मां को गलत इंजेक्शन देने से रोका, तभी साधना को दिल दे बैठे थे मुलायम सिंह…

लखनऊ

समाजवादी पार्टी के सरंक्षक मुलायम सिंह यादव और साधना गुप्ता का रिश्ता सालों तक लोगों से छिपा रहा, लेकिन एक हलफनामे की वजह से छुपा हुआ रिश्ता सबके सामने आया और मुलायम सिहं यादव ने अपनी पहली पत्नी की मृत्यु के बाद साधना गुप्ता को सार्वजनिक तौर पर पत्नी का दर्जा दिया। बता दें कि समाजावादी पार्टी के संरक्षक और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव की पत्नी साधना गुप्ता का शनिवार को गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में निधन हो गया। वह पिछले 4 दिनों से अस्पताल में भर्ती थीं।

इसलिए मुलायम को पसंद आईं साधना
साधना और मुलायम एक-दूसरे के करीब उस दौरान आए जब सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की मां अस्पताल में भर्ती थीं। साधना ने मुलायम की मां मूर्ति देवी की काफी सेवा की वह एक नर्स के तौर पर वहां तैनात थीं। इसी बीच दोनों के बीच में नजदीकियां बढ़ गईं। मुलायम को साधना उस दौरान पसंद आ गई थीं, जब उन्होंने उनकी मां को एक गलत इंजेक्शन दिए जाने से रोक लिया था। वहीं, 2003 में अखिलेश की मां और मुलायम सिंह की पहली पत्नी मालती देवी का निधन हुआ तो सार्वजनिक तौर पर मुलायम सिंह ने साधना गुप्ता को अपनी पत्नी का दर्जा दिया। इस वजह से सपा मुखिया अखिलेश यादव अपने पिता से काफी नाराज भी हुए थे।

सालों तक मुलायम और साधना की छुपी रही लव स्टोरी
साल 1982 से लेकर 1988 तक मुलायम सिंह और साधना गुप्ता के बीच क्या चल रहा था। इसके बारे में अमर सिंह इकलौते ऐसे व्यक्ति थे, जो जानते थे। वह अच्छे से जानते थे कि मुलायम को प्यार हो गया है, लेकिन उन्होंने किसी से कुछ भी नहीं कहा। अमर सिंह यह कहते भी तो कैसे, क्योंकि मुलायम के घर पर उनकी पत्नी मालती देवी और बेटा अखिलेश भी था, लेकिन साल 1988 आया और एक साथ कई चीजें बदल गईं। इस समय मुलायम मुख्यमंत्री बनने की रेस में थे और साधना भी अपने पति से अलग रहने लगी थीं। उस समय उनकी गोद में एक बच्चा भी था। इतना ही नहीं इन सबके बीच मुलायम ने अखिलेश को साधना से मिलवा भी दिया था।

चंद्र प्रकाश से साधना की हुई थी पहली शादी
साधना गुप्ता मूल रूप से यूपी के इटावा के बिधुना तहसील की रहने वाली थी। साल 1986 में उनकी शादी फर्रुखाबाद के चंद्रप्रकाश गुप्ता से शादी हुई थी। शादी के बाद साधना ने बेटे प्रतीक को जन्म दिया था। प्रतीक यादव के जन्म के करीब दो साल बाद साधना और चंद्रप्रकाश अलग हो गए। दोनों का तलाक हो गया। इसके बाद साधना गुप्ता सपा के तत्कालीन सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के संपर्क में आई थीं। दरअसल, साधना भी सपा की कार्यकर्ती थीं। दूसरी ओर अखिलेश यादव की बायोग्राफी ‘बदलाव की लहर’ में मुलायम सिंह और साधना के रिश्ते का भी जिक्र है।

About bheldn

Check Also

राहुल ने बनारस में शराब को लेकर ऐसा क्या बोला कि मच गया बवाल, विपक्षी नेताओं ने जमकर निकाली भड़ास

नई दिल्ली, कांग्रेस की भारत जोड़ो न्याय यात्रा इस वक्त उत्तर प्रदेश में हैं और …