अमेरिका में 40 साल के हाई लेवल पर महंगाई, शेयर बाजार धड़ाम, ब्याज दरें बढ़ने की आशंका

नई दिल्ली

अमेरिकी शेयर बाजार बुधवार को तेज गिरावट के साथ खुला। कारण था उम्मीद से काफी खराब महंगाई के आंकड़े । महंगाई के बढ़े हुए आंकड़ों से अब निवेशकों को एक बड़ी चिंता खाई जा रही है। वह यह कि अमेरिका का केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व महंगाई पर काबू पाने के लिए और अधिक आक्रामक होकर ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर सकता है। महंगाई के उच्च आंकड़ों के चलते डाउ जॉन्स इंडस्ट्रियल एवरेज 445 अंक या 1.44 फीसदी गिर गया। जबकि एसएंडपी 500 (S&P 500) 1.39 फीसदी लुढ़क गया। इसके अलावा नैस्डेक कंपोजिट में 1.34 फीसदी की गिरावट दिखी।

बिगड़ा परिवारों का बजट
गैस, फूड और किराए की बढ़ती कीमतों ने जून में अमेरिकी मुद्रास्फीति को चार दशक के एक नए उच्च स्तर पर पहुंचा दिया है। इससे परिवारों के बजट पर दबाव बढ़ा है। साथ ही फेडरल रिजर्व ब्याज दरों में एक और बड़ी बढ़ोतरी कर सकता है। इससे लोन पर ब्याज दरें काफी बढ़ जाएंगी।

1981 के बाद की सबसे बड़ी सालाना वृद्धि
अमेरिकी सरकार ने बुधवार को बताया कि उपभोक्ता कीमतों में जून में एक साल पहले की तुलना में 9.1 फीसदी की वृद्धि हुई। यह 1981 के बाद की सबसे बड़ी सालाना वृद्धि है। यह मई के 8.6 फीसदी से अधिक है। मासिक आधार पर कीमतों में जून में 1.3 फीसदी का इजाफा हुआ। इससे पहले मई में कीमतें अप्रैल की तुलना में एक फीसदी बढ़ी थीं।

यूएस फेड बढ़ाएगा ब्याज दर
40 साल की उच्च मुद्रास्फीति के चलते इस महीने के आखिर में यूएस फेड ब्याज दरों में 0.75 फीसदी की और बढ़ोतरी कर सकता है। निवेशकों को अब दिसंबर 2022 तक टर्मिनल रेट 3.60% पर रहने उम्मीद है, जो पहले के 3.41% से अधिक है। जैसे-जैसे केंद्रीय बैंक प्रमुख ब्याज दरों में इजाफा करेगा, वैसे ही लोन पर ब्याज दरें महंगी होंगी। साथ ही आर्थिक मंदी की आशंका भी बढ़ रही है।

About bheldn

Check Also

राहुल गांधी वायनाड से देंगे इस्तीफा, रायबरेली से रहेंगे सांसद, प्रियंका गांधी लड़ेंगी चुनाव

तिरुवनंतपुरम कांग्रेस नेता राहुल गांधी केरल की वायनाड लोकसभा सीट से इस्तीफा देंगे। इस बात …