कांग्रेस के मिशन 2024 में कैसे फिट होंगे PK? राहुल ने वरिष्ठ नेताओं संग किया मंथन

नई दिल्ली,

मिशन 2024 के लिए कांग्रेस पार्टी व्यापक स्तर पर मंथन कर रही है. इस बीच कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने हाल ही में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ एक अहम बैठक की, जिसमें उन्होंने राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर की पार्टी में एंट्री की संभावनाओं पर चर्चा की. ये अहम बैठक 22 जुलाई को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई, जिसमें कमलनाथ, मल्लिकार्जुन खड़गे, एके एंटनी, अजय माकन, आनंद शर्मा, हरीश रावत, अंबिका सोनी, केसी वेणुगोपाल जैसे पार्टी के बड़े नेता शामिल हुए.

सूत्रों के मुताबिक, राहुल गांधी ने इस दौरान सभी नेताओं से उनकी और प्रशांत किशोर के बीच हुई मुलाकात का ज़िक्र किया. इसमें प्रशांत किशोर ने उनके सामने जो प्लान रखा, उसके बारे में बात की गई.बैठक में शामिल होने वाले एक वरिष्ठ नेता ने आजतक को बताया कि राहुल गांधी ने प्रशांत किशोर के पार्टी में शामिल होने पर भी चर्चा की, यानी सिर्फ एडवाइज़र ना होकर एक पार्टी सदस्य के रूप में काम करने को लेकर. बैठक में इस कदम के नफे-नुकसान को भी मापा गया.

‘PK का साथ आना फायदेमंद, लेकिन…’
बैठक से जो निष्कर्ष सामने आया है, उसके मुताबिक प्रशांत किशोर का पार्टी में आना फायदेमंद हो सकता है लेकिन उनका रोल तय होना चाहिए. जदयू के साथ रहे पीके के सफर को देखते हुए कांग्रेस पार्टी अपने यहां उनके रोल पर कुछ बाउंड्री तय कर सकती है.

बैठक में शामिल एक अन्य नेता के मुताबिक, ‘ये वो वक्त है जब नए आइडिया, रणनीति लाई जानी चाहिए. अगर प्रशांत किशोर को पार्टी में लाया जाता है, तो कोई नुकसान नहीं होगा, वह कैसे आएंगे इसपर चर्चा की जा सकती है. कांग्रेस के पास काफी टैलेंट है, अगर बेहतरी के लिए कुछ बदलाव होता है तो हमें सीखना चाहिए.’

हालांकि, इस मसले पर अभी तक कांग्रेस या प्रशांत किशोर की ओर से कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है. बता दें कि बंगाल चुनाव में जीत के बाद प्रशांत किशोर राष्ट्रीय स्तर पर काम करने में जुटे हैं. हाल ही में उन्होंने राहुल गांधी, प्रियंका गांधी से मुलाकात की थी. जिसमें 2024 चुनाव से पहले कांग्रेस को फिर से खड़ा करने पर मंथन हुआ था.

About bheldn

Check Also

विरोध में खड़े हैं कई राज्य… आईएएस कैडर नियमों में फिर भी बदलाव क्यों कर रही केंद्र सरकार?

नई दिल्ली आईएएस प्रतिनियुक्ति नियमों में केंद्र के प्रस्तावित संशोधन पर विरोध के बीच सूचना …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *