भारत पहुंचा कोरोना के नए अफ्रीकी रूप का खौफ, शेयर बाजार में 2 घंटे में साढ़े 6 लाख करोड़ उड़े

आज शेयर बाजार भारी गिरावट के साथ खुले हैं। सेंसेक्स में आज ऐसा भी वक्त आया जब गिरावट 1600 अंकों से भी अधिक हो गई। निफ्टी भी 500 अंकों से अधिक फिसल गया। इतनी बड़ी गिरावट की वजह है कोरोना वायरस का एक नया वैरिएंट, जिसकी वजह से पूरी दुनिया में खलबली मच गई है। इसी वजह से शेयर बाजार में भारी गिरावट आई और चंद घंटों में ही निवेशकों के करीब 6.55 लाख करोड़ रुपये स्वाहा हो गए। सेंसेक्स का मार्केट कैपिटलाइजेशन 265.66 लाख करोड़ रुपये से घटकर 259.11 लाख करोड़ रुपये हो गया।

सेंसेक्स-निफ्टी का ये रहा हाल
आज सेंसेक्स 541 अंकों की भारी गिरावट के साथ 58,254.79 अंकों के स्तर पर खुला और ये गिरावट देखते ही देखते बढ़ती चली गई। हालात ये हो गए सेंसेक्स 1400 अंकों से भी अधिक गिर गया। दिन के कारोबार में सेंसेक्स ने 57,307 अंकों का न्यूनतम स्तर छू लिया, वहीं सेंसेक्स अपने ओपनिंग लेवल से ऊपर नहीं जा सका।

वहीं दूसरी ओर निफ्टी का भी हाल कुछ ऐसा ही रहा। गुरुवार को 17,536.25 के स्तर पर बंद हुआ निफ्टी आज करीब 198 अंकों की गिरावट के साथ 17,338.75 अंकों पर खुला। बाद के कारोबार में ये गिरावट और बढ़ी और देखते ही देखते बाजार 17,088 के स्तर तक गिर गया। यानी निफ्टी में 350 अंकों से भी अधिक की गिरावट देखने को मिली।

क्या है कोरोना का नया वैरिएंट?
दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस के एक नए वेरियेंट B.1.1.529 का पता लगने के बाद भारत सतर्क हो गया है। केंद्र सरकार ने राज्यों को सतर्कता बढ़ाने की हिदायत दी है। द. अफ्रीक, बोत्सवाना के अलावा हॉन्ग कॉन्ग में भी बी.1.1.529 वेरियेंट के मरीज मिल रहे हैं। बी.1.1.529 वेरियेंट काफी घातक साबित हो रहा है। ऐसे में भारत के शेयर बाजार पर भी इसका बुरा असर देखा जा रहा है।

अफ्रीकी देशों की फ्लाइट्स पर रोक शुरू
दुनियाभर के विशेषज्ञ इस वेरियेंट को बड़ा खतरा मान रहे हैं। यही कारण है कि अफ्रीकी देशों की फ्लाइट रोकने का सिलसिला शुरू हो गया है। इजरायल ने सात अफ्रीकी देशों से आने-जाने पर पाबंदियां लगा दी हैं। इजरायल सरकार ने द. अफ्रीका, लेसेथो, बोत्सवाना, जिम्बाब्वे, मोजांबिक, नामीबिया और एस्वातिनी जैसे देशों को रेड लिस्ट में डाल दिया है। वहीं, यूके ने छह अफ्रीकी देशों से आवाजाही पर रोक लगा दी है। वहां की सरकार ने इन देशों की सभी फ्लाइट रोक दी है।

लॉकडाउन का भी सता रहा डर
कोरोना का नया वैरिएंट सामने आने के बाद अब लोगों को फिर से लॉकडाउन का डर सता रहा है। ऐसे में यूरोपियन देशों ने तो कोविड-19 बूस्टर वैक्सिनेशन को बढ़ाना भी शुरू कर दिया है। साथ ही नियमों में सख्ती भी शुरू कर दी गई है। स्लोवाकिया ने तो दो हफ्तो के लॉकडाउन की घोषणा भी कर दी है। चेक रिपब्लिक ने जल्द ही बार को बंद करने के फैसला किया है। वहीं जर्मनी में कोरोना से होने वाली मौतों की संख्या 1 लाख से अधिक हो गई है।

एफआईआई कर रहे बिकवाली
फॉरेन पोर्टफोलियो निवेशक ने शेयर बाजार में बिकवाली शुरू कर दी है। एनएसई के आंकड़ों के मुताबिक एफआईआई ने करीब 2300 करोड़ के शेयर बेचे हैं। वहीं दूसरी ओर डीआईआई इस बिकवाली की तुलना में बहुत ही कम खरीदारी कर रहे हैं, जिसके चलते गिरावट बढ़ती जा रही है। इसके चलते भी निवेशकों में डर बढ़ रहा है और वह तेजी से अपने पैसे निकाल रहे हैं।

About bheldn

Check Also

फिर लौटेगा ब्लैक फंगस? मुंबई में पहला मरीज मिलने के बाद क्या बोले एक्सपर्ट

नई दिल्ली, भारत में ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों के साथ कई लोगों को म्यूकरमाइकोसिस यानी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *