6 महीने में दो बार लगी फटकार, अपनी सांसद महुआ मोइत्रा से क्यों नाराज हैं ममता?

कोलकाता

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की लोकसभा सांसद महुआ मोइत्रा इन दिनों देवी काली पर बयान देकर फंस गई हैं। बीजेपी उनके खिलाफ सड़क पर उतर आई है। महुआ के बयान को आपत्तिजनक बताते हुए टीएमसी, ममता और उन पर हिंदू विरोधी होने के आरोप लग रहे हैं। महुआ मोइत्रा के बयान को लेकर घिरी ममता भी उनसे बहुत नाराज हैं। छह महीने में यह दूसरी बार है जब पार्टी नेतृत्व ने उन्हें सार्वजनिक रूप से फटकार लगाई है।

महुआ मोइत्रा ने 5 जुलाई को एक कॉन्क्लेव में बयान दिया कि उनके लिए मां काली, मांस खाने वाली और शराब स्वीकार करने वाली देवी हैं। महुआ का यह बयान डॉक्यूमेंट्री काली के पोस्टर को लेकर था। काली के इस पोस्टर में देवी के रूप में एक महिला को सिगरेट पीते और एलजीबीटी प्राइड का झंडा पकड़े दिखाया गया था।

टीएमसी ने बयान से किया किनारा
टीएमसी ने महुआ मोइत्रा की टिप्पणी की निंदा की और तुरंत उनके बयान से दूरी बना ली। एक ट्वीट में, पार्टी ने कहा, ‘महुआ मोइत्रा की टिप्पणी और देवी काली पर व्यक्त किए गए उनके विचार खुद के हैं पार्टी की ओर से उनके इस बयान का समर्थन नहीं किया जाता है। अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस इस तरह की टिप्पणियों की कड़ी निंदा करती है।’

दिसंबर 2021 में ममता ने लगाई थी फटकार
टीएमसी की ओर से जब महुआ के बयान से दूरी बना ली गई तो महुआ ने भी तत्काल पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल को अनफॉलो कर दिया। हालांकि, वह पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी अध्यक्ष ममता बनर्जी को फॉलो करती हैं। मोइत्रा को दिसंबर 2021 में किसी और ने नहीं बल्कि बनर्जी ने खुले मंच पर फटकार लगाई थी। टीएमसी प्रमुख एक प्रशासनिक बैठक में राज्य में निकाय चुनावों की तैयारियों की समीक्षा कर रही थीं। वह नदिया जिले के कृष्णानगर में पार्टी में अंदरूनी कलह से नाखुश थीं। मोइत्रा कृष्णानगर से टीएमसी लोकसभा सांसद हैं। वह भी बैठक में मौजूद थीं।

फटकार पर महुआ हिलाती रहीं सिर
महुआ मोइत्रा की ओर मुड़ते हुए बनर्जी ने कहा, ‘महुआ, मैं एक स्पष्ट संदेश देना चाहती हूं। मुझे यह देखने की जरूरत नहीं है कि कौन किसके खिलाफ है। यदि कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति को पसंद नहीं करता है, तो वह YouTube पर या समाचार पत्रों में कुछ समाचार डालता है। इस तरह की राजनीति एक दिन चल सकती है लेकिन हमेशा के लिए नहीं। और केवल एक ही व्यक्ति का हमेशा के लिए एक ही स्थान पर रहना, यह भी सही नहीं है। और जब चुनाव आएगा तो पार्टी तय करेगी कि कौन चुनाव लड़ेगा या कौन नहीं। इसलिए मतभेद नहीं होना चाहिए। सभी को मिलकर काम करना चाहिए। मैं ऐसा इसलिए कह रही हूं क्योंकि मैं सब जानती हूं।’ इस दौरान महुआ सिर हिलाती रहीं।

ममता बनर्जी बाद में जयंत नाम के व्यक्ति की ओर मुड़ीं और उनसे पूछा कि कुछ YouTube वीडियो क्लिप का क्या है? जयंत उठा और बोला, ‘हां मैडम, तोड़फोड़ हुई थी।’ बनर्जी ने जवाब दिया, ‘मुझे पता है कि यह किसने किया। मैंने इसकी पुलिस, एडीजी कानून व्यवस्था और सीआईडी से जांच कराई। यह एक मंचित घटना थी और इसे मीडिया में प्रसारित किया गया था। हम सभी को एक साथ काम करना है।’

2011 में टीएमसी जिला प्रमुख पद से हटाई गई थीं महुआ
अगस्त 2011 में, मोइत्रा को नादिया के टीएमसी जिला प्रमुख के पद से हटा दिया गया था। उस वर्ष की शुरुआत में हुए पश्चिम बंगाल चुनाव में, नादिया में पार्टी का प्रदर्शन राज्य के बाकी हिस्सों की तरह प्रभावशाली नहीं था। जिले की 17 में से नौ सीटों पर बीजेपी जीती थी, जबकि बाकी आठ सीटों पर टीएमसी ने जीत दर्ज की। इस बीच, बीजेपी ने मोइत्रा के खिलाफ कई राज्यों में शिकायत दर्ज कर आरोप लगाया है कि उन्होंने हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को आहत किया है।

हालांकि, टीएमसी सांसद अवहेलना कर रही हैं। एक ट्वीट में, उसने कहा, ‘मैं ऐसे भारत में नहीं रहना चाहती जहां हिंदू धर्म के बारे में बीजेपी का एकात्मक पितृसत्तात्मक ब्राह्मणवादी दृष्टिकोण प्रबल होगा और हममें से बाकी लोग धर्म के इर्द-गिर्द घूमेंगे। मैं मरते दम तक इसका बचाव करूंगी। एफआईआर दर्ज करें – देश की हर अदालत में मिलेंगे।

About bheldn

Check Also

जहां अफसर मतदान में देरी करते रहे, वहीं बीजेपी के लिए काम करता रहा चुनाव आयोग, उद्धव ठाकरे ने लगाए गंभीर आरोप

मुंबई शिवसेना (यूबीटी) के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने सोमवार को आरोप लगाया कि मुंबई में …