महाराष्ट्र: पिता की कुर्सी छीन ली, क्या बेटे आदित्य की विधायकी भी छीन लेंगे शिंदे?

मुंबई,

महाराष्ट्र में शिवसेना के अंदर सियासी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है. विधानसभा में बीजेपी विधायक राहुल नार्वेकर के स्पीकर चुने जाने के बाद अब शिंदे गुट की ओर से उद्धव गुट के विधायकों को अयोग्य करार देने की मांग की गई है. इसको लेकर शिंदे गुट के चीफ व्हिप भारत गोगावाले ने नए स्पीकर से शिकायत की है.

इस शिकायत में शिंदे गुट की ओर से कहा गया है कि आदित्य ठाकरे समेत 16 विधायकों ने व्हिप का उल्लंघन किया है. इसलिए इनकी सदस्यता रद्द की जाए. शिंदे गुट की ओर से की गई शिकायत के बाद ऐसा लगता है कि उद्धव ठाकरे की कुर्सी के बाद एकनाथ आदित्य ठाकरे की विधायकी भी छीन लेंगे. शिंदे की ओर से हुई मांग पर नवनिर्वाचित विधानसभा अध्यक्ष उद्धव गुट के 16 विधायकों को नोटिस जारी कर सकते हैं.

उद्धव गुट की ओर से भी शिकायत
इधर शिवसेना उद्धव गुट की ओर से भी शिंदे गुट के विधायकों के खिलाफ विधानसभा स्पीकर से शिकायत की गई है. मुख्य सचेतक सुनील प्रभु की ओर से मांग की गई है कि इन बागी विधायकों की विधानसभा सदस्यता रद्द की जाए. उद्धव गुट की ओर से कहा गया है कि इन विधायकों को व्हिप जारी किया गया था. इसके बावजूद इन विधायकों ने पार्टी लाइन से बाहर जाकर काम किया है.

शिवसेना के दोनों गुटों ने जारी किया था व्हिप
महाराष्ट्र विधानसभा में रविवार को स्पीकर का चुनाव हुआ था, जिसमें बीजेपी और शिंदे गुट की ओर से राहुल नार्वेकर को मैदान में उतारा गया था. वहीं महाविकास अघाड़ी की ओर से शिवसेना उद्धव गुट के विधायक राजन साल्वी मैदान में थे. शिवसेना के दोनों ही गुटों की ओर से वोटिंग के लिए व्हिप जारी किया गया था. उद्धव गुट के विधायक सुनील प्रभु ने शिवसेना के सभी विधायकों को राजन साल्वी को वोट देने के लिए व्हिप जारी किया था. वहीं शिंदे गुट की ओर से भरत गोगावले ने राहुल नार्वेकर को वोट देने के लिए.

17 विधायकों ने नहीं डाला वोट
स्पीकर का चुनाव जीतने के लिए 144 वोट चाहिए थे, लेकिन राहुल नार्वेकर को 164 वोट मिले, जबकि MVA उम्मीदवार को 107 वोट मिले हैं. इस चुनाव में 17 विधायकों ने वोट नहीं डाला था. वहीं अब ऐसा लग रहा है कि शिंदे गुट का स्पीकर चुने जाने के बाद उद्धव गुट के विधायकों की सदस्यता पर खतरा हो गया है. उन्हें स्पीकर द्वारा शिंदे गुट की शिकायत के बाद व्हिप के उल्लंघन में अयोग्य करार दिया जा सकता है.

सोमवार को स्पीकर ले सकते हैं फैसला
बताया जा रहा है कि अगर उद्धव गुट के 16 विधायक विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के दौरान शिंदे के पक्ष में वोटिंग नहीं करते हैं तो इन सभी विधायकों को नोटिस दिया जा सकता है और उसके बाद उनकी सदस्यता को अयोग्य करार देने की कार्रवाई शुरू की जा सकती है

About bheldn

Check Also

‘मुख्य आरोपी का बिहार के डिप्टी CM से क्या रिश्ता?’, NEET पेपर लीक को लेकर सम्राट चौधरी पर RJD का हमला

नई दिल्ली, पिछले कुछ दिनों NEET पेपर लीक से जुड़ा मामला सुर्खियों में है. इन …