मंकीपॉक्स पर सरकार अलर्ट, पोर्ट से एयरपोर्ट तक पैसेंजर्स की निगरानी

नई दिल्ली

केंद्र ने सोमवार को आगमन पर सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की ‘सख्त स्वास्थ्य जांच’ की सलाह दी है। केंद्र का यह आदेश ऐसे समय में आया है जब केरल के कन्नूर का 31 वर्षीय एक व्यक्ति सोमवार को जांच में मंकीपॉक्स से संक्रमित पाया गया। यह भारत में इस बीमारी का दूसरा मामला है। यह जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने दी।

इससे पहले, अफ्रीकी देशों से आने वाले यात्रियों के लिए स्क्रीनिंग की सलाह दी गई थी। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने हवाई अड्डों और बंदरगाहों पर भारत आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की स्वास्थ्य जांच के कामकाज की समीक्षा की। स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि समीक्षा प्रक्रिया के हिस्से के रूप में, “राज्यों, हवाई अड्डे और बंदरगाह के स्वास्थ्य अधिकारियों को सलाह दी गई है कि वे सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की सख्त स्वास्थ्य जांच सुनिश्चित करें ताकि बाहर से आने वाले मंकीपॉक्स रोग के जोखिम को कम किया जा सके।”

बैठक में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के क्षेत्रीय अधिकारियों, हवाई अड्डे और बंदरगाह के स्वास्थ्य अधिकारियों व क्षेत्रीय निदेशकों ने भाग लिया। इससे पहले एक अधिकारी ने कहा कि दूसरा मकीपॉक्स मरीज 13 जुलाई को दुबई से तटीय कर्नाटक के मंगलूरु हवाई अड्डे पर उतरा था। उन्होंने कहा कि बीमारी के लक्षण दिखने के बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उसके नमूने राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान, पुणे को भेजे गए थे। उन्होंने बताया कि जांच में वह वायरस से संक्रमित पाया गया।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कोल्लम जिले से मंकीपॉक्स के पहले मामले का पता चलने के बाद सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों को शुरू करने में राज्य के स्वास्थ्य अधिकारियों की सहायता के लिए पिछले सप्ताह केरल में एक उच्चस्तरीय टीम भेजी थी। पिछले सप्ताह स्वास्थ्य मंत्रालय के एक आधिकारिक ज्ञापन में कहा गया था, ‘‘केरल के कोल्लम जिले से मंकीपॉक्स के एक मामले की पुष्टि के मद्देनजर, स्वास्थ्य मंत्रालय ने प्रकोप की जांच करने और आवश्यक सार्वजनिक स्वास्थ्य उपाय शुरू करने में केरल राज्य सरकार की मदद करने के लिए एक केंद्रीय टीम भेजने का निर्णय लिया है।’’

अधिकारियों ने कहा था कि टीम राज्य के स्वास्थ्य विभागों के साथ मिलकर काम करेगी और जमीनी स्थिति का जायजा लेगी और आवश्यक सार्वजनिक स्वास्थ्य हस्तक्षेप की सिफारिश करेगी। स्वास्थ्य मंत्रालय ने पहले कहा था, ‘‘भारत सरकार स्थिति की सावधानीपूर्वक निगरानी करके अग्र सक्रिय कदम उठा रही है और किसी संभावित प्रकोप की स्थिति में राज्यों के साथ समन्वय कर रही है।’’

About bheldn

Check Also

देश की संपत्ति में सामान्य वर्ग की हिस्सेदारी 89%, दलित समुदाय की सिर्फ 2.6%

नई दिल्ली वर्ल्ड इनइक्वेलिटी लैब की ओर से बिजनेस स्टैंडर्ड के साथ साझा की गई …