पाकिस्तान की राह पर ड्रैगन,चीनी NSA ने भी किया डोभाल की बैठक से किनारा

नई दिल्ली

पाकिस्तान के बाद अब चीन ने अफगानिस्तान के मुद्दे को लेकर दिल्ली में 10 नवंबर को होने वाली एनएसए की बैठक में शामिल होने से इनकार कर दिया है। बैठक में शामिल नहीं होने का जवाब देते हुए चीन ने कहा कि वह ‘शेड्यूलिंग मुद्दे’ की वजह से हिस्सा लेने में असमर्थ है। वहीं, सूत्रों ने कहा कि चीन ने भारत को अवगत करा दिया है कि वह अफगानिस्तान के मुद्दे पर भारत के साथ बहुपक्षीय और द्विपक्षीय रूप से बातचीत के लिए तैयार है। बता दें दिल्ली में होने वाली इस क्षेत्रीय सुरक्षा वार्ता की अगुवाई राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल करेंगे। चीन से पहले पाकिस्तान ने भी इस बैठक में शामिल होने से इनकार कर दिया था।

बैठक में शामिल नहीं होने के लेकर सूत्रों ने कहा था कि पाकिस्तान का यह फैसला दुर्भाग्यपूर्ण है, लेकिन आश्चर्यजनक नहीं है, यह अफगानिस्तान को उसकी कठपुतली के रूप में देखने की उसकी मानसिकता को दर्शाता है। अफगानिस्तान को लेकर होने वाली इस बैठक में शामिल होने के लिए ईरान, रूस, उज्बेकिस्तान, कजाकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान, ताजिकिस्तान और किर्गिस्तान ने शामिल होने की पुष्टि की है।

बातचीत में अफगानिस्तान के शामिल न होने को लेकर सूत्रों ने कहा कि आठ में कोई भी देश तालिबान सरकार को मान्यता या वैधता नहीं देते हैं। भारत ने भी नहीं दी है इसलिए उसने अफगानिस्तान को इसमें आमंत्रित नहीं किया है। इससे पहले ईरान ने साल 2018 और 2019 में इसी तरह की बैठकों की मेजबानी की थी।

तब भी पाकिस्तान किसी में शामिल नहीं हुआ था, लेकिन चीन शामिल हुआ था। इस बैठक में शामिल होने वाले एनएसए संयुक्त रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे। अफगानिस्तान को लेकर होने वाली बैठक से पहले अजीत डोभाल ने मंगलवार को अपने समकक्ष उज्बेकिस्तान और ताजिकिस्तान के साध द्विपक्षीय वार्ता करेंगे।

About bheldn

Check Also

यूपी में फिर योगी सरकार बनी तो पलायन कर लूंगा…. मुनव्वर राना बोले, हालात ठीक नहीं

लखनऊ उत्तर प्रदेश चुनाव के प्रथम चरण का मतदान 10 फरवरी को है। ऐसे में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *