रूस-यूक्रेन युद्ध: स्मार्टफोन की बिक्री पर भी पड़ा मंदी का असर, कंपनियों को नहीं मिल रहे ऑर्डर

नई दिल्ली

यूं तो स्मार्टफोन हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा बन चुके हैं और स्मार्टफोन की लोकप्रियता ऐसी है कि कई लोग तो घंटों तक अपने फोन से चिपके रहते हैं लेकिन इसके बावजूद स्मार्टफोन की मार्केट में गिरावट देखने को मिली है। मार्केट रिसर्च फर्म काउंटर प्वाइंट की हालिया रिपोर्ट चौंकाने वाली है। इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि मई 2022 में वैश्विक स्तर पर स्मार्टफोन की बिक्री में गिरावट देखने को मिली है। इस दशक में ऐसा सिर्फ दूसरी बार हुआ है जब स्मार्टफोन्स की सेल्स ग्लोबल स्तर पर 100 मिलियन यूनिट्स से नीचे जा गिरी है।

काउंटर प्वाइंट की रिपोर्ट के मुताबिक, मई 2022 में ग्लोबल स्तर पर सिर्फ 96 मिलियन स्मार्टफोन यूनिट्स बिक पाई थीं। अगर इसकी तुलना अप्रैल 2022 से करें तो स्मार्टफोन की सेल में 4 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिली है। वहीं, अगर मई 2021 से तुलना की जाए तो मई 2022 में स्मार्टफोन की बिक्री में 10 प्रतिशत की गिरावट आई है।

गौरतलब है कि कोरोना काल के चलते स्मार्टफोन का बाजार बुरी तरह प्रभावित रहा था। कोरोना काल में पहली बार ऐसा हुआ था जब स्मार्टफोन की बिक्री 100 मिलियन यूनिट्स को नहीं छू पाई थी। कोरोना काल के बाद से स्मार्टफोन बाजार में उछाल देखने को मिल रहा था। हालांकि, पिछले दो महीने चीन में लगे लॉकडाउन के बाद स्मार्टफोन मार्केट में एक बार फिर गिरावट देखने को मिली।

काउंटर प्वाइंट रिसर्च के अनुसार, रूस-यूक्रेन युद्ध और दुनिया भर के कई देशों में आई मंदी के चलते भी स्मार्टफोन का बाजार प्रभावित हुआ है। ये भी माना जा रहा है कि कम मांग के कारण इन्वेंट्री बिल्ड-अप देखा गया है जिसके चलते शिपमेंट में गिरावट आई है और स्मार्टफोन निर्माताओं से ऑर्डर में कटौती हुई है।

हालांकि, काउंटरपॉइंट मैक्रो इंडेक्स के अनुसार, 2022 के अगले छह महीनों में स्मार्टफोन का बाजार बेहतर स्थिति में दिख सकता है। इसका कारण चीन की इकोनॉमी का सामान्य होना बताया जा रहा है। इसके अलावा सैमसंग गैलेक्सी जेड फोल्ड 4 और आईफोन 14 जैसे प्रीमियम प्रॉडक्ट्स के रिलीज होने के बाद भी स्मार्टफोन मार्केट में तेजी देखने को मिल सकती है।

About bheldn

Check Also

ट्रंप की सुरक्षा क्या वेश्याओं संग होटल में सोने वाले सीक्रेट सर्विस एजेंटों के भरोसे थी, 27 हजार करोड़ खर्च फिर भी चूक

वॉशिंगटन: 14 अप्रैल, 2012 की बात है, जब अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा थे। उस …