बंगाल और तमिलनाडु में कोरोना तो केरल में मंकीपॉक्स, बच्चे स्कूल जा रहे इसलिए खास ध्यान रखिए

नई दिल्‍ली

देश में हाल के दिनों में कोरोना के मामले बढ़े हैं। पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में यह इजाफा खासतौर से ज्‍यादा है। नए केसों की गिनती हजारों में है। इस बीच केरल में मंकीपॉक्‍स की दस्‍तक के बाद दहशत बढ़ गई है। ज्‍यादा चिंता बच्‍चों की है। स्‍कूल खुले हुए हैं। ऐसे में उन पर खास ध्‍यान देने की जरूरत है। तमिलनाडु में मंगलवार को कोरोना के 2,142 नए केस सामने आए। गनीमत है कि इस दौरान राज्‍य में संक्रमण से किसी की मौत नहीं हुई। बंगाल में सोमवार को कोरोना के करीब डेढ़ हजार लोग सामने आए थे। मंकीपॉक्‍स की दस्‍तक और कोरोना में ताजा उछाल की स्थिति पर सरकार लगातार नजर बनाए हुए है।

केरल सरकार ने मंगलवार को अलप्पुझा के राष्ट्रीय विषाणु रोग विज्ञान संस्थान (एनआईवी) की प्रयोगशाला में मंकीपॉक्स की जांच शुरू कर दी है। राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज ने यह जानकारी दी। जार्ज ने बताया कि जांच किट एनआईवी, पुणे से मंगाई गई है। राज्य के अलग-अलग जिलों से नमूने अलप्पुझा लाए जा रहे हैं। केरल के कन्नूर में सोमवार को एक व्यक्ति के मंकीपॉक्स से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी। भारत में मंकीपॉक्स संक्रमण का यह दूसरा मामला है। केरल के कन्नूर का 31 वर्षीय यह व्यक्ति दुबई से लौटा था।

मंकीपॉक्‍स के लिए कैसी तैयारी?
मंकीपॉक्स की पुष्टि मरीज के नाक और गले से लिए जाने वाले नमूनों की आरटी-पीसीआर जांच से होती है। राज्य में 28 प्रयोगशालाएं है, जहां पर कोविड-19 की आरटी-पीसीआर जांच की जाती है। अगर नमूनें बढ़े तो इन प्रयोगशालाओं का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। मंकीपॉक्स के पहले मामले की पुष्टि होने के तीन से चार दिन के भीतर केरल में जांच केंद्र स्थापित कर लिया गया है।

वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंकीपॉक्स के जोखिम को कम से कम रखने के लिए कई कदम उठाए हैं। इस बारे में केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में राज्यसभा को जानकारी दी है। पवार ने बताया है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, चार जुलाई तक यूरोपीय क्षेत्र में 4,920 मंकीपॉक्स के मामले पाए गए हैं। मामलों में बढ़ोतरी का ट्रेंड है। ज्‍यादातर मामले ब्रिटेन, जर्मनी, फ्रांस और नीदरलैंड में मिले हैं। भारत में पहले मामले का 14 जुलाई को पता चला था। तब एक व्यक्ति केरल आया था। इसके बाद केंद्र ने दक्षिणी राज्य में इसके फैलाव को रोकने और रोकथाम के प्रयासों में मदद के लिए विभिन्न विषयों के विशेषज्ञों की एक टीम भेजी।

कोरोना ने भी बढ़ाई है टेंशन
मंकीपॉक्‍स के साथ कोरोना की टेंशन भी बनी हुई है। अब भी हजारों की संख्‍या में नए केस आ रहे हैं। मंगवार को देशभर में कोरोना के 15,528 नए मामले सामने आए। इसके बाद देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4,37,83,062 हो गई थी। तमिलनाडु और बंगाल उन राज्‍यों में शामिल हैं, जहां से कोरोना के सबसे ज्‍यादा केस सामने आ रहे हैं। मंगलवार को तमिलनाडु में 2,142 नए केस रेकॉर्ड किए गए। राज्‍य में कोरोना से अब तक 38,030 लोगों की मौत हो चुकी है। बंगाल में भी पिछले कुछ दिनों में कोरोना के मामले बढ़े हैं। रविवार को राज्‍य में कोरोना के 2,659 नए केस सामने आए थे। सोमवार को यह आंकड़ा 1,449 रहा। इस दौरान संक्रमण से छह लोगों की मौत हो गई।

स्‍कूल में बच्‍चे, बढ़ रही चिंता
देश में मंकीपॉक्‍स की दस्‍तक और कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सबसे ज्‍यादा चिंता बच्‍चों को लेकर है। स्‍कूल पूरी तरह से खुल चुके हैं। बच्‍चे पढ़ने जा रहे हैं। ऑनलाइन क्‍लासेज तकरीबन खत्‍म हो चुकी हैं। ऐसे में जरूरी है कि उन पर खास ध्‍यान दिया जाए। उन्‍हें सोशल डिस्‍टेंसिंग को बनाए रखने के साथ क्‍लास में भी मास्‍क लगाए रखने के लिए प्रोत्‍साहित करना जरूरी है। ताजा हालातों में स्‍कूलों की भी जिम्‍मेदारी है कि वे कोरोना एप्रोप्रिएट बिहेवियर को अपनाएं। इसमें क्‍लास का सैनिटाइजेशन और दूसरे साफ-सफाई के कदम जरूरी हैं। बेशक, बच्‍चों की पढ़ाई जरूरी है। लेकिन, उनके लिए सुरक्षित माहौल बनाना भी अहम है। 12 साल से अधिक उम्र के बच्‍चों का वैक्‍सीनेशन शुरू हो चुका है। ऐसे में पैरेंट्स को उन्‍हें जरूर से जरूर टीका लगवा देना चाहिए। इसमें किसी भी तरह की लापरवाही घातक साबित हो सकती है।

About bheldn

Check Also

यूपी : 600 रुपए के लिए बेरहम बाप ने रेता बेटी का गला, मूक दर्शक बन देखती रही मां

शाहजहांपुर, यूपी के शाहजहांपुर में कत्ल की एक हैरतअंगेज वारदात सामने आई है. यहां महज …