कौन बनेगा ब्रिटेन का प्रधानमंत्री? भारतीय मूल के 3 दिग्गज ऋषि, प्रीति और सुएला रेस में

लंदन,

ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. इसके बाद वहां प्रधानमंत्री पद के नए चेहरे की तलाश शुरू हो गई है. पीएम पद की इस रेस में एक नहीं बल्कि तीन-तीन भारतीय मूल के राजनेता हैं. ब्रिटेन के पीएम बनने के लिए भारतीय मूल के जो नाम उभरकर सामने आए हैं उसमें फ्रंट रनर ऋषि सुनक हैं. जो कुछ घंटे पहले ही ब्रिटेन के वित्त मंत्री के पद से इस्तीफा दे चुके हैं.

एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार पीएम पद की रेस में भारतीय मूल की एक महिला भी हैं. इनका नाम सुएला ब्रेवरमैन हैं. सुएला ब्रेवरमैन इस वक्त ब्रिटिश कैबिनेट में अटॉर्नी जनरल भी हैं. जबकि इस रेस में शामिल तीसरी शख्सियत का नाम प्रीति पटेल हैं. प्रीति पटेल इस वक्त ब्रिटेन की होम सेक्रेटरी हैं. और पीएम पद के लिए वो भी अपनी दावेदारी सामने रख रही हैं. हालांकि वे खुलकर अभी सामने नहीं आई हैं.

सुएला ब्रेवरमैन ने अपनी दावेदारी को पेश करते हुए कहा मैं खुद को आगे रख रही हूं क्योंकि मेरा मानना ​​है कि 2019 का घोषणापत्र इस उद्देश्य के लिए उपयुक्त है, सुएला ब्रेवरमैन ने कहा कि मैं उस घोषणापत्र में निहित वादों को पूरा करना चाहती हूं. मैं ब्रेक्सिट से जुड़े वादों को पूरा करना चाहती हूं, बकाये मुद्दों को सुलझाना चाहती हूं और करों में कटौती का भी लक्ष्य रखा है.

सुएला का जन्म भारतीय मूल के माता-पिता क्रिस्टी और उमा फर्नांडीज के घर हुआ था. ये दोनों 60 के दशक में केन्या और मॉरीशस से ब्रिटेन पहुंचे थे. अगर इन तीनों में से किसी को भी अगर ब्रिटेन की कमान मिलती है तो यह यूरोप के इतिहास का एक महत्वपूर्ण चैप्टर होगा. जब पहली बार भारतीय मूल का कोई शख्स ब्रिटेन का प्रधानमंत्री बनेगा.

पीएम पद के लिए रेस में शामिल ब्रिटेन से दूसरे नामों की चर्चा की जाए तो वाणिज्य मंत्री पेन्नी मॉरडॉन्ट और फॉरेन सेक्रेटरी (विदेश मंत्री) लिज ट्रस भी इसमें शामिल हैं. सट्टेबाजों के आकलन में ऋषि सुनक और पेन्नी मॉरडॉन्ट के बीच बराबर का मुकाबला है. ऋषि सुनक के माता-पिता भारतीय मूल के थे. उनके पिता यशवीर का जन्म और लालन पोषण केन्या में हुआ था जबकि उनकी मां उषा का जन्म तंजानिया में हुआ था. ऋषि के दादा-दादी का जन्म पंजाब प्रांत (ब्रिटिश इंडिया) में हुआ था. बाद में 1960 के दशक में वे अपने बच्चों के साथ ब्रिटेन में आकर बस गए थे.

कोरोना काल के दौरान ऋषि सुनक ने जिस तरह उन्होंने अर्थव्यवस्था का संचालन किया था, इसकी काफी तारीफ हुई थी. लेकिन उनकी छवि को तब धक्का लगा जब पत्नी अक्षता मूर्ति के नॉन डॉमिसाइल होने का मुद्दा सामने आया.
पीएम पद की रेस में कई और नाम भी शामिल हैं जिनमें डिफेंस सेक्रेटरी (रक्षा मंत्री) बेन वैलेस, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद, नए वित्त मंत्री नधीम जाहावी, पूर्व विदेश सचिव (विदेश मंत्री) जर्मी हंट शामिल हैं.

About bheldn

Check Also

बाघ को जंजीर बांध टहलाती दिखी हसीना, कपड़े देखकर लोग बोले- इससे लड़कर आई हो

नई दिल्ली, आम तौर पर लोग कुत्ते- बिल्ली को घर में पालते हैं लेकिन इस …