बनारसी साड़ी पर महंगाई की मार, 25% तक दाम बढ़ाने का ऐलान!

वाराणसी ,

बढ़ती महंगाई के असर से अब देश दुनिया में अपनी पहचान के लिए मशहूर बनारसी साड़ी भी अछूती नहीं है. जिसके चलते बुनकरों ने महापंचायत बुलाकर अपनी मजदूरी और साड़ियों की कीमत बढ़ाने का फैसला लिया है. दरअसल, वाराणसी के नाटी इमली के बुनकर कॉलोनी में बुनकर महापंचायत हुई. इसमें बुनकरों ने मजदूरी में 20% तो स्थानीय और घरेलू बाजार में बनारसी साड़ी और वस्त्रों की बिक्री के दाम में 25% इजाफा करने का फैसला लिया है. महापंचायत को सफल बनाने के लिए बुनकरों ने आज अपने करघों को भी बंद रखा था.

यह महापंचायत वाराणसी के नाटी इमली के बुनकर कॉलोनी के बाकराबाद मैदान में मुत्ताहिदा बुनकर बिरादराना तंजीम बनारस ने संपन्न कराया. महापंचायत को सफल बनाने के लिए पहले से ही आज वाराणसी में मुर्री बंद यानी बुनकरों ने अपने करघों को बंद कर दिया था. महापंचायत में बुनकरों के सभी सरदार के साथ उनके अगुवा भी मंच पर मौजूद थे. जिन्होंने एक साथ यह फैसला लिया. इस दौरान बुनकर तंजीम चौदहो के सरदार मकबूल हसन साहब ने बताया कि हमारे बुनकरों भाईयों के आगे रोजी-रोटी का मसला आ चुका है.

मजदूरी कम मिलने की वजह से बहुत सारे बुनकर पलायन कर गए. इस उघोग को बचाने के लिए पिछले दो माह से कोशिश की जा रही है कि इस पलायन को कैसे रोका जाए और इस उघोग को कैसे बचाया जाए? जिसके बाद सभी सरदारों ने मिलकर फैसला लिया है कि बुनकरों की मजदूरी को बढ़ाया जाए. उन्होंने बताया कि उनके नबीयों की वजह से यह उघोग मिला है, न कि सरकार की किसी तरह की मदद मिली है. यह कारोबार हमारा है और सरकार ने आजतक किसी तरह की मदद नहीं की है. महंगाई की वजह से पालन पोषण नहीं हो पा रहा है. इसलिए निर्णय लिया गया है कि मजदूरी बढ़नी चाहिए. जिसपर आज महापंचायत में मुहर लग गई.

About bheldn

Check Also

कर्मचारियों को फ्लैट-मर्सिडीज गिफ्ट करने वाले सावजी ढोलकिया को भी पद्म सम्मान

नई दिल्ली भारत सरकार की तरफ से हर साल गणतंत्र दिवस के मौके पर कुछ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *