मुख्तार अब्बास नकवी को चुभ गई योगी की आबादी वाली बात, देखिए हाथ जोड़कर क्या लिखा

नई दिल्‍ली

जनसंख्‍या दिवस पर उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के बयान पर बहस छिड़ गई है। योगी आदित्‍यनाथ ने यह बयान देश की बढ़ती आबादी को लेकर दिया था। उन्‍होंने जनसंख्‍या असंतुलन को चिंता का विषय बताया था। इस बयान को मजहबी रंग दिया गया। इसे लेकर बढ़ती बहस के बीच बीजेपी नेता मुख्‍तार अब्‍बास नकवी का बयान आया है। नकवी ने कहा है कि जनसंख्या विस्फोट किसी मजहब की नहीं, बल्कि मुल्क की मुसीबत है। इसे धर्म और जाति से जोड़ना ठीक नहीं है।

मुख्‍तार अब्‍बास नकवी ने इस बारे में एक ट्वीट किया है। इसमें उन्‍होंने हाथ जोड़कर लिखा है- बेतहाशा जनसंख्या विस्फोट किसी मजहब की नहीं, मुल्क की मुसीबत है। इसे जाति और धर्म से जोड़ना जायज नहीं है।

यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ के बयान पर छिड़ी बहस के बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री ने अपनी राय जताई है। विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर योगी ने जनसंख्‍या असंतुलन पर चिंता जाहिर की थी। उन्‍होंने कहा था कि जब हम परिवार नियोजन की बात करते हैं तो हमें ध्यान में रखना होगा कि जनसंख्या नियंत्रण कार्यक्रम सफलतापूर्वक आगे बढ़े। लेकिन, जनसांख्यिकी असंतुलन की स्थिति भी न पैदा होने पाए।

योगी बोले थे कि हम सभी जानते हैं कि बीते पांच वर्षों से देशभर में जनसंख्या स्थिरीकरण को लेकर व्यापक जागरूकता कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। एक निश्चित पैमाने पर जनसंख्या समाज की उपलब्धि भी है, लेकिन यह उपलब्धि तभी है, जब समाज स्वस्थ और आरोग्यता की स्थिति को प्राप्त कर सके। योगी के इस बयान के बाद बहस छिड़ गई। इसे मजहबी रंग देने की भी कोशिश की गई।

2023 के दौरान भारत आबादी के लिहाज से चीन को पीछे छोड़ देगा। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह चौहान ने भी सोमवार को जनसंख्‍या कानून की पैरवी की थी। विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर गिरिराज ने एक वीडियो बयान जारी कर इसे ट्विटर पर शेयर किया था। बिहार में बेगूसराय लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व करने वाले सिंह ने अफसोस जताया था कि पिछले तीन दशकों में भारत आर्थिक प्रगति की रफ्तार में चीन से पिछड़ गया, लेकिन जनसंख्या बढ़ोतरी में अपने पड़ोसी देश से आगे निकल गया। मुख्‍तार अब्‍बास नकवी का बयान ऐसे समय में आया है जब हाल में उन्‍होंने केंद्रीय पद से इस्‍तीफा दिया है। उनका राज्‍यसभा का कार्यकाल समाप्‍त हो चुका है। ऐसी अटकलें हैं कि नकवी को उपराष्‍ट्रपति पद का उम्‍मीदवार बनाया जा सकता है।

About bheldn

Check Also

स्पीकर के लिए पक्ष-विपक्ष दोनों ने उतारे उम्मीदवार… तो कैसे चुना जाएगा लोकसभा अध्यक्ष, पहले नहीं हुआ ऐसा

नई दिल्ली, लोकसभा स्पीकर का चुनाव इस बार दिलचस्प हो सकता है. वो इसलिए क्योंकि …