ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक ने दिया इस्तीफा, नारायण मूर्ति के हैं दामाद

नई दिल्ली

ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक ने इस्तीफा दे दिया है। उनके अलावा हेल्थ सेक्रेटरी साजिद जावेद ने भी इस्तीफा दे दिया है। सुनक ने ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन को चिट्ठी लिखकर इस्तीफा दिया है। चिट्ठी में सुनक ने बोरिस जॉनसन के काम करने के तरीके पर सवाल उठाए हैं।ऋषि सुनक ने ट्विटर पर अपने इस्तीफे की बात करते हुए बोरिस जॉनसन के नाम एक पत्र भी लिखा है। इस पत्र में उन्होंने जॉनसन पर कुछ सवाल उठाए हैं।

पत्नी पर लगे थे गंभीर आरोप, मना करते-करते आखिर सुनक ने दिया इस्तीफा
ऋषि सुनक और अक्षता मूर्ति को इस बात को लेकर घेरा जा रहा था कि अक्षता मूर्ति रूस में इन्फोसिस के परिचालन से हो रही कमाई में हिस्सेदार हैं और इस पर ब्रिटेन में टैक्स नहीं दे रही हैं। वहीं ऋषि सुनक इस बात को लेकर स्पष्ट हैं कि वह इन सब झमेलों की वजह से अपने वित्त मंत्री पद से इस्तीफा नहीं देंगे। हालांकि, अब उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है और बोरिस जॉनसन को एक लेटर भी लिखा है।

पीएम से की थी रिव्यू कराने की मांग
ऋषि सुनक ने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को पहले भी एक एक लेटर लिखा था। उस लेटर में उन्होंने पीएम से कहा था कि वह इस बात का रिव्यू कराएं कि परिवार की आर्थिक व्यवस्था को लेकर क्या उन्होंने मंत्री पद की घोषणाओं के नियमों का पालन किया है या नहीं। सुनक ने ट्विटर पर कहा था, ‘मैंने हमेशा नियमों का पालन किया है और मुझे उम्मीद है कि इस तरह के रिव्यू से और स्पष्टता आएगी।’

नारायण मूर्ति की बेटी हैं ऋषि सुनक की पत्नी
ऋषि सुनक की पत्नी अक्षता मूर्ति इंफोसिस के सह-संस्थापक नारायण मूर्ति की बेटी हैं। विवाद के बाद अक्षता ने घोषणा की थी कि वह अपने पति के काम में व्यवधान से बचने के लिए अपनी सारी आमदनी पर ब्रिटेन में कर का भुगतान करेंगी। अक्षता ने एक ट्वीट भी किया था कि उनकी वैश्विक आय पर ब्रिटेन में कर का भुगतान करने का निर्णय इस तथ्य को नहीं बदलेगा कि भारत उना जन्म स्थल, नागरिकता, माता-पिता का घर और अधिवास (डोमिसाइल) का स्थान बना हुआ है, लेकिन उन्हें ब्रिटेन से भी प्यार है।

यह खुलासा हुआ था कि वित्त मंत्री की पत्नी, जो एक भारतीय नागरिक हैं, ब्रिटेन में कर उद्देश्यों के लिए गैर-अधिवासी थीं। इसका मतलब है कि वह कानूनी रूप से अपनी विदेशी कमाई पर कर का भुगतान करने के लिए बाध्य नहीं थीं। इस खुलासे के बाद भारतवंशी वित्त मंत्री की तरफ से हाल में किए गए कर वृद्धि की ओर इशारा करते हुए विपक्षी दलों ने दोहरा रवैया रखने के आरोप लगाए थे। लेबर पार्टी ने आरोप लगाया था कि मूर्ति की कर व्यवस्था के परिणामस्वरूप उनके परिवार ने संभावित रूप से काफी बचत की।

About bheldn

Check Also

चीन ने कब्जाई भूटान की पहले से ज्यादा जमीन, सीमा वार्ता के बीच ही दिखा दिया असली रंग

बीजिंग: चीन ने भूटान के साथ सीमा समझौते से पहले ही उसकी पहले से ज्यादा …