सर्दी-जुकाम इग्‍नोर न करें, ओमीक्रोन हो सकता है! लक्षण बता रहे कैसे दुनिया में आया वायरस

नई दिल्‍ली

‘ओमीक्रोन’ वेरिएंट काफी तेजी से फैलता है, मगर इसके लक्षण बाकी वेरिएंट्स की तुलना में हल्‍के हैं। ऐसा क्‍यों है? एक स्‍टडी की मानें तो वायरस अपने आप को ‘इंसानों जैसा’ लुक देने की कोशिश कर रहा है। यह म्‍यूटेशन का नतीजा है। रिसर्चर्स के अनुसार, म्‍यूटेशन के दौरान इसने किसी और वायरस, शायद आम सर्दी वाले वायरस के जेनेटिक मैटीरियल का कुछ हिस्‍सा ले लिया। कैम्ब्रिज के वेंकी सौंदर्यराजन की अगुवाई में हुई स्‍टडी के अनुसार, यह म्‍यूटेशन किसी ऐसी कोशिका में हुआ जो SARS-CoV-2 और आम सर्दी वाले वायरस, दोनों को होस्‍ट कर सकती है।

इस म्‍यूटेशन का मतलब क्‍या है?
रिसर्चर्स के मुताबिक, इसका मतलब यह कि वायरस तेजी से फैल सकता है, मगर बीमारी हल्‍की होगी या फिर एसिम्‍पटोमेटिक रहेंगे। ओमीक्रोन की खासियतें इशारा करती हैं कि यह वायरल रीकॉम्बिनेशन का नतीजा है, जो कि दो अलग-अलग वायरसों के एक ही होस्‍ट सेल में इंटरऐक्‍ट करने को कहते हैं। इसी दौरान वह अपनी कॉपी बनाते रहते हैं, इसी में वैसी कॉपियां भी बनती हैं जिनमें दोनों ‘पैरंट वायरस’ के जेनेटिक मैटीरियल होते हैं।

ओमीक्रोन अस्तित्‍व में कैसे आया?
स्‍टडी के अनुसार, ओमीक्रोन का म्‍यूटेशन ऐसे किसी व्‍यक्ति में हुआ होगा जो दोनों पैथोजेंस से संक्रमित था। SARS-CoV-2 के एक रूप से दूसरे वायरस का जेनेटिक सीक्‍वेंस पकड़ लिया और इसी के चलते ओमीक्रोन का जेनेटिक सीक्‍वेंस पहले के रूपों से मेल नहीं खाता। न ही उसके संक्रमण से हुए कोविड के लक्षण वायरस के पिछले वेरिएंट्स से मैच करते हैं।

यही जेनेटिक सीक्‍वेंस कई बार एक ऐसे कोरोना वायरस (HCoV-229E) में बार-बार नजर आता है जो आम सर्दी देता है। सौंदर्यराजन के अनुसार, ऐसा ही जेनेटिक सीक्‍वेंस AIDS देने वाले HIV वायरस में भी दिखता है। दक्षिण अफ्रीकी वैज्ञानिकों ने पहले इशारा किया था ओमीक्रोन शायद ऐसे इंसान के शरीर में पनपा जिसका इम्‍युन सिस्‍टम HIV या इम्‍युन सिस्‍टम को कमजोर करने वाली किसी अन्‍य बीमारी से पीड़‍ित था।

कई सवालों के जवाब नहीं
अभी उन सवालों के जवाब नहीं मिले हैं कि ओमीक्रोन डेल्‍टा से ज्‍यादा संक्रामक है या नहीं, क्‍या यह गंभीर बीमारी देता है या फिर यह डेल्‍टा की जगह दुनिया में सबसे ज्‍यादा फैलने वाला वेरिएंट बन जाएगा। इनके जवाब जानने के लिए रिसर्च चल रही है।

About bheldn

Check Also

वैक्‍सीनेशन कितना जरूरी? तीसरी लहर में जिनकी मौत उनमें 60% को या तो कोई टीका नहीं या एक डोज

नई दिल्ली कोविड-19 महामारी की मौजूदा लहर के दौरान मरने वालों में 60 फीसदी लोग …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *