जानें कौन था वो शख्‍स जिसने शिंजो आबे को मारी गोली, हमले के बाद भी क्‍यों वहीं खड़ा रहा?

टोक्‍यो

जापान के पूर्व पीएम शिंजो आबे को गोली मारी गई है। आबे, जिस समय स्‍टेज पर भाषण दे रहे थे, उन पर उसी समय हमला किया गया। आबे को दो गोलियां मारी गई हैं और हमलवार वहीं खड़ा रहा। उसने भागने की भी कोई कोशिश नहीं की। आबे पर हमला क्‍यों हुआ और किसने इस साजिश को अंजाम दिया इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। आबे वो लीडर हैं जिनका सम्‍मान दुनिया के कई नेता करते हैं। फिलहाल हमलावर पुलिस की गिरफ्त में है और उससे पूछताछ की जाएगी। आबे इस समय अस्‍पताल में हैं और उनका इलाज चल रहा है। उनकी हालत फिलहाल बेहद गंभीर बताई जा रही है।इस घटना ने दुनिया भर के नेताओं को हिला दिया है।

40 साल का हमलावर
स्‍थानीय मीडिया की मानें तो जिस शख्‍स ने आबे को गोली मारी है, उसकी उम्र 40 वर्ष है। उसका नाम यामागामी बताया जा रहा है। कहा जा रहा है कि जो गन, यामागामी ने यूज की, वो 3डी प्रिंटेड थी स्‍थानीय पुलिस की तरफ से इस पर कोई भी जानकारी नहीं दी गई है। शिंजो आबे जापान के सबसे ज्‍यादा समय तक पद पर रहने वाले पीएम रहे हैं। वो 52 वर्ष की उम्र में देश के पीएम चुने गए थे। उनके नाम पर सबसे कम उम्र का पीएम होने का रिकॉर्ड भी है। साल 2020 में कोलाइटिस बीमारी के चलते उन्‍होंने अपने पद से इस्‍तीफा दे दिया था।

जापान जहां पर ये घटना हुई है, वहां गन लॉ दुनिया में सबसे सख्‍त हैं। हर साल गोलीबारी की घटनाओं में मरने वालों की संख्‍या सिर्फ इकाई के आंकड़ें तक ही रहती है। आबे पर हमले के लिए स्‍टेनगन का प्रयोग किया गया है। वो एक चुनावी रैली में थे जब ये घटना हुई। स्‍थानीय फायर डिपार्टमेंट की तरफ से कहा गया है कि पूर्व पीएम आबे को दिल का दौरा भी पड़ा है। पब्लिक ब्रॉडकास्‍टर एनएचके और क्‍योदो की तरफ से कोर्डियो रेस्‍पेरेटरी शब्‍द का प्रयोग तब तक किया जाता है जब तक डॉक्‍टर की तरफ से मौत की आधिकारिक पुष्टि नहीं हो जाती। उनकी स्थिति पर पुलिस की तरफ से कोई जानकारी नहीं दी गई है और न ही फायर डिपार्टमेंट ने इस पर कुछ कहा है।

About bheldn

Check Also

NEET धांधली मामले में सुप्रीम कोर्ट पहुंचे 20 छात्र, याचिका में 620+ अंक लाए छात्रों की फॉरेंसिक जांच की मांग

नई दिल्ली, NEET UG 2024 की परीक्षा की विसंगतियों को लेकर 20 छात्रों का एक …