पटना एसएसपी के बयान पर बिहार एनडीए में ठनी, हम ने कहा- हिंदू राष्ट्र की वकालत कितना सही?

पटना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बिहार दौरे से ठीक पहले पटना में दो संदिग्ध आतंकवादी पकड़े गए। फुलवारी शरीफ के एएसपी मनीष कुमार सिन्हा ने इसका खुलासा किया। एक दिन बाद पटना के एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लो मीडिया से मुखातिब हुए तो उन्होंने अक्सर विवादों में रहने वाले कट्टरपंथी संगठन PFI की तुलना RSS से कर दी। उन्होंने कहा कि जिस तरह आरएसएस की शाखा में स्वयं सेवकों को शारीरिक प्रशिक्षण दिया जाता है, उसी तरह पकड़े गए लोगों को भी मस्जिद में प्रशिक्षण दिया जा रहा था।

इस बयान के बाद से बिहार एनडीए में ठन गई है। पटना SSP के पक्ष में उतरे HAM पार्टी के प्रवक्ता डॉ दानिश रिजवान ने कहा है कि इस मामले में जानबूझ कर SSP को घसीटा जा रहा है। उन्होंने कहा, अगर इस्लामिक स्टेट की बात करना अपराध है तो फिर हिन्दू राष्ट्र की वकालत करना कहां से ठीक? यदि इस्लामिक राष्ट्र की कल्पना करने वालों को जेल तो फिर हिन्दू राष्ट्र की बात करने वालों को छूट क्यों? उधर बीजेपी के प्रवक्ता डॉ निखिल आनंद का कहना है कि आईएएस व आईपीएस अधिकारी राजनीति से परे होते हैं। मगर यह दुर्भाग्यपूर्ण हैं कि पटना एसएसपी ने पीएफआई की तुलना आरआरएस से की है। ये बहुत ही निंदनीय और शर्मनाक बयान है। इस बयान के लिए पटना एसएसपी को माफी मांगनी चाहिए।

About bheldn

Check Also

जहां अफसर मतदान में देरी करते रहे, वहीं बीजेपी के लिए काम करता रहा चुनाव आयोग, उद्धव ठाकरे ने लगाए गंभीर आरोप

मुंबई शिवसेना (यूबीटी) के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने सोमवार को आरोप लगाया कि मुंबई में …