इजरायल के साथ दोस्‍ती करेगा सऊदी अरब ? पैसेंजर प्‍लेन को मंजूरी, बाइडन को बड़ी सफलता

रियाद

सऊदी अरब ने इजरायल से आने वाली फ्लाइट को अपने एयर स्‍पेस में आने की मंजूरी दे दी है। पश्चिमी एशिया के दौरे पर पहुंचे अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडन की सऊदी यात्रा से ठीक पहले फ्लाइट बैन हटाने का ऐलान किया गया। यरूशलम में बाइडन और इजरायली पीएम यैर लैपिड ने एकसाथ खड़े हुए नजर आए। उन्‍होंने ऐलान किया कि वे ईरान को परमाणु हथियार संपन्‍न राष्‍ट्र नहीं बनने देंगे। बाइडन ने चेतावनी दी कि ईरान को लेकर उनका सब्र अब खत्‍म हो रहा है और उन्‍हें आशा है कि ईरान फिर से परमाणु डील में शामिल होगा।

राष्‍ट्रपति बनने के बाद पश्चिम एशिया के पहले दौरे पर बाइडन ने ईरान को यह चेतावनी दी। इस बीच सऊदी अरब के ऐलान को मुस्लिम देशों के अगुवा और यहूदी देश इजरायल के बीच संबंधों में सुधार के रूप में देखा जा रहा है। वह भी तब जब सऊदी अरब ने अभी तक इजरायल को मान्‍यता नहीं दी है। यही नहीं सऊदी अरब पर आरोप है कि वह अपनी पाठ्य पुस्‍तकों और कुछ इमामों की तकरीर में इजरायल के खिलाफ भावनाओं को भड़काता है।

सऊदी अरब ने अब्राहम समझौते में शामिल होने से इंकार किया
सऊदी अरब के इस ऐलान को दोनों ही देशों में बहुत उत्‍सुकता के साथ देखा जा रहा है। अमेरिकी राष्‍ट्रपति के दौरे से यह अटकलें बढ़ गई हैं कि इजरायल और सऊदी अरब के बीच रिश्‍ते सामान्‍य हो सकते हैं। इस बीच बताया जा रहा है कि सऊदी अरब ने कहा है कि वह अपनी दशकों पुरानी अरब लीग की स्थिति पर कायम रहेगा। इसके मुताबिक सऊदी अरब इजरायल के साथ रिश्‍ते तब तक सामान्‍य नहीं करेगा जब तक‍ कि फलस्‍तीन विवाद सुलझ नहीं जाता है।

विश्‍लेषकों का मानना है कि इजरायल और सऊदी अरब के बीच पर्दे के पीछे से बिजनस और सुरक्षा संबंधी संपर्क भले ही बढ़ रहा है लेकिन यह धीरे-धीरे होगा न कि अब्राहम समझौते की तरह। सऊदी अरब के दो पड़ोसी देशों यूएई और बहरीन ने अमेरिका की ओर से कराए गए अब्राहम समझौते के तहत इजरायल के साथ रिश्‍ते सामान्‍य किए हैं। अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि यह दर्शाता है कि सऊदी अरब के रुख में पिछले कुछ वर्षों में व्‍यापक बदलाव आया है। अभी तक सऊदी अरब ने अब्राहम समझौते में शामिल होने से इंकार किया है।

पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या का जिक्र करेंगे बाइडन
इस बीच बाइडन ने कहा है कि वइ इस संबंध में कोई प्रतिबद्धता नहीं व्यक्त कर सकते कि सऊदी राजकुमार मोहम्मद बिन सलमान के साथ होने वाली मुलाकात के दौरान चर्चित पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या का जिक्र नहीं करेंगे। बाइडन ने इजरायली प्रधानमंत्री के साथ संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘मैं हमेशा मानवाधिकारों को सामने रखता हूं।’ बाइडन ने कहा, ‘लेकिन खशोगी पर मेरा रुख स्पष्ट है। अगर कोई इसे सऊदी अरब में या कहीं और, नहीं समझता है, तो वे मुझे नहीं पहचानते हैं।’ अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने कहा कि सऊदी अरब की उनकी यात्रा का उद्देश्य ‘व्यापक’ है।

About bheldn

Check Also

केन्या में टैक्स का विरोध कर रहे हजारों प्रदर्शनकारियों ने संसद में लगाई आग

नई दिल्ली, केन्या के हजारों प्रदर्शनकारी मंगलवार को संसद में घुस गए. प्रदर्शनकारी टैक्स में …