कर्नाटक में BJP ने जताया ‘बाहरी’ पर भरोसा, यहां बना चुकी है CM-मंत्री

नई दिल्ली

हाल के दिनों में भारतीय जनता पार्टी (BJP) का बदला हुआ अंदाज देखने को मिल रहा है। पार्टी प्रमुख पदों पर दूसरी पार्टी से आए लोगों को मौका दे रही है। हाल ही में असम में कांग्रेस से आए हिमंत बिस्व सरमा पर भरोसा जताते हुए मुख्यमंत्री की गद्दी सौंप दी थी। अब कर्नाटक में बसवराज बोम्मई को येदियुरप्पा का राजनीतिक उत्तराधिकारी घोषित कर फिर एकबार दूसरे दलों से आए नेताओं पर भरोसा जताया है।

28 जनवरी, 1960 को जन्मे बसवराज बोम्मई लिंगायत समुदाय से आते हैं। वह बीएस येदियुरप्पा के करीबी हैं और ‘जनता परिवार’ से ताल्लुक रखते हैं। वह पूर्व मुख्यमंत्री एसआर बोम्मईक के बेटे हैं। बसवराज बोम्मई 2008 में भाजपा में शामिल हुए और तब से पार्टी में उनका रैंक बढ़ता गया। इससे पहले वह जनता दल (यूनाइटेड) के सदस्य थे। बोम्मई 1998 और 2008 के बीच कर्नाटक विधान परिषद के सदस्य भी रह चुके हैं। पेशे से इंजीनियर बोम्मई ने अपने करियर की शुरुआत टाटा समूह से की थी।

सरमा से पहले अर्जुन मुंडा, बीरेन सिंह बन चुके हैं सीएम
हाल में असम में हिमंत बिस्व सरमा को नया मुख्यमंत्री तय कर भाजपा ने दूसरे दलों से पार्टी में आने वाले नेताओं के लिए नया रास्ता खोल दिया। पूर्वोत्तर के छोटे राज्यों को छोड़ दिया जाए तो अधिकांश बड़े राज्यों में भाजपा नेतृत्व मुख्यमंत्री पद के लिए अपने काडर से आने वाले या गैर कांग्रेसी पृष्ठभूमि के नेताओं को ही आगे बढ़ाता रहा है, लेकिन असम से उसकी यह हिचक टूटी है। दरअसल, पार्टी अब काडर व सामाजिक समीकरण से ज्यादा काबिलियत को अहमियत दे रही है। हालांकि इससे पहले पार्टी ने अर्जुन मुंडा को झारखंड में सीएम बनाया था, जो बीजेपी से पहले जेएमएम में थे। वहीं,2016 में कांग्रेस से बीजेपी में आए एन बीरेन सिंह अगले ही हसाल मणिपुर में सीएम बने थे।

TMC से आए शुभेंदु अधिकारी को सौंपी बंगाल की कमान
पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों से तृणमूल कांग्रेस (TMC) छोड़ बीजेपी में शामिल हुए शुभेंदु अधिकारी के बारे में किसी ने शायद ही यह अंदाजा लगाया होगा कि भगवा पार्टी उन्हें विधानसभा में विधायक दल के नेता की जिम्मेदारी सौंप देगी। ऐसा इसलिए, क्योंकि भाजपा का ट्रेंड रहा है कि वह महत्वपूर्ण पदों के लिए अपने काडर पर ही भरोसा करती है।

सिंधिया को बनाया कैबिनेट मंत्री
हाल ही में हुए मोदी कैबिनेट के विस्तार में कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए ग्वालियर राजघराने से ताल्लुक रखने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया को मंत्री बनाया गया है। सिंधिया को नागरिक उड्डयन मंत्रालयकी जिम्मेदारी दी गई। एक खास बात यह भी है कि इसी मंत्रालय की जिम्मेदारी कभी ज्योतिरादित्य सिंधिया के पिता माधव राव सिंधिया भी संभाल चुके हैं। कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार को पिछले साल मार्च में गिराकर शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में भाजपा सरकार की 15 महीने बाद वापसी कराने में ज्योतिरादित्य सिंधिया की अहम भूमिका रही थी। तभी से उनके प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मंत्रिपरिषद में जगह मिलने की चर्चाएं चल रही थी, लेकिन करीब सवा साल के इंतजार के बाद यह मौका आया।

मोदी-शाह के युग में हुआ यह बदलाव
साल 2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने और उसके बाद अमित शाह के हाथ में पार्टी की कमान आने के बाद भाजपा में कई बड़े बदलाव सामने आए हैं। भाजपा ने बीते छह-सात साल में अपना राष्ट्रव्यापी विस्तार किया है। इस दौरान वह देश और दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी (सदस्य संख्या के हिसाब से) बनने में सफल भी रही है। देश के हर राज्य और केंद्र शासित प्रदेश तक उसकी व्यापक पहुंच बनी है। इस प्रक्रिया में उसके साथ दूसरे दलों से बड़ी संख्या में आए प्रमुख नेता और कार्यकर्ता भी जुड़े हैं।

About bheldn

Check Also

MP: करोड़ों के कर्ज से दबे युवक ने दी जान, सुसाइड से पहले वीडियो में कही यह बात

खंडवा मध्य प्रदेश के खंडवा में एक युवक की आत्महत्या की खबर ने हंगामा मचा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *