महाधिवक्ता कार्यालय में अग्निकांड की CBI जांच कराने की मांग, 25 हजार फाइलें जलकर हुईं खाक

प्रयागराज

यूपी के महाधिवक्ता कार्यालय में रविवार को लगी भीषण आग में हुए नुकसान को लेकर एक लेटर पिटिशन इलाहाबाद हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस को भेजी गई है। वकील गौरव द्विवेदी की ओर से भेजी गई इस याचिका में घटना की सीबीआई से जांच की मांग की गई है। इस याचिका में कहा गया है कि आग से पच्चीस हजार के करीब फाइलें जलकर खाक हो गई हैं। यह भी कहा गया है कि, बिल्डिंग में स्थापित अग्नि अवरोधक यंत्रों के ठप होने के कारण यह घटना घटित हुई है।

घटना स्थल पर उपस्थित सीआरपीएफ जवान ने अग्नि अवरोधक बल को यह जानकारी दी है। पत्र याचिका में घटना पर स्वतः संज्ञान लेने का आग्रह किया गया है। साथ ही पत्र याचिका पर जनहित याचिका कायम कर सुनवाई की मांग की गई है।

रविवार सुबह यूपी के महाधिवक्ता कार्यालय में भीषण आग लग गई थी। इससे कंटेम्ट सेक्शन, बेल सेक्शन, क्रिमिनल अपील सेक्शन, क्रिमिनल रिवीजन और सिविल सेक्शन की फाइलें जल गईं। इनके नष्ट होने से मुकदमों की सुनवाई में भी दिक्कतें पेश आ सकती हैं। आग इतनी भीषण थी कि इसे बुझाने के लिए आर्मी और वायुसेना की भी मदद लेनी पड़ी। साथ ही मेजा पावर प्लांट की फायर ब्रिगेड की गाड़ियों ने भी आग बुझाने में मदद की।

डीएम ने बताया कि, सीएम के निर्देश पर आग लगने के कारणों की जांच के लिए पांच सदस्यीय टीम गठित की गई है। इस घटना में कोई भी व्यक्ति गंभीर रूप से घायल नहीं हुआ है। कांच तोड़ने और आग बुझाने में दो फायर कर्मी मामूली रूप से घायल हुए हैं, जिन्हें अस्पताल भेजा गया था। वहां प्राथमिक उपचार के बाद दोनों को छुट्टी दे दी गई।

About bheldn

Check Also

सीएम साय मुंगेली के फरहदा के लिए रवाना, समीक्षा बैठक पर बोले- क्षमता अनुसार खाद, बीज की हो आपूर्ति

रायपुर। मुख्यमंत्री साय ने विभिन्न विभागों की समीक्षा की प्रक्रिया शुरू कर दी है। दरअसल …