महाराष्ट्र का स्कोर- 164/99, फ्लोर टेस्ट में पास हुए शिंदे, कांग्रेस-NCP के 5 विधायक नहीं डाल पाए वोट

मुंबई

महाराष्ट्र विधानसभा में एकनाथ शिंदे सरकार ने अपना बहुमत साबित कर दिया है। एकनाथ शिंदे को कुल 164 विधायकों ने विश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग के दौरान वोट किया। वहीं महाविकास अघाड़ी के लिए एक और झटके की खबर है। अघाड़ी गठबंधन के पांच विधायक बहुमत परीक्षण से गैरहाजिर हैं। इसमें से कांग्रेस के तीन विधायक हैं, जिनमें अशोक चव्हाण का नाम शामिल है। इसके अलावा अघाड़ी के दो अन्य विधायक भी वोटिंग में नदारद हैं। कुल मिलाकर अघाड़ी सरकार के 8 विधायकों के वोट नहीं पड़ सके और उन्हें महज 99 वोट मिले।

विश्वास मत का प्रस्ताव भाजपा के सुधीर मुनगंटीवार और शिवसेना के भरत गोगावाले ने रखा था। ध्वनि मत के बाद, विश्वास मत के प्रस्ताव पर विपक्ष वोट के विभाजन की मांग की गई। विधानसभा में विश्वास मत के दौरान शिवसेना के एक अन्य विधायक श्यामसुंदर शिंदे ने अचानक पलटी मार दी और वह एकनाथ शिंदे समूह में शामिल हो गए।

5 विधायकों को नहीं मिली एंट्री
पांच विधायकों को देर से पहुंचने की वजह से विधानसभा में एंट्री नहीं मिल सकी। वहीं समाजवादी पार्टी के अबू आसिम आजमी समेत दोनों विधायकों ने वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया। संतोष बांगर, अशोर चाव्हाण वोट डालने नहीं पहुंचे। विजय वडेट्टीवार का वोट भी नहीं पड़ा। वहीं जेल में बंद नवाब मलिक और अनिल देशमुख का वोट भी नहीं पड़ सका।

संतोष बांगर ने दिया झटका
बहुमत परीक्षण में उद्धव ठाकरे को बड़ा झटका तब लगा जब उद्धव खेमे के विधायक संतोष बांगर ने एकनाथ शिंदे के समर्थन में वोट दिया। संतोष का वोट शिंदे गुट में जाने से शिंदे के पास शिवसेना के 40 विधायकों का समर्थन आ गया। वहीं उद्धव ठाकरे के समर्थक विधायकों की संख्या घटकर 15 हो गई। इसके अलावा कंग्रेस, एनसीपी समेत विधायकों के कुल 99 वोट महा विकास अघाड़ी सरकार को मिले।

एक-एक सीट पर जाकर एमएलए से पूछी गई राय
महाराष्ट्र विधानसभा में वोटिंग शुरू हुई तो बहुमत के लिए हेडकाउंट की प्रक्रिया का पालन किया गया। इसके तहत एक-एक सीट पर जाकर विधायक से उसकी राय पूछी गई। हेडकाउंट पूरा होने के बाद एकनाथ शिंदे को 164 विधायकों के समर्थन का खुलासा हुआ।

देवेंद्र फडणवीस ने किया था 166 का दावा
डेप्युटी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने दावा किया था कि शिंदे सरकार 166 वोटों के साथ बहुमत साबित करेगी। उन्होंने कहा था कि सबसे कम उम्र के स्पीकर उम्मीदवार राहुल नार्वेकर ने रविवार को 164 वोटों के साथ स्पीकर का चुनाव जीता। दो विधायक स्वास्थ्य कारणों से उपस्थित नहीं थे। हमें भरोसा है कि विश्वास मत में हम 166 वोटों के साथ अपना बहुमत साबित करेंगे। वर्तमान में 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा में भाजपा के 106 विधायक हैं। हाल ही में शिवसेना के एक विधायक की मृत्यु के बाद विधानसभा की वर्तमान संख्या घटकर 287 हो गई है। ऐसे में सदन में बहुमत का आंकड़ा 144 है और यह शिंदे ने आसानी से पार कर लिया है।

About bheldn

Check Also

SBI ने दिया जोर का झटका… महंगा हुआ लोन, अब चुकानी होगी ज्‍यादा ईएमआई

नई दिल्‍ली , भारतीय रिजर्व बैंक ने रेपो रेट को अनचेंज रखा है, लेकिन कई …