खादिम सलमान को ‘बचने का तरीका’ बताने वाले अजमेर के DSP की हो गई छुट्टी

अजमेर

भाजपा से निष्कासित पार्टी की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा की हत्या पर इनाम देने का वीडियो वायरल करने वाला सलमान चिश्ची को गिरफ्तार कर लिया गया है। लेकिन गिरफ्तारी के समय एक पुलिस अफसर पर उसे कथिततौर पर बचने के उपाय बताने का मुद्दा तूल पकड़ा जा रहा है। बीजेपी नेताओं ने यह दावा किया है कि डीएसपी संदीप सारस्वत आरोपी को यह कह रहे थे कि ‘बोल नशे में था, बच जाएगा’। पुलिस पर सलमान को बचाने के लगे आरोपों के बाद सरकार ने एक्शन लिया है। डीएसपी संदीप सारस्वत को हटा दिया गया है। डीएसपी संदीप सारस्वत के एपीओ आदेश जारी किए गए हैं। साथ ही इस मामले की गहनता से जांच के आदेश भी दिए हैं।

राजस्थान पुलिस मुख्यालय की ओर से आदेश जारी कर दरगाह डीएसपी संदीप सारस्वत को एपीओ कर दिया गया है। अजमेर स्थित ख्वाजा साहब की दरगाह के खादिम सलमान चिश्ती ने वीडियो बनाया था। जिसमें उसने नुपुर शर्मा की गरदन लाने वाले को अपना मकान और अन्य उपहार देने की बात कही थी। यह वीडियो सामने आने के बाद दरगाह थाना पुलिस ने विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया साथ ही मंगलवार देर रात सलमान चिश्ती को उसके घर से पकड़ लिया गया।

पुलिस अफसर ने कहा, बोल देना नशे में था, ताकि बच जाए
सलमान को घर से ले जाते समय का एक वीडियो वायरल हुआ है। इसमें डीएसपी संदीप सारस्वत भी नजर आ रहे हैं। यह आरोप लगाया जा रहा है कि तब आरोपी सलमान को डीएसपी कहते हैं कि ‘बोल देना नशे में था, ताकि बच जाए’। यह वीडियो जमकर वायरल हुआ। भाजपा नेताओं ने जमकर सरकार को घेरा और आरोपियों को बचाने की बात कही।

27 मई को ही हुआ था तबादला
सोशल मीडिया पर भी इस मामले में टिप्पणियां की जा रही हैं। इन्हीं सबको देखते हुए पुलिस मुख्यालय ने डीएसपी को एपीओ कर दिया। 27 मई को डीएसपी संदीप सारस्वत का तबादला हुआ था। उन्हें अजमेर दरगाह के सीओ के रूप में नियुक्त किया गया था। इससे पहले वह आरपीए में कार्यरत थे।

About bheldn

Check Also

बिहार चुनाव में किसके साथ गठबंधन करेंगे-लालू या CM नीतीश? PK ने दिया जवाब, जानिए कौन होगा खुश

पटना: बिहार में पद यात्रा कर रहे जन सुराज के सूत्रधार प्रशांत किशोर ने राज्य …