अरुणाचल ‘कचरे का मैदान’ से लेकर कोर्ट पवित्र गाय नहीं, मोइत्रा के पांच विवादित बयान

कोलकाता

तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा एक बार फिर सुर्खियों में हैं। इस बार उन्होंने मां काली के बारे में विवादित बयान दिया है। इस बार उनकी पार्टी ने भी बयान की आलोचना की है। महुआ मोइत्रा ने कहा कि उनके लिए मां काली मांस खाने और शराब पीने वाली देवी के रूप में हैं। एक फिल्म के पोस्टर पर उठे विवाद पर महुआ ने यह प्रतिक्रिया दी। दरअसल फिल्म के पोस्टर में मां काली को सिगरेट पीते हुए दिखाया गया है।

टीएमसी ने बयान जारी करते हुए ट्वीट किया, ‘महुआ मोइत्रा की ओर से दिया गया बयान और मां काली पर उनके विचार उन्होंने अपनी व्यक्तिगत क्षमता के आधार पर दिए हैं और पार्टी किसी भी तरीके से इसका समर्थन नहीं करती है। तृणमूल कांग्रेस कड़ाई से ऐसे बयानों की निंदा करती है।’ यह पहली बार नहीं है जब महुआ मोइत्रा ने कोई विवादास्पद टिप्पणी की है। इससे पहले भी वह कई बार अपने बयान के चलते सुर्खियों में रह चुकी हैं। आगे पढ़िए महुआ मोइत्रा के बयान-

1-‘केंद्र की नजर में पूर्वोत्तर राज्य कचरे का मैदान’
इसी साल मई महीने पर आईएएस अधिकारी दंपती संजीव खिरवार और रिंकू दुग्गा के अरुणाचल प्रदेश ट्रांसफर करने पर महुआ मोइत्रा ने विवादास्पद बयान दिया था। महुआ ने इसे अरुणाचल प्रदेश का अपमान बताया। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘आईएएस रिंकु दुग्गा और संजीव खिरवार के उत्तर पूर्वी राज्यों में तबादला कर गृह मंत्रालय ने बता दिया है कि ये राज्य उसकी नजर में कचरा फेंकने का मैदान हैं।’ दरअसल आईएएस कपल पर दिल्ली त्यागराज स्टेडियम में सुविधाओं के दुरुपयोग के संबंध में एक मीडिया रिपोर्ट के बाद कार्रवाई की गई थी।

2-‘जैन लड़का घर से छिपकर काठी कबाब खाता है’
4 फरवरी को महुआ मोइत्रा ने गुजरात के नगरपालिका क्षेत्रों में मीट बैन का मुद्दा लोकसभा में उठाया था। उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा था, ‘आप केवल हमारे वोटों से संतुष्ट नहीं हैं। आप हमारे सिर के अंदर जाना चाहते हैं, हमारे घरों के अंदर, आप हमें बताना चाहते हैं कि क्या खाना चाहिए, क्या पहनना चाहिए, किससे प्यार करना चाहिए। आप एक ऐसे भारत से डरते हैं जो अपने आप में आरामदायक हो। तो आप क्या करते हैं, आप गुजरात की नगरपालिका में नॉन वेजिटेरियन स्ट्रीट फूड पर पाबंदी लगा देते हैं। आप उस भारत से डरते हैं जहां एक जैन लड़का घर से छिपकर अहमदाबाद की सड़क पर ठेले से काठी कबाब खाता है।’ महुआ के इस बयान पर जैन समुदाय ने आपत्ति जताई थी और उनसे माफी की मांग की थी।

3-‘जूडिशरी उसी दिन अपवित्र हो गई थी जिस दिन…’
8 फरवरी 2021 को लोकसभा में चर्चा के दौरान महुआ मोइत्रा ने सुप्रीम कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। महुआ ने कहा था, ‘भारत का दुर्भाग्य यह नहीं कि उसकी सरकार ने उसे धोखा दिया बल्कि यह है कि मीडिया और न्यायपालिका ने उसे धोखा दिया।’ महुआ ने आगे कहा, ‘जो न्यायपालिका कभी गाय जितनी पवित्र थी वह अब पवित्र नहीं रही। न्यायपालिका उसी दिन अपवित्र हो गई थी जिस दिन एक चीफ जस्टिस पर यौन शोषण का गंभीर आरोप लगा था। लेकिन उसने न इस्तीफा दिया न ही अपने मुकदमे से दूर रहा बल्कि जेड प्लस सुरक्षा के साथ रिटायर होने के तीन महीने बाद राज्यसभा की सदस्यता मिल गई।’ महुआ के इस बयान पर खूब हंगामा हुआ था।

4-मीडिया को बताया था दो पैसे वाला
8 दिसंबर 2020 को कोलकाता में महुआ टीएमसी की एक बैठक ले रही थीं। इस बैठक में मीडिया के पहुंचने पर उन्होंने विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था, ‘किसने यहां दो पोइसर (दो पैसे की कीमत) वाली प्रेस को बुलाया है? इन्हें कार्यक्रम स्थल से हटा दें।’ महुआ ने आगे कहा, ‘हमारी पार्टी के कुछ सदस्य ऐसे लोगों को टीवी पर अपना चेहरा दिखाने के लिए बंद-दरवाजे की बैठकों में आमंत्रित करते हैं। यह नहीं किया जाना चाहिए।’ प्रेस क्लब-कोलकाता ने एक बयान में मोइत्रा की टिप्पणियों को निंदनीय बताया था।

5-‘सुसु पॉटी रिपब्लिक में आपका स्वागत है’
24 मई 2021 को ट्विटर इंडिया के गुरुग्राम स्थित ऑफिस पर दिल्ली पुलिस की नोटिस को लेकर महुआ ने विवादित टिप्पणी की थी। उन्होंने ट्वीट किया था, हमारे सुसु पॉटी रिपब्लिक में आपका स्वागत है। गौमूत्र पियो, गोबर छिड़को और शौचालय में कानून के शासन को फ्लश करो। दिल्ली पुलिस ने ट्विटर को नोटिस जारी किया और बीजेपी के फर्जी दस्तावेज को मेनिपुलेटेड मीडिया बताने के सही तरीके के लिए उनके कार्यालय में छापेमारी की।’

About bheldn

Check Also

हम चुप नहीं बैठेंगे… नारायणपुर में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ के बाद विष्णुदेव साय का बड़ा बयान

नारायणपुर छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में शनिवार (15 जून) को सुरक्षा बलों और नक्सलियों के …