संसद भवन में 99.18% हुआ मतदान, 21 जुलाई को तय होगा कौन होंगे देश के नए राष्ट्रपति

नयी दिल्ली

भारत के 15वें राष्ट्रपति के निर्वाचन के लिए सोमवार को मतदान हुआ। इस चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का मुकाबला विपक्ष के साझा उम्मीदवार यशवंत सिन्हा से है। मतदान 10 बजे आरंभ हुआ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबसे पहले मतदान किया। मतदान की प्रक्रिया पांच बजे समाप्त हुई। राष्ट्रपति का चुनाव निर्वाचक मंडल के सदस्यों द्वारा किया जाता है, जिसमें संसद के दोनों सदनों के निर्वाचित सदस्य और केंद्र शासित प्रदेश सहित सभी राज्यों की विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्य होते हैं। कुल 4800 निर्वाचित सांसद और विधायक मतदान करने के पात्र हैं।

दिल्ली में मतदान
दिल्ली विधानसभा परिसर में कड़ी सुरक्षा के बीच सोमवार सुबह राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान शुरू हुआ। दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सीसोदिया, आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक शिवचरण गोयल, भावना गौर और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक मोहन सिंह बिष्ट ने सुबह-सुबह मतदान किया। दिल्ली की 70 सदस्यीय विधानसभा में ‘आप’ के 62 और बाकी भाजपा के विधायक हैं। पंजाब और हरियाणा विधानसभा के परिसरों में सुबह 10 बजे राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान शुरू हुआ। पंजाब की 117 सदस्यीय विधानसभा में आप के 92, जबकि कांग्रेस के 18 विधायक हैं। शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के तीन, भाजपा के दो, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) का एक और एक निर्दलीय विधायक है। पंजाब में कांग्रेस के आठ लोकसभा सांसद, शिअद तथा भाजपा के दो-दो और शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) का एक सांसद है। वहीं, सभी सात राज्यसभा सदस्य आप के हैं।

हरियाणा की 90 सदस्यीय करेंगे मतदान
हरियाणा की 90 सदस्यीय विधानसभा के 89 सदस्य ही विधानसभा परिसर में मतदान करेंगे। कांग्रेस के विधायक कुलदीप बिश्नोई को पिछले महीने राज्यसभा चुनाव में ‘क्रॉस-वोटिंग’ करने के मामले में निलंबित कर दिया गया था। बिश्नोई संसद परिसर में मतदान करेंगे। पंजाब में कांग्रेस के प्रताप बाजवा, सुखपाल सिंह खैरा, सुखजिंदर रंधावा और आम आदमी पार्टी (आप) के नेता एवं और कैबिनेट मंत्री लालचंद मत डाल चुके हैं। वहीं, हरियाणा में मंत्री कमल गुप्ता ने सबसे पहले मतदान किया। सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा)-जननायक जनता पार्टी के कई विधायक मतदान के लिए विधानसभा परिसर पहुंचे, जबकि मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के विधायकों के दोपहर में मतदान करने की संभावना है।

उत्तर प्रदेश विधानभवन में हुआ मतदान
उत्तर प्रदेश विधान भवन स्थित तिलक हॉल में सोमवार को सुबह राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए मतदान शुरू हो गया। उत्तर प्रदेश में राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए निर्वाचन अधिकारी बृज भूषण दुबे ने बताया, ‘राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान शुरू हो गया है जो शाम पांच बजे तक चलेगा।’ राष्ट्रपति चुनाव में उत्तर प्रदेश 403 विधायकों में से प्रत्येक के लिए 208 के उच्चतम वोट मूल्य के साथ एक महत्वपूर्ण राज्य होगा। राष्ट्रपति चुनाव के लिए राजस्थान विधानसभा में मतदान सोमवार को सुबह शुरू हो गया। राजस्थान की 200 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 108, भारतीय जनता पार्टी के 71 व निर्दलीय 13 विधायक हैं। राज्य से लोकसभा के 25 और राज्यसभा के 10 सदस्य हैं।

मध्यप्रदेश में मतदान
मध्य प्रदेश विधानसभा में राष्ट्रपति चुनाव के लिए सुबह दस बजे मतदान शुरू हुआ। शुरुआती मतदाताओं में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शामिल थे। मध्य प्रदेश की 230 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा के 127 और कांग्रेस के 96 विधायक हैं। बसपा के दो और सपा का एक विधायक हैं जबकि सदन में चार निर्दलीय विधायक हैं। झारखंड विधानसभा में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान सुबह करीब सवा दस बजे प्रारंभ हो गया। झारखंड की 81 सदस्यीय विधानसभा में सत्ताधारी झारखंड मुक्ति मोर्चा के कुल 30 सदस्यों और भाजपा के 26 विधायकों एवं आजसू के दो एवं दो निर्दलीय विधायकों ने द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में मतदान करने की घोषणा की है। राज्य के एक विधायक के मत का मूल्य 176 है।

महाराष्ट्र विधानसभा में हुआ मतदान
महाराष्ट्र विधान भवन में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान हुआ। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और राज्य के अन्य विधायकों ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए सोमवार को मतदान किया। भाजपा के पास 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा में वर्तमान में 106 विधायक हैं, जिसमें शिवसेना के एकनाथ शिंदे गुट के 40 विधायक हैं, इसके अलावा 10 निर्दलीय विधायक हैं जो भाजपा का समर्थन करते हैं। उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना ने 15 विधायकों के साथ मुर्मू को समर्थन देने की घोषणा की है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस के पास क्रमश: 53 और 44 विधायक हैं। गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने देश के अगले राष्ट्रपति के चुनाव के लिए सोमवार को अपना वोट डाला। 40 सदस्यीय गोवा विधानसभा में भाजपा के 20 विधायक हैं। उसे महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) के दो विधायकों और तीन निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन प्राप्त है।

गुजरात विधानसभा में वोटिंग
गुजरात के विधानसभा परिसर में सबसे पहले मतदान करने वालों में मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल और विधानसभा की अध्यक्ष नीमाबेन आचार्य का नाम शामिल है। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, पूर्व उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल और नेता प्रतिपक्ष सुखराम राठवा ने भी सुबह-सुबह मतदान किया। गुजरात की 182 सदस्यीय विधानसभा में 178 विधायकों के पास ही मताधिकार है। इनमें से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के 111 सदस्य, कांग्रेस के 63, भारतीय ट्राइबल पार्टी के दो, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का एक और एक निर्दलीय विधायक है।

आंध्र प्रदेश में मतदान
आंध्र प्रदेश विधानसभा परिसर में सुबह 10 बजे राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान शुरू हुआ। सबसे पहले मुख्यमंत्री वाई. एस. जगन मोहन रेड्डी ने मत डाला। मुख्यमंत्री के बाद विधानसभा के अध्यक्ष थम्मिनेनी सीताराम और फिर अन्य मंत्रियों ने मतदान किया। आंध्र प्रदेश विधानसभा के 175 सदस्यों, राज्य के 25 लोकसभा सदस्य और 11 राज्यसभा सदस्य सभी ने द्रौपदी मुर्मू को समर्थन देने की घोषणा की है। राज्य के मुख्य विपक्षी दल तेलुगु देशम पार्टी ने भी मुर्मू को समर्थन देने का ऐलान किया है।

छत्तीसगढ़ में मतदान
छत्तीसगढ़ के विधानसभा परिसर में सोमवार सुबह राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान शुरू हुआ। छत्तीसगढ़ की 90 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 71, भाजपा के 14, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के तीन और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के दो विधायक हैं। देश के 15वें राष्ट्रपति के चुनाव के लिए ओडिशा विधानसभा में मतदान जारी है। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक वोट डालने वाले शुरुआती सदस्यों में शामिल थे। ओडिशा विधानसभा के सभी 147 सदस्य राष्ट्रपति चुनाव में मतदान करने के पात्र हैं। सत्तारूढ़ बीजद के पास जहां 112 विधायक हैं, वहीं भाजपा के 22, कांग्रेस के नौ और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के एक और एक निर्दलीय विधायक हैं। बीजद के दो सदस्यों को निष्कासित कर दिया गया है।

ओडिशा में हुआ मतदान
ओडिशा से 31 सांसद – 21 लोकसभा और 10 राज्यसभा सदस्य है। लोकसभा के 21 सदस्यों में से 12 बीजद से, आठ भाजपा से और एक कांग्रेस से है। राज्यसभा में बीजद के नौ और भाजपा के एक सदस्य हैं। पश्चिम बंगाल विधानसभा में राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए मतदान सुबह दस बजे शुरू हुआ और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस तथा विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी के विधायक परिसर में कतारबद्ध होकर मतदान कर रहे हैं।

असम में मतदान
असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा समेत राज्य के 126 विधायकों में से कुल 119 ने सोमवार को विधानसभा में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान किया। असम के एक विधायक के वोट का मूल्य 116 है और कुल मूल्य 14,616 है। राज्य में सत्तारूढ़ राजग के 79 विधायक हैं, जबकि बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (बीपीएफ) के तीन सदस्य जो गठबंधन का समर्थन करते हैं लेकिन औपचारिक रूप से इसमें शामिल नहीं हैं, उनके भी मुर्मू को वोट देने की संभावना है। कांग्रेस के पास 27 विधायक हैं लेकिन उनमें से तीन को पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण निलंबित कर दिया गया है और उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया है कि वे किसके पक्ष में मतदान करेंगे। एक माकपा और निर्दलीय सदस्य ने सिन्हा को अपना समर्थन देने का वादा किया है।

लोकतंत्र रहेगा या नहीं- यशवंत सिन्हा
राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष के साझा उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने सोमवार को कहा कि यह चुनाव देश की दिशा इस मायने में तय करेगा कि लोकतंत्र रहेगा या नहीं। उन्होंने सांसदों और विधायकों का आह्वान भी किया कि वे अंतरात्मा की आवाज सुनें और उनका समर्थन करें। वहीं, राजग की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू की जीत की कामना करते हुए रविवार को ओडिशा में विभिन्न पूजा स्थलों पर भाजपा कार्यकर्ताओं तथा आदिवासी समुदायों के लोगों ने मिट्टी के दीये जलाए और यज्ञ का आयोजन किया। मतों की गिनती संसद भवन में होती है। मतगणना 21 जुलाई को होगी। जम्मू कश्मीर में विधानसभा नहीं होने की वजह से इस बार सांसदों के मतों का मूल्य 708 से घटकर 700 हो गया है।

राज्यों में विधायकों के मतों के मूल्य अलग-अलग हैं। उत्तर प्रदेश के प्रत्येक विधायक का राष्ट्रपति चुनाव में मत मूल्य अन्य किसी राज्य के विधायक से अधिक है। उत्तर प्रदेश के विधायकों के मत का मूल्य 208 है, जबकि झारखंड और तमिलनाडु के विधायकों का मूल्य 176 है। महाराष्ट्र में यह 175, सिक्किम में सात, नगालैंड में नौ और मिजोरम में आठ है। मुर्मू अगर यह चुनाव जीतकर राष्ट्रपति बन जाती हैं, तो स्वतंत्रता के बाद जन्मी इस शीर्ष पद पर पहुंचने वाली पहली नेता होंगी। वह देश की पहली आदिवासी और सबसे युवा राष्ट्रपति भी होंगी।

About bheldn

Check Also

जिसने जुर्म किया है उसे ही जांच सौंप दी जाए तो… दिग्विजय सिंह ने NEET घोटाले में पीएम मोदी से कर दी बड़ी मांग

भोपाल नीट यूजी की परीक्षा के रिजल्ट को लेकर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय …