तिहाड़ के अधिकारियों ने 12 करोड़ ऐंठ लिए, सुकेश चंद्रशेखर ने किया दावा

नई दिल्ली

तिहाड़ में बंद कथित महाठग चंद्रशेखर ने जेल के अधिकारियों की तरफ से 12 करोड़ रुपये ऐंठ जाने की बात कही है। सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान सुकेश चंद्रशेखर ने कहा कि दिल्ली की तिहाड़ जेल में कुछ अधिकारियों ने उससे 12.5 करोड़ रुपये ऐंठे हैं। सुकेश ने कहा कि उसने खुद को प्रताड़ित होने से बचाने के लिए यह पैसे दिए। वहीं, ईडी ने इस बात की भी पुष्टि की कि सुकेश ने जेल के अंदर अधिकारियों को घूस दी ताकि वह अपना उगाही का धंधा अंदर से ही चला सके। इस मामले पर शीर्ष अदालत ने चंद्रशेखर से सवाल किये कि आखिरकार उसकी ओर से किसने पैसों का भुगतान किया। कोर्ट ने ने कहा कि वह ‘मामले की जड़’ में जाएगा।

किसको पैसे दिए, किसके जरिये दिए, पूरी जानकारी दें
सुकेश और उनकी पत्नी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर अपनी जान के कथित खतरों के मद्देनजर तिहाड़ जेल से दूसरी जगह ट्रांसफर करने का अनुरोध किया था। मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस उदय उमेश ललित, जस्टिस एस. आर. भट और जस्टिस सुधांशु धूलिया की बेंच ने कहा कि हम याचिकाकर्ता को उन व्यक्तियों की सूची उपलब्ध कराने का निर्देश देते हैं, जिन्हें भुगतान किया गया। इसके साथ ही, हम अपनी ओर से उन्हें किए गए पेमेंट की डिटेल देने का निर्देश देते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता यह भी बताएं कि उसने किन लोगों और किनके जरिये पैसे दिए। कोर्ट ने कहाकि सुनवाई की अगली तारीख तक सभी ब्योरा पेश करें। मामले की सुनवाई अब 26 जुलाई को होगी।

जेल में ही बना लिया था ऑफिस, करता था उगाही
ईडी ने सुकेश की याचिका का विरोध करते हुए एक विस्तृत हलफनामा भी दायर किया। ईडी ने कहा कि चंद्रशेखर ने कुछ अधिकारियों की मिलीभगत से तिहाड़ जेल के अंदर एक ऑफिस बना लिया था। वह जेल के भीतर से ही जबरन उगाही का रैकेट चला रहा था। चंद्रशेखर ने तर्क दिया कि देश के विभिन्न हिस्सों में उनके खिलाफ 37 मामले लंबित हैं। उसने अनुरोध किया कि उन्हें दिल्ली के बाहर किसी अन्य जेल में ट्रांसफर कर दिया जाए। इससे पहले ईडी ने सुझाव दिया था कि आरोपी को दिल्ली की दूसरी जेल में स्थानांतरित किया जा सकता है, लेकिन सुकेश ने इसका विरोध करते हुए कहा कि वह ऐसी जेल में शिफ्ट होना चाहता है, जिस पर दिल्ली पुलिस का कंट्रोल ना हो


ई़डी ने बेंच को बताया कि सुकेश चंद्रशेखर ने जेल अधिकारियों को जेल के अंदर से अपने अवैध संचालन के लिए सुविधाएं प्राप्त करने के लिए भुगतान किया। ईडी ने कहा कि अब वह दूसरी जेल में ट्रांसफर कराना चाहता है क्योंकि तिहाड़ में उसकी अवैध गतिविधियों का खुलासा हो गया। साथ ही वह जेल अधिकारियों को रिश्वत देते हुए पकड़ा गया। सुकेश की ओर से पेश सीनियर एडवोकेट आर बसंत ने कहा कि उनके मुवक्किल ने पैसे का भुगतान किया था लेकिन यह रिश्वत नहीं थी। उन्होंने कहा कि चंद्रशेखर को जेल अधिकारियों को भुगतान करने के लिए मजबूर किया गया था क्योंकि उन्हें अपने जीवन के लिए खतरा था। साथ ही उन्हें जेल के अंदर प्रताड़ित किया जा रहा था।

About bheldn

Check Also

SC ने जीशा बलात्कार-हत्या मामले के आरोपी इस्लाम की मौत की सजा पर लगाई रोक, जानिए पूरा मामला

नई दिल्ली सुप्रीम कोर्ट ने असम के प्रवासी मजदूर मुहम्मद अमीर अमीर-उल-इस्लाम की मौत की …