बिहार में ये कैसी शराबबंदी? जहरीली शराब से 7 महीने में 30 की मौत

पटना

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में जहरीली शराब का पीने से शनिवार तक कुल आठ लोगों की मौत हो चुकी है। नीतीश सरकार ने शराबबंदी को लेकर राज्य में कड़े कानून बना रखे हैं, उसके बावजूद भी शराब की तस्करी धड़ल्ले से हो रही है। हालांकि पुलिस ने इस दौरान भारी मात्रा में अवैध शराब को बरामद भी किया है। आंकड़ों पर गौर करे तो मार्च 2021 से लेकर अब तक जहरीली शराब पीने से 30 लोगों की मौत हो चुकी है।

बता दें कि इसी साल नवादा शहरी इलाके में होली के दौरान कथित जहरीली शराब पीने से 15 लोगों की मौत हो गई थी। मृतकों द्वारा होली के दौरान नवादा में तैयार की गयी जहरीली शराब पी गई थी। शराब पीने के बाद से इनकी हालत बिगड़ने लगी और 31 मार्च से 02 अप्रैल 2021 के बीच अलग-अलग जगहों पर इलाज के क्रम में इनकी मौत हो गयी। शराब पीने से चार अन्य लोगों के आंखों की रोशनी चली गयी थी। पुलिस के मुताबिक प्रथम दृष्टया जांच में इनके नकली शराब पीने से मौत हुई थी। मृतकों ने डिनेचर्ड (विकृत) स्पिरिट से बनी घातक शराब का सेवन किया था।

वहीं इसी महीने सीवान जिले के गुठनी थाना क्षेत्र में शराब पीने से छह लोगों की मौत हो गयी। छह लोगों के मरने की सूचना के बाद पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया। इस मामले को लेकर ने बयान दिया था कि जहरीली शराब से आंखों की रोशनी तत्काल चली जाती है लेकिन ऐसा नहीं हुआ। वहीं मृतकों के परिजनों ने कहा था कि जहरीली शराब पीने से ही उनकी मौत हुई है। इसके अलावा वैशाली में अक्टूबर के महीने में जहरीली शराब से एक व्यक्ति की मौत हो गई थी।

About bheldn

Check Also

यूपी चुनाव : तीसरी सूची के वो ‘दलबदलू’, जिन्हें बीजेपी ने इस बार दिया है टिकट

नई दिल्ली, चुनावी मौसम में नेताओं का एक पार्टी से दूसरी पार्टी में पलायन होता …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *