…जब पंजाब कांग्रेस की कमान संभालने जा रहे सिद्धू ने कैप्टन के सामने ही लगा दिया शॉट

चंडीगढ़

नवजोत सिंह सिद्धू को रिटायर हुए 22 साल हो चुके हैं। 1999 में जब क्रिकेट खेलना छोड़ा, तब तक सिद्धू की अलग पहचान बन चुकी थी। स्पिनर्स की गेंदों को कूटने के लिए मशहूर सिद्धू ने राजनीति में आने के बाद भी बैटिंग का वही तरीका अपनाए रखा। पंजाब की राजनीति में जिस तरह सिद्धू ने की पारी खेली है, वह ठीक उसी अंदाज को जाहिर करती है। सिद्धू क्रिकेट नहीं भूले, बल्‍लेबाजी नहीं भूले।

आज भी राजनीति का दांव जब चलता है तो उन्‍हें अपने शॉट याद आ जाते हैं। शुक्रवार को कुछ ऐसा ही हुआ। सिद्धू ने बल्‍ला घुमाने की अदा दिखाई तो मंच पर मुख्‍यमंत्री अमरिंदर सिंह भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की मौजूदगी में नवजोत सिंह सिद्धू ने कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष पद का कार्यभार संभाला। अमरिंदर और सिद्धू के बीच अब सब कुछ ‘ठीक’ हो गया है, ऐसा राहुल गांधी भी कह चुके हैं।

हुक या पुल? सिद्धू का स्‍टाइल अलग है
जगह थी पंजाब कांग्रेस का भवन। लंबे संकट के बाद इस जगह की रौनक अलग लग रही थी। अमरिंदर सिंह ने आज पार्टी के विधायकों, सांसदों और राज्य के वरिष्ठ पदाधिकारियों को चाय पर बुलाया था। सिद्धू और अमरिंदर के बीच लंबे वक्‍त से चले आ रहे झगड़े का ‘खात्‍मा’ हो रहा था। एक सभा भी बुलाई गई। मंच पर अमरिंदर भी बैठे थे। इससे पहले दोनों की आपस में गुफ्तगू की तस्‍वीरें भी आ चुकी थीं।

सिद्धू को बोलने के लिए बुलाया गया तो पहले उन्‍होंने हाथ मले और फिर उठ खड़े हुए। सिद्धू को पंजाब का ‘बब्‍बर शेर’ कहकर पुकारा गया। सिद्धू ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को सलाम किया और फिर अपना पसंदीदा शॉट खेल दिया।

सिद्धू और सिंह के बीच काफी समय से टकराव की खबरें आ रही थीं। पंजाब कांग्रेस के भवन में दोनों नेता एक-दूसरे के बगल में बैठे। पिछले करीब चार महीनों में पहली बार दोनों की मुलाकात हुई है। साथ में मनीष तिवारी, प्रताप सिंह बाजवा और लाल सिंह भी मौजूद थे।

About bheldn

Check Also

दर्दनाक हादसाः ट्रेन की चपेट में आने से महिला और 3 बच्चों की मौत

डुमरांव (बक्सर) पटना-मुगलसराय (पीडीडीयू) रेलखंउ के डुमरांव रेलवे स्टेशन के पश्चिमी रेलवे गुमटी और नहर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *