आंखों में आंसू, बच्चों की याद, सीएम एकनाथ शिंदे की भावुक स्पीच

मुंबई

महाराष्‍ट्र विधानसभा विशेष सत्र के दूसरे दिन सीएम एकनाथ शिंदे अपने भाषण के दौरान भावुक हो गए। अपने बच्‍चों को याद करके उनकी आंखे भर आईं। वे लगभग 22 साल पुरानी घटना को याद करके इमोशनल हो गए। तब उनकी आंखों के सामने बेटे दीपेश (11) और बेटी शुभदा (7) की एक नदी में डूबकर मौत हो गई थी।

विश्‍वासमत हासिल करने के बाद अपने संबोधन में उन्‍होंने आगे कहा, ‘उन्होंने मेरे परिवार पर हमला किया … मेरे पिता जीवित हैं, मेरी मां की मृत्यु हो गई। मैं अपने माता-पिता को ज्यादा समय नहीं दे सका। जब मैं आता तो वे सो जाते और जब मैं सो जाता तो काम पर चले जाते। मैं ज्यादा समय नहीं दे पाता था। मेरे दो बच्चों की मौत हो गई – तब आनंद दीघे ने मुझे सांत्वना दी और मेरा समर्थन किया। मैं सोचता था, जीने के लिए क्या है? मैं अपने परिवार के साथ रहूंगा।’

‘वह कौन था जिसने बाला साहब के मतदान पर 6 साल के लिए प्रतिबंध लगाया था’
श‍िंदे ने आगे कहा, ‘हम शिवसैनिक हैं और हम हमेशा बालासाहेब और आनंद दिघे के शिवसैनिक रहेंगे। मैं आप सभी को याद दिलाना चाहता हूं कि वह कौन था जिसने बाला साहब के मतदान पर 6 साल के लिए प्रतिबंध लगा दिया था..।’

उन्होंने यह भी खुलासा किया कि उन्हें एमवीए सरकार में शुरू में सीएम बनाया जाना था। लेकिन बाद में अजीत पवार या किसी ने कहा कि उन्हें सीएम नहीं बनाया जाना चाहिए। शिंदे ने कहा क‍ि मुझे कोई समस्या नहीं थी और मैंने उद्धव ठाकरे को आगे बढ़ने के लिए कहा और मैं उनके साथ था। मैंने उस पोस्ट पर कभी नजर नहीं डाली।

‘कांग्रेस एमवीए गठबंधन में रहेगी’
मैंने कुछ रिपोर्टें देखीं कि कांग्रेस के महाराष्ट्र में एमवीए गठबंधन से बाहर निकलने की संभावना है। यह गलत है। कांग्रेस ने न तो इस पर चर्चा की और न ही कुछ तय किया। अफवाहें सच्चाई से कोसों दूर हैं। एमवीए गठबंधन स्थिर है। मैं वह था जिसने ठाणे में 16 से अधिक डांस बार बंद किए। मेरे खिलाफ 100 से अधिक मामले हैं। लेकिन उनमें से कोई भी पारिवारिक मुद्दे से संबंधित नहीं है सभी पार्टी के लिए हैं।

About bheldn

Check Also

हम चुप नहीं बैठेंगे… नारायणपुर में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ के बाद विष्णुदेव साय का बड़ा बयान

नारायणपुर छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में शनिवार (15 जून) को सुरक्षा बलों और नक्सलियों के …