बुंदेलखंड में फिर आत्महत्या! बिन बारिश सूख गई फसल तो किसान ने दे दी जान

हमीरपुर,

उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड में दैवीय आपदाओं से बर्बाद और तबाह हुये किसानों की आत्महत्याओं का सिलसिला फिर से शुरू हो गया है. हमीरपुर जिले में एक किसान ने मूंगफली की फसल बोई थी, लेकिन समय पर बरसात ना होने की वजह से दाना ही सूख गया और फसल पैदा ही नही हुई. हताश और निराश किसान ने फांसी लगा कर खुदकुशी कर ली है.

दरअसल हमीरपुर जिले के मुस्कुरा थाना इलाके में बारिश न होने के चलते खेती में हुए नुकसान से परेशान एक किसान ने आत्महत्या कर ली. घटना से किसान के घर में कोहराम मच गया. जिले में मौसम की मार से परेशान किसानों की आत्महत्या करने का सिलसिला रुकने का नाम ही नहीं ले रहा. इसी तरह की एक घटना कस्बा थाना क्षेत्र के गांव में घटी.

मुस्कुरा थाना क्षेत्र के गांव पहाड़ी भिटारी निवासी संजय लोधी ने बताया कि उसके पिता दुलीचंद के पास 4 बीघे कृषि योग्य भूमि है, जिस पर वह खेती करके घर का भरण पोषण करते हैं, इस साल पिता ने 100 बीघे के लगभग बटाई बलकट पर जमीन रखी हुई थी, जिसमें शुरुआत में बारिश होने के चलते मूंगफली की फसल बोई थी.

संजय लोधी ने बताया कि बारिश न होने से मूंगफली की फसल का बीज बर्बाद हो गया, जिससे घर में रखी पूंजी खत्म हो गई, इस नुकसान से वह कई दिनों से परेशान चल रहे थे, बीती रात लगभग 8:00 बजे दूसरे वाले मकान की अटारी में जाकर रस्सी से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. मृतक अपने पीछे पत्नी और तीन बेटों को रोता-बिलखता छोड़ गए.

मृतक दुलीचंद का एक बेटा ई रिक्शा चलाकर और दो बेटे खेती में हाथ बंटा कर परिवार का भरण पोषण करते थे. मृतक की दो बेटियां हैं, जिनकी शादी हो चुकी है. थाना प्रभारी निरीक्षक विनोद कुमार ने बताया कि घटना की लिखित जानकारी मिली है, शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है.

About bheldn

Check Also

साइंस कॉलेज चौपाटी दूसरे स्थान पर होगी शिफ्ट, राजेश मूणत ने दिए निर्देश

रायपुर। राजधानी रायपुर में स्थित साइंस कॉलेज की चौपाटी दूसरे स्थान पर शिफ्ट होगी। दरअसल …