिया के साथ ही किसान नेताओं और विपक्ष की ओर से तीखी प्रतिक्रिया आने के बाद लेखी ने कहा है कि यदि उनकी बात से कोई आहत हुआ है तो वह अपने शब्द वापस लेती हैं।

मीनाक्षी लेखी ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचती में कहा, ”आज प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान, 26 जनवरी को लाल किले पर हिंसा और मीडिया कर्मी पर हमले (किसान संसद के दौरान) को लेकर प्रतिक्रिया मांगी गई थी। इसके जवाब में मैंने कहा था कि केवल मवाली, नाकि किसान इस तरह की गतिविधियों में शामिल हैं।” लेखी ने आगे कहा, ”मेरे बयान को गलत तरीके से समझा गया। फिर भी किसानों से जुड़े मेरे बयान से यदि कोई आहत हुआ, तो मैं अपने शब्द वापस लेती हूं।”

केंद्रीय मंत्री और नई दिल्ली से बीजेपी की सांसद मीनाक्षी लेखी ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान केंद्र के 3 कृषि कानूनों के खिलाफ राजधानी दिल्ली में आंदोलन कर रहे प्रदर्शनकारियों को किसान कहने पर आपत्ति जताई और उन्हें मवाली कह डाला था।

दरअसल, नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए 200 किसान मध्य दिल्ली के जंतर मंतर पर ‘किसान संसद’ में जुटे थे और वहां एक न्यूज चैनल के पत्रकार पर किसी ने हमला कर दिया। इसको लेकर जब लेखी से सावल किया गया तो तो इसके जवाब में उन्होंने कहा, ”फिर आप उन लोगों को किसान बोल रहे हैं…मवाली हैं वह लोग।” उन्होंने आगे कहा, ”मीडिया पर हमला आपराधिक गतिविधि है..जो कुछ 26 जनवरी को हुआ वह भी शर्मनाक था। वह भी आपराधिक गतिविधियां थीं और विपक्ष द्वारा ऐसी चीजों को बढ़ावा दिया गया।” इससे पहले, इसी प्रकरण से जुड़े एक अन्य सवाल पर भी आंदोलनकारियों को किसान कहने पर लेखी बिफर पड़ी।

उन्होंने कहा, ”पहली बात उन लोगों को किसान कहना बंद कीजिए। क्योंकि वह किसान नहीं हैं। वह ‘षडयंत्रकारी लोगों के हत्थे चढ़े कुछ लोग हैं जो कि किसानों के नाम पर यह ‘हरकतें कर रहे हैं।” उन्होंने कहा कि किसानों के पास इतना समय नहीं है कि वह जंतर-मंतर पर आकर धरने पर बैठे। किसान अपने खेतों में काम कर रहा है। ये आढ़तियों द्वारा चढ़ाए गए लोग हैं जो चाहते ही नहीं कि किसानों को किसी प्रकार का सीधा फायदा मिले।

About bheldn

Check Also

कर्नाटक में फिर होगा राजनीतिक उठापटक? सिद्धारमैया के दावे से कयास तेज

नई दिल्ली कर्नाटक के पूर्व सीएम और विधानसभा में विपक्ष के नेता सिद्धारमैया ने दावा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *