बिहार : ‘2023 में डायरेक्ट जिहाद, खिलाफत का ऐलान हम इंडियन मुस्लिम करेंगे’, वाट्सऐप ग्रुप चैट में छिपी साजिश

पटना

आतंक के फुलवारीशरीफ मॉड्यूल से जुड़े बेहद खतरनाक और चौंकानेवाले खुलासे हो रहे हैं। गजवा-ए-हिंद वाट्सऐप ग्रुप के चैट ने सुरक्षा एजेंसियों की नींद उड़ा दी है। इस ग्रुप में इलियास पटेल नाम का शख्स लिखता है कि ‘कोई फायदा नहीं है AIMIM को सपोर्ट करने की। अब डायरेक्ट जिहाद करेंगे 2023 में। खिलाफत का ऐलान हम इंडियन मुस्लिम करेंगे।’ इस मामले की बड़ी सिक्योरिटी एजेंसियां जांच कर रही है। गजवा-ए-हिंद का सोशल मीडिया प्रमुख मर्गुव अहमद दानिश उर्फ ताहिर को गिरफ्तार किया गया था, पुलिस ने उसे दो दिनों की रिमांड पर लिया है।

‘डायरेक्ट जिहाद करेंगे 2023 में’
गजवा-ए-हिंद का वाट्सऐप ग्रुप चैट पुलिस के हाथ लगे हैं। इसमें कई लोग जुड़े हुए हैं। इस ग्रुप में देश विरोधी चैट किया गया है। इस बात की प्लानिंग दिख रही है कि 2023 में डायरेक्ट जिहाद किया जाए। इसमें साफ-साफ लिखा हुआ है कि ‘कोई फायदा नहीं है AIMIM को सपोर्ट करने की। अब डायरेक्ट जिहाद करेंगे 2023 में। खिलाफत का ऐलान हम इंडियन मुस्लिम करेंगे।’ हालांकि इसमें इस बात का जिक्र नहीं है कि उसका तरीका क्या होगा? मगर इतना जरूर कहा गया है कि आगे से AIMIM को सपोर्ट नहीं करेंगे। ऐसे में क्या ये माना जाए कि AIMIM का सपोर्ट ये लोग इसलिए कर रहे थे कि देश में डायरेक्ट जिहाद की साजिश सफल हो सके? सिक्योरिटी एजेंसियां अब इसकी जांच कर रही है।

दो दिनों की रिमांड पर मर्गुव अहमद
गजवा-ए-हिंद का सोशल मीडिया प्रमुख मर्गुव अहमद दानिश उर्फ ताहिर फुलवारीशरीफ का रहनेवाला है। 2006-2020 तक वो दुबई में काम करता था। पटना एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लो के मुताबिक उसका फोन नंबर इंटरसेप्ट किया गया, जिसमें राष्ट्रविरोधी कंटेंट पाया गया। फुलवारीशरीफ के एएसपी मनीष कुमार ने बताया कि मर्गुव अहमद दानिश उर्फ ताहिर को रिमांड पर लेने की मांग की गई थी, कोर्ट ने हमें 48 घंटे की रिमांड दी। उसके नेटवर्क के बारे में पूछताछ की जाएगी, खासकर उन अंतरराष्ट्रीय लोगों के बारे में जो इसमें शामिल हो सकते हैं।

वाट्सऐप ग्रुप में कई विदेशियों के नंबर
फुलवारीशरीफ में ईसोपुर नहर के पास से मर्गुव अहमद दानिश उर्फ ताहिर को गिरफ्तार किया गया था। उसके पास मौजूद मोबाइल कंटेंट से ये साफ है कि राष्ट्र विरोधी काम तकनीकी के जरिए कर रहा था। फिलहाल फुलवारीशरीफ में रह रहा अहमद दानिश मूल रूप से गया जिला के बिथो शरीफ का रहने वाला है। इसके परिवार के कुछ लोग पाकिस्तान के कराची में भी बसे हुए हैं। 2016 से ये वाट्सऐप, ईमेल और फेसबुक के माध्यम से लोगों के संपर्क में था। एसएसपी के मुताबिक तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान से जुड़ा था। पाकिस्तान का फैजान नाम से कोई व्यक्ति इसके साथ नियमित संपर्क में था। पुलिस के मुताबिक ताहिर वाट्सऐप ग्रुप के माध्यम से गजवा-ए-हिन्द से जुड़ा है और इसका ग्रुप एडमिन भी है। फैजान भी इस ग्रुप का एडमिन है। कई सारे पाकिस्तानी नंबर इसके साथ जुड़े हुए हैं। इसका ग्रुप आइकन और मैसेज देश विरोधी, सम्प्रदाय विरोधी, भड़काऊ, आपत्तिजनक, गैरकानूनी और असंवैधानिक है। इसमें भारत पाकिस्तान और यमन के लोगों के मोबाइल नंबर नम्बर जुड़े हैं।

About bheldn

Check Also

सीएम नीतीश कुमार की बिगड़ी तबीयत, पटना के मेदांता अस्पताल में कराया गया भर्ती

पटना बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को शनिवार सुबह अचानक से तबीयत खराब होने के …