BA.5 हवाओं में तैर रहा नया कोरोना वेरिएंट… वैक्सीन, एंटीबॉडी सब बेअसर! एक्सपर्ट से जानें डरना कितना जरूरी?

वॉशिंगटन

कोरोना वायरस के फैलने की रफ्तार अब पहले जैसी नहीं है लेकिन खतरा कहीं गया नहीं है। ज्यादातर देशों में वैक्सीन उपलब्ध है और संक्रमण सुस्त पड़ चुका है लेकिन लापरवाही की गुंजाइश नहीं है। भारत और अन्य देशों में डेल्टा वेरिएंट ने जो तबाही मचाई उसके जख्म अब भी पूरी तरह भरे नहीं हैं। इसीलिए जब भी ‘नए वेरिएंट’ के बारे में सुनने को मिलता लोग फिर घबरा जाते हैं। हालांकि डेल्टा के बाद सामने आए ओमीक्रोन और उसके सब-वेरिएंट उतने संक्रामक नहीं है। लेकिन हमें सावधान रहने की जरूरत है। अब जब गर्मियों का मौसम अपने चरम पर है तब कोरोना का एक नया वेरिएंट धीरे-धीरे बढ़ने लगा है। आइए जानते हैं कि क्या सावधानी बरतते हुए हमें इससे डरने की जरूरत है…

यह ओमीक्रोन का ही एक सब-वेरिएंट है जिसे BA.5 कहा जा रहा है। यह बड़े पैमाने पर हलचल पैदा कर रहा है क्योंकि यह अन्य ओमीक्रोन वेरिएंट की तुलना में कहीं अधिक विकसित है। अब तक ओमीक्रोन से संक्रमित होने का मतलब था कि आपके शरीर में ऐसी एंडीबॉडी का विकास जो आपको कुछ महीनों तक दोबारा संक्रमित होने से बचा सकती थीं। लेकिन BA.5 पुराने वेरिएंट्स के खिलाफ हमारी सुरक्षा से बच रहा है। इसका मतलब है कि दोबारा संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है, हाल ही में संक्रमित लोगों और वैक्सीन लगवा चुके लोगों में भी।

वैक्सीन और एंटीबॉडी भी बेअसर
बिजनेस इन्साइडर ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है, हां BA.5 दूसरे वेरिएंट्स की तुलना में आसानी से फैलता है। और ऐसा महसूस हो सकता है कि यह हर जगह फैला हुआ है, किसी को भी संक्रमित कर सकता है, चाहें आप वैक्सीन लगवा चुके हों, बूस्टर शॉट ले चुके हों या कोविड संक्रमित हो चुके हों। अमेरिका के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. एंथनी फौसी ने मंगलवार को कहा कि अगर आप BA.1 से संक्रमित थे तो आपके पास वास्तव में BA.5 से बहुत अच्छी सुरक्षा नहीं है।

नया वेरिएंट कितना खतरनाक
यह वेरिएंट कितना खतरनाक है? कैसर हेल्थ न्यूज में एक संक्रामक रोग विशेषज्ञ और सार्वजनिक स्वास्थ्य के एडिटर डॉ सेलीन गौंडर ने कहा, ‘मैं इसका जवाब नहीं दे सकता।’ उन्होंने कहा कि इसका रिस्क आपके वैक्सिनेशन स्टेटस, आपकी उम्र, आपके स्वास्थ्य, आपके व्यवसाय और आपके रहन-सहन जैसी चीजों पर निर्भर करता है।’ यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन में संक्रामक रोग चिकित्सक डॉ. प्रीति मलानी ने इसके खतरे को रेटिंग दी है।

वैक्सिनेशन बहुत जरूरी
उन्होंने नए संस्करण पर ‘हल्की चिंता’ व्यक्त करते हुए इसे ’10 में से 3 रिस्क रेटिंग’ दी है। मलानी ने कहा कि BA.5 हर जगह मौजूद है और अगर अभी तक आप इसकी चपेट में नहीं आए हैं तो इसकी प्रबल संभावनाएं हैं कि आप आ सकते हैं। लेकिन अगर आपका वैक्सीन स्टेटस अप टू डेट है तो बीमारी बिना किसी गंभीर परिणाम के हल्की हो सकती है।

About bheldn

Check Also

एक नींद की झपकी और 14 लोगों की दर्दनाक मौत… यहां जानिए कैसे हुआ रुद्रप्रयाग में भयंकर हादसा

रुद्रप्रयाग: उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर रैतोली गांव के समीप शनिवार …