मूसेवाला की हत्या के लिए 5 बार बना प्लान, लड़कियों को भेजने की भी थी तैयारी!

नई दिल्ली

पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की 29 मई को हत्या करने से करीब एक सप्ताह पहले शूटर्स ने पंजाब में मानसा के पास एक फार्महाउस में इसका ट्रायल भी किया था। इसमें इन्होंने हत्या में इस्तेमाल की गई ग्लोक, पी-30, जिगाना और स्टार पिस्तौल के अलावा एके-47 और ग्रेनेड लॉन्चर को चलाकर यह सुनिश्चित किया था कि ये तमाम हथियार ठीक से चल रहे हैं या नहीं।

​शूटर्स करते थे लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ के लिए काम
स्पेशल सेल के सूत्रों ने बताया कि यह बात इस मामले में अभी तक गिरफ्तार किए गए शूटर्स अंकित, प्रियव्रत और कशिश ने पूछताछ में बताई है। गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई और शायद कनाडा में बैठे गैंगस्टर गोल्डी बराड़ के लिए ये शूटर्स काम करते थे। सेल का कहना है कि इन्हीं के कहने पर छह शूटर्स ने मूसेवाला की ताबड़तोड़ गोलियां मारकर हत्या कर दी थी।

​ग्रेनेड लॉन्चर से गाड़ी को उड़ाने का था प्लान
बताया जाता है कि मूसेवाला की हत्या के लिए जहां पिस्तौल और एके-47 से गोलियां बरसाई गई थीं, वहीं ग्रेनेड भी फायर किया गया था। लेकिन उसका पिन अटक जाने से वह ऐन वक्त पर चल नहीं पाया। वरना, इनका इरादा मूसेवाला पर गोलियां बरसाने के बाद यूबीसीएल यानी अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर से मूसेवाला की गाड़ी को उड़ा देने का भी था, ताकि किसी भी सूरत में वह बच ना पाएं। ग्रेनेड के फायर ना होने पर ही सिंगर के ऊपर गोलियों की इतनी बौछार की गई कि वह किसी भी सूरत में जिंदा ना बचने पाएं।

​हत्या के लिए 5 बार बना प्लान, दो महिलाएं भी थीं शामिल
मूसेवाला की हत्या के लिए एक या दो नहीं, बल्कि पांच से अधिक प्लान बनाए गए थे। इनमें आरोपियों के पास से पंजाब पुलिस की जो वर्दियां मिली हैं, उन्हें पहनकर भी मूसेवाला को मारने का प्लान था। इसमें योजना यह थी कि दो महिला और दो पुरुष बदमाश पंजाब पुलिस की वर्दी में मूसेवाला को घर में जाकर गोलियों से भून डालेंगे। लेकिन यह योजना सिंगर के घर में उस वक्त कड़ी सुरक्षा होने की वजह से परवान चढ़ती दिखाई नहीं दी।

​पत्रकार बनकर मारने का भी था प्लान
इसके अलावा सिंगर को पत्रकार बनकर भी मारने की योजना थी। जबकि एक बार वहीं कोर्ट में ही मूसेवाला को मार दिया जाता। लेकिन, उस दिन उनकी किस्मत अच्छी थी कि वह कोर्ट के उस गेट से बाहर नहीं निकले जिस ओर शूटर्स ने उन्हें मारने के लिए अपनी फील्डिंग लगा रखी थी। इसके अलावा एक बार उन्हें कबड्डी के एक टूर्नामेंट में भी मारने की योजना लगभग फाइनल कर ली गई थी। लेकिन उस योजना को इसलिए टालना पड़ा कि वहां मूसेवाला के साथ और भी स्थानीय लोग मारे जाते।

फिर यह प्लान बनाया गया जिसमें मूसेवाला के घर की रेकी करते हुए वह मौका खोजने के लिए कहा गया, जब वह बिना सुरक्षा और विदाउट बुलेटप्रूफ गाड़ी पर सवार हों। इस बात की भी जांच की जा रही है कि क्या उन्हें तय योजना के तहत बुलेटप्रूफ गाड़ी में सवार होने से रोका गया। शूटर्स ने इसके लिए पूरी योजना तैयार कर ली। अपने गानों में वह जिन विदेशी हथियारों और एके-47 का जिक्र करते थे, शूटर्स के लिए उन्हीं हथियारों का प्रबंध किया गया।

​फार्महाउस में हुई सभी शूटर्स की ट्रेनिंग
पंजाबी सिंगर की हत्या से पहले तमाम शूटर्स को मानसा के पास एक फार्महाउस में बाकायदा इसकी ट्रेनिंग दिलाई गई। जिसमें सभी शूटर्स ने विदेशी पिस्तौलों पर अपना हाथ साफ किया और यह भी सुनिश्चित किया कि अंतिम वक्त में कोई हथियार धोखा तो नहीं दे देगा। इसमें केवल ग्रेनेड लॉन्चर ने इन्हें धोखा दिया। बाकी सभी हथियार ठीक से चले।

गौरतलब है कि इस मामले में 3 जुलाई की रात को स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद सिंह कुशवाहा की टीम ने मूसेवाला पर दोनों हाथों में पिस्तौल लेकर गोलियां मारने वाले शूटर अंकित के अलावा इन्हें छिपाने में मदद करने वाले सचिन भिवानी को गिरफ्तार किया था। इससे पहले 19 जून को प्रियव्रत, कशिश और केशव को गिरफ्तार किया गया था। अभी इस मामले में मूसेवाला को गोलियां मारने वाले तीन शूटर्स मनप्रीत मनु कुस्सा, जगरूप रूपा और दीपक मुंडी फरार हैं। इनकी तलाश की जा रही है। इनके बारे में सेल को कुछ इनपुट मिले हैं। जिसके आधार पर इन्हें पकड़ने की कोशिश की जा रही है।

About bheldn

Check Also

साइंस कॉलेज चौपाटी दूसरे स्थान पर होगी शिफ्ट, राजेश मूणत ने दिए निर्देश

रायपुर। राजधानी रायपुर में स्थित साइंस कॉलेज की चौपाटी दूसरे स्थान पर शिफ्ट होगी। दरअसल …