सोना तस्करी रोकने की जिम्मेदारी केंद्र की, राज्‍यों का इससे कोई लेना-देना नहीं, बोले केरल CM

तिरुवनंतपुरम

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने बुधवार को कहा कि सोने की तस्करी के रैकेट पर नकेल कसने का अधिकार और जिम्मेदारी पूरी तरह से केंद्र और उसकी एजेंसियों के पास है और राज्य सरकार का इससे कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने विधानसभा में शून्यकाल में बताया कि सीमा शुल्क और हवाई अड्डा सुरक्षा राज्य के अधिकार क्षेत्र में नहीं आते हैं। विजयन कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्षी यूडीएफ की ओर से पेश स्थगन प्रस्ताव का जवाब दे रहे है।

प्रस्ताव में सोने की तस्करी के एक मामले में गड़बड़ी करने के प्रयास का आरोप लगाया गया है, जिसमें सत्तारूढ़ सीपीएम की युवा शाखा डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया (डीवाईएफआई) के स्थानीय नेता कथित तौर पर शामिल हैं। करीपुर सोना तस्करी मामले में मुख्य आरोपी के दोस्त रमीज के सी की मौत पर विपक्ष ने संदेह जताया है। मामले के संबंध में पूछताछ के लिए सीमा शुल्क विभाग के बुलाए जाने के तुरंत बाद सड़क दुर्घटना के बाद अर्जुन अयंकी की मौत हो गई थी।

‘सिर और पसलियों में चोट की वजह से गई अयंकी की जान’
अयंकी की मौत को रहस्यमय बताने के विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि चिकित्सा रिपोर्ट में दुर्घटना में सिर और पसलियों में गंभीर चोट के कारण उनकी जान जाने की बात कही गई है। उन्होंने कहा कि पुलिस के अनुसार प्रथम दृष्टया यह दुर्घटना में मौत का मामला प्रतीत होता है। बिना हेलमेट पहने बाइक सवार रमीज ने लापरवाही से अपने वाहन को मोड़ा और अयंकी की कार में टक्कर मार दी।

‘सोने की तस्‍करी में हमारी सरकार का कोई रोल नहीं’
हवाई अड्डों के जरिये सोने के अवैध तस्‍करी में स्थानीय पार्टी कार्यकर्ताओं की कथित संलिप्तता पर उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का इससे कोई लेना-देना नहीं है क्योंकि सीमा शुल्क केंद्र का विषय है। विजयन ने विपक्ष को याद दिलाया, ‘केंद्र सरकार के पास सीमा शुल्क का भुगतान किए बिना हवाई अड्डों से वस्तुओं के ट्रांसफर को रोकने का पूरा अधिकार और जिम्मेदारी है। सीमा शुल्क संविधान की सातवीं अनुसूची की संघ सूची के अंतर्गत आता है।’

About bheldn

Check Also

चरणजीत सिंह चन्नी, नवजोत सिंह सिद्धू , सुनील जाखड़ में कौन होगा CM उम्मीदवार?

पंजाब में 20 फरवरी को मतदान होगा। सभी पार्टियों जोर-शोर से तैयारियों में जुटी हुई …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *