किसान आंदोलन के एक साल पर सिंघु बॉर्डर पर दिखा भिंडरावाले का बैनर, उठ रहे सवाल

नई दिल्ली

केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध किसानों के प्रदर्शन का एक साल पूरा होने के उपलक्ष्य में शुक्रवार को दिल्ली की तीनों सीमाओं- सिंघु बॉर्डर, टीकरी बॉर्डर और गाजीपुर बॉर्डरों पर उत्सव जैसा माहौल नजर आया। इन प्रदर्शन स्थल पर आज वैसी ही भीड़ दिखी जैसी कि आंदोलन के शुरू के दिनों में हुआ करती थी। इसी बीच, आज सिंघु बॉर्डर पर जरनैल सिंह भिंडरावाले का बैनर देखा गया। पंजाबी भाषा में लिखे पोस्टर पर भिंडरावाले का फोटो छपा है। इस बैनर के सामने आने के बाद आंदोलन पर सवाल उठने लाजिमी हैं।

जानकारी के अनुसार, प्रदर्शन स्थल पर ट्रैक्टरों, पंजाबी और हरियाणवी गीत-संगीत के साथ प्रदर्शनकारी किसान बेहद खुश नजर आ रहे थे। रंग-बिरंगी पगड़ी पहने किसान लंबी दाढ़ी को संवारते और मूंछों पर ताव लगाते नजर आए तथा ट्रैक्टरों पर जमकर डांस किया। उन्होंने मिठाइयां बांटी और एक-दूसरे को गले लगाया। यह अवसर किसी बड़े त्योहार की तरह लग रहा था। इनमें से हजारों किसान पिछले कुछ दिनों में पहुंचे हैं, जिनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने की घोषणा किए जाने के बाद गजब का उत्साह है।

पिछले एक साल में प्रदर्शन स्थल एक अस्थायी नगर बन गया है, जहां सभी बुनियादी सुविधाएं मौजूद हैं। ढोल नगाड़ों की थाप के बीच अपने-अपने किसान संगठनों के झंडे लिए बच्चे और बुजुर्ग, स्त्री और पुरुष ‘इंकलाब जिंदाबाद’ तथा ‘मजदूर किसान एकता जिंदाबाद’ के नारे लगाते नजर आए।

किसानों के प्रदर्शन के एक साल पूरा होने के मौके पर शुक्रवार को दिल्ली-उत्तर प्रदेश सीमा पर स्थित गाजीपुर में ट्रैक्टरों के साथ बड़ी संख्या में किसान पहुंच गए। पश्चिमी उत्तर प्रदेश का एक प्रभावशाली किसान संगठन भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) पिछले साल नवंबर से गाजीपुर सीमा पर मोर्चा संभाल रहा है। भाकियू, संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) का हिस्सा है। किसानों का यह समूह तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को वापस लेने और फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानूनी गारंटी के लिए प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहा है

About bheldn

Check Also

6 महीने बाद 30 फीसदी लोगों की खत्म हो गई कोविड टीके से मिली इम्यूनिटी: रिसर्च

नई दिल्ली, आपने कोरोना की वैक्सीन ली है तो आपके शरीर में इम्यूनिटी कब तक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *