इतनी बारिश कि ‘क्षीरसागर’ में दिखने लगे भगवान विष्णु, इस मूर्ति के पीछे का रहस्य जानिए

नई दिल्ली

अगर आप रामायण, महाभारत या दूसरे धार्मिक सीरियल देखते रहे हैं तो क्षीरसागर के बारे में जानते होंगे। हिंदू धर्मग्रंथों के अनुसार, भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी क्षीरसागर में निवास करते हैं। तस्वीर भी आपके दिमाग में बन गई होगी। भगवान विष्णु शेषनाग पर लेटे हैं और मां लक्ष्मी उनके पांव के पास बैठी दिखती हैं। विष्णु सृष्टि के संचालक माने जाते हैं। उन्हें गृहस्थ का प्रतिनिधि माना जाता है। खैर, ये तो टीवी-फिल्मों में क्षीरसागर के दृश्य की बात हुई। असल में कभी आपने ऐसी तस्वीर देखी है जिसमें वो फिल्मी दृश्य रियल जैसा दिखने लगे। जी हां, वह नजारा देखकर हर धार्मिक व्यक्ति उस दैवीय स्वरूप को प्रणाम करने लगता है। दृश्य वैसा ही जैसा क्षीरसागर का हमने धर्मग्रंथों में पढ़ा और टीवी पर देखा है। अपने देश में यह जगह गुवाहाटी के पास में है। हर साल बारिश और बाढ़ के समय यहां की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो जाती है। इस बार भी यहां के वीडियो ट्विटर पर खूब शेयर किए जा रहे हैं।

ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित चक्रेश्वर मंदिर में भगवान विष्णु और लक्ष्मी के अलौकिक रूप के दर्शन होते हैं। दरअसल, क्षीरसागर के दृश्य को एक पिलर के सहारे बनाया गया है। पिलर के ऊपर शेषनाग पर भगवान विष्णु और लक्ष्मी जी की मूर्ति उसी मुद्रा में है।लगातार बारिश के चलते जब भी ब्रह्मपुत्र नदी का जल स्तर बढ़ता है क्षीरसागर वाली प्रतिमा के नीचे का हिस्सा यानी पिलर पूरी तरह से डूब जाता है और दृश्य क्षीरसागर का बनकर उभरता है।नवीन कुमार जिंदल ने ब्रह्मपुत्र के पानी के ऊपर बने क्षीरसागर के दृश्य वाले वीडियो को शेयर किया है। कल-कल करती जलधारा बह रही है और भगवान विष्णु का विहंगम स्वरूप लोगों को देवत्व का अनुभव करा रहा है।

About bheldn

Check Also

साइंस कॉलेज चौपाटी दूसरे स्थान पर होगी शिफ्ट, राजेश मूणत ने दिए निर्देश

रायपुर। राजधानी रायपुर में स्थित साइंस कॉलेज की चौपाटी दूसरे स्थान पर शिफ्ट होगी। दरअसल …