बहाल हो गया मथुरा का बॉबी, मोदी और योगी की तस्‍वीरें कूड़ागाड़ी में ढोने पर हुआ था बर्खास्‍त

मथुरा

मथुरा जिले में कूड़ा गाड़ी में पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्‍यनाथ की तस्‍वीरें ले जाने वाले सफाईकर्मी को बहाल कर दिया गया है। इस घटना का वायरल वीडियो के सामने आने के बाद उसे नगर निगम ने बर्खास्‍त कर दिया था। नगर आयुक्त अनुनय झा ने मंगलवार को बताया कि पूरी स्थिति तथा सफाई कर्मी और उसके परिवार की मांग पर विचार करने के बाद उसे चेतावनी देते हुए पुन: काम पर ले लिया गया है।

सोमवार को सफाई कर्मचारी संगठनों ने चेतावनी दी थी कि अगर 72 घंटे के भीतर संविदा सफाई कर्मचारी बॉबी की बहाली नहीं हुई तो प्रदेशभर से कूड़ा नहीं उठाया जाएगा। सोमवार को आंदोलित सफाई कर्मचारियों ने आगरा के नगर आयुक्त को ज्ञापन देकर यह मांग उठाई थी।

कूड़ा गाड़ी में फोटो उठाने का वीडियो हुआ था वायरल
मथुरा-वृन्दावन नगर निगम के अपर नगर आयुक्त सत्येन्द्र कुमार तिवारी ने रविवार को बताया था कि जनरल गंज क्षेत्र में कार्यरत सफाईकर्मी बॉबी कूड़ा गाड़ी में प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी की तस्वीरें ले जा रहा था। उसका वीडियो वायरल हुआ था। तिवारी ने बताया था कि सफाई कर्मचारी ने कूड़े से उन तस्वीरों को नहीं निकाल कर गलती की, जिस कारण उसकी सेवाएं तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दी गईं।

यह दिखा था वीडियो में
वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि नगर निगम में संविदा पर कार्यरत सफाईकर्मी बॉबी कूड़ा एकत्र कर रहा था। इस बीच किसी ने साफ़-सफाई करने के दौरान प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की तस्वीर कूड़े में डाल दीं, जिन्हें देख कुछ लोगों ने आपत्ति करते हुए बॉबी से वाद-विवाद शुरु कर दिया। इस पर दोनों पक्षों में झगड़ा होने लगा। तभी कुछ लोगों ने दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर बॉबी से कहकर उन तस्वीरों को कूड़े की ट्रॉली से हटवा दिया लेकिन तब तक किसी ने घटना का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर डाल दिया जो वायरल हो गया।

बॉबी का यह था तर्क
वहीं, बॉबी का कहना है कि उसने तो अपने दायित्व का निर्वहन करते हुए कूड़ा इकट्ठा कर ट्रॉली में डाला था। उसके अनुसार कूड़े के साथ प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की तस्वीरें भी आ गई तो इसमें उसकी क्या गलती है। निगम की इस कार्यवाही के बाद यह मामला चर्चा में आ गया और लोगों ने निगम का ही दोष निकालना शुरू कर दिया। लोगों की आपत्तियों एवं सफाई कर्मी के माफीनामे के बाद निगम के अधिकारियों ने इस मामले पर सहानुभूतिपूर्वक विचार कर निर्णय लेने की जानकारी दी।

निगम द्वारा सफाई कर्मी को बहाल किये जाने के निर्णय पर सफाईकर्मी नेता उत्तम चंद्र सहजना ने खुशी जताई और सभी सफाईकर्मियों को भविष्य में यह ध्यान रखने की कड़ी हिदायत दी है कि राष्ट्रीय नेताओं अथवा प्रतीकों के साथ इस प्रकार की अवमानना जैसी घटना फिर कभी न हो।

 

About bheldn

Check Also

अब CBI करेगी नीट परीक्षा में गड़बड़ी की जांच, देशभर में जारी बवाल के बाद जागी केंद्र सरकार

नई दिल्ली, शिक्षा मंत्रालय ने NEET-UG परीक्षा में कथित गड़बड़ियों का मामला व्यापक जांच के …