भारत को LNG की आपूर्ति करने में डिफॉल्ट हुआ रूस, नहीं भेजी कम से कम 5 खेप

नई दिल्ली

रूस तरलीकृत प्राकृतिक गैस (LNG) की कम से कम पांच खेपें भारत भेजने में डिफॉल्ट रहा है। रूस द्वारा भारत को गैस की आपूर्ति करने वाली कंपनियों में से एक पर जवाबी प्रतिबंध लगाए जाने के बाद ऐसा हुआ है। इसके बाद भारत को एलएनजी की कम-से-कम पांच खेपों की आपूर्ति में चूक हुई है। दरअसल, भारत की सबसे बड़ी गैस कंपनी गेल इंडिया लिमिटेड ने रूसी गैस उत्पादक कंपनी गैजप्रॉम के साथ एक सौदा किया था। यह सौदा गैजप्रॉम की सिंगापुर स्थित इकाई से सालाना 28.5 लाख टन एलएनजी का आयात करने को लेकर था। जून से अब तक गैजप्रॉम इस अनुबंध के तहत एलएनजी की पांच खेपों की आपूर्ति कर पाने में डिफॉल्ट कर गई है।

गैजप्रॉम ने बताया यह कारण
एलएनजी की आपूर्ति ना कर पाने के लिए गैजप्रॉम ने प्रतिबंधों की वजह से गैस जुटाने में हो रही दिक्कतों का हवाला दिया है। दो सूत्रों ने इस मामले की जानकारी दी। हालांकि, अनुबंध की शर्तों में इसका उल्लेख है कि आपूर्ति न की जा सकी मात्रा को बाद में भेजा जाएगा। लेकिन रूसी गैस कंपनी ने अभी तक ऐसा कोई संकेत नहीं दिया है कि इन पांच खेपों की गैस कब और किस तरह समायोजित की जाएगी।

अन्य देशों में विकल्प तलाश रही गेल
सूत्रों के मुताबिक, गैजप्रॉम ने गेल से कहा है कि अब से वह एलएनजी आपूर्ति की बेहतरीन कोशिश करेगी। इस बीच, गेल ने अमेरिका एवं पश्चिम एशिया में अन्य स्रोतों से गैस आपूर्ति के विकल्पों की तलाश शुरू कर दी है।

रूस ने 31 कंपनियों पर लगाए प्रतिबंध
रूस ने पिछले कुछ महीनों में 31 कंपनियों पर प्रतिबंध लगाए हैं। इनमें रूसी गैस को यूरोप ले जाने वाली यमल पाइपलाइन के पोलैंड वाले हिस्से के अलावा गैजप्रॉम की जर्मनी की पूर्व इकाई भी शामिल है। इन प्रतिबंधों का मकसद स्वीकृत संस्थाओं को रूसी गैस की आपूर्ति में कटौती करना था।

About bheldn

Check Also

पाकिस्तान के शेयर बाजार को क्या हुआ? एक साल में डबल, भारत के मुकाबले 5 गुना तेजी!

नई दिल्ली, भारतीय शेयर बाजार में पिछले एक साल में करीब 20 से 25 फीसदी …