एयर डिफेंस कमांड बनाने से वायुसेना को नुकसान? IAF चीफ ने क्यों कहा ऐसा?

नई दिल्ली

एयरफोर्स चीफ ने भविष्य के युद्धों के लिए इंटीग्रेटेड एयर डिफेंस सिस्टम की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि एयर डिफेंस कमांड बनाना काउंटर प्रोडक्टिव साबित हो सकता है। एक तरफ आर्मी, नेवी और एयरफोर्स की सभी कमांड को मिलाकर थिएटर कमांड बनाने की प्रक्रिया चल रही है और ऐसे में एयरफोर्स चीफ एयर चीफ मार्शल वी आर चौधरी का यह बयान काफी अहम है। एयरफोर्स पहले भी थिएटर कमांड को लेकर अपनी आशंका और आपत्तियां बता चुका है।

एयरफोर्स चीफ ने कहा कि जहां एयरोस्पेस की सुरक्षा और प्रभावशाली एयर डिफेंस के लिए सभी के बीच कॉर्डिनेशन की जरूरत है वहीं एयर डिफेंस कमांड बनाना काउंटर प्रोडक्टिव साबित हो सकता है क्योंकि एयर डिफेंस ऑपरेशन, काउंटर एयर ऑपरेशन और सभी ओफेंसिव (आक्रामक)ऑपरेशन से जुड़े हुए हैं। इनमें से किसी एक की सफलता या असफलता का दूसरे की जरूरत पर असर पड़ता है।

एक सेमिनार में बोलते हुए एयरफोर्स चीफ ने कहा कि एयर डिफेंस और आक्रामक मिशन एक दूसरे पर निर्भर करते हैं और अगर इसे अलग अलग लागू करने की कोशिश की गई तो यह प्रभावशाली नहीं होंगे। पिछले दो सालों से थिएटर कमांड बनाने को लेकर चर्चा चल रही है और इसकी प्रक्रिया भी जारी है। देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने इसे लेकर तीनों फोर्स के बीच काफी कंसल्टेशन भी किए।

एयरफोर्स पहले भी जता चुका है आपत्ति
एयरफोर्स ने पहले भी अलग एयर डिफेंस कमांड बनाने को लेकर अपनी आपत्तियों को सामने रखा है। जिसके बाद एक कमिटी भी गठित की गई। अभी आर्मी, नेवी और एयरफोर्स की 17 कमांड हैं, इन सबको मिलाकर कुल चार थिएटर कमांड बनाने की प्रक्रिया चल रही है। इसमें आर्मी की दो कमांड होंगी। एक वेस्टर्न थिएटर कमांड और दूसरी ईस्टर्न थिएटर कमांड। नेवी की एक थिएटर कमांड बनेगी और एक एयर डिफेंस कमांड बनेगी।

About bheldn

Check Also

‘छठी बार का सांसद हूं, आप हमको सिखाएंगे….’, नारेबाजी करने से रोका तो पप्पू यादव ने किरेन रिजिजू पर साधा निशाना

नई दिल्ली, लोकसभा में सांसदों के शपथ लेने की प्रक्रिया जारी है. ऐसे में आज …