योगी के मंत्री, शाह और नड्डा से दिल्ली में करेंगे मुलाकात! खटीक के इस्तीफे के बाद बढ़ा सूबे का सियासी पारा

लखनऊ

उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार इस वक्त सवालों के घेरे में खड़ी हुई है। सरकार में मंत्री दिनेश खटीक का इस्तीफा सामने आने के बाद से लखनऊ से लेकर दिल्ली तक चर्चाओं का बाजार गर्म है। बताया जा रहा है कि योगी सरकार के कुछ मंत्री जल्द ही बीजेपी आलाकमान से मुलाकात कर सकते हैं, इसको लेकर राजनीतिक गलियारों में चर्चाएं जोरों पर है।

केशव ने मंगलवार को पीएम मोदी से की थी मुलाकात
मिल रही जानकारी के मुताबिक, यूपी सरकार में जलशक्ति राज्यमंत्री दिनेश खटीक दिल्ली में मौजूद हैं। इसके साथ ही उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य वा लोक निर्माण विभाग के मंत्री जितिन प्रसाद भी अपने-अपने कामों को लेकर दिल्ली पहुंचे हुए हैं। हालांकि डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य का पीएम मोदी से मिलने का कार्यक्रम पहले से तय था इसी को लेकर उन्होंने 19 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। डिप्टी सीएम केशव व राज्यमंत्री मंगलवार को संपन्न हुई योगी सरकार की कैबिनेट बैठक में शामिल नहीं हुए थे, जबकि मंत्री जितिन प्रसाद कैबिनेट बैठक में शामिल हुए थे।

योगी के मंत्री जेपी नड्डा और अमित शाह से करेंगे मुलाकात!
उधर, यूपी कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने भी उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, मंत्री जितिन प्रसाद और दिनेश खटिक के दिल्ली में जमे होने का दावा किया है। वहीं मिल रही जानकारी के मुताबिक, यूपी सरकार के मंत्री बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा व गृहमंत्री अमित शाह से जल्द मुलाकात कर सकते है। हालांकि अभी मुलाकात का कोई समय निश्चित नहीं हुआ है ना ही इस मुलाकात को लेकर कोई आधिकारिक पुष्टि हुई है।

तबादलों को लेकर हुई कार्रवाई
बता दें, हाल ही में उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने स्वास्थ्य विभाग में हुए तबादलों को लेकर सवाल उठाए थे। इस संबंध में उन्होंने अपर मुख्य सचिव को पत्र लिखा था जो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुआ था। पत्र के वायरल होने के बाद स्वास्थ्य विभाग से लेकर सरकार तक में हड़कंप मच गया था। वहीं देखते ही देखते अन्य विभागों में भी तबादले को लेकर गम्भीर आरोप लगे। इसी क्रम में लोक निर्माण विभाग में भी हुए इंजीनियरों के तबादलों में धांधली की शिकायत मिली थी। जिसको लेकर सीएम योगी की ओर से जांच कराई गई थी जिसमें पीडब्ल्यूडी विभाग के मंत्री जितिन प्रसाद के ओएसडी समेत कई अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई करते हुए उन्हें निलंबित कर दिया गया था। जिसके बाद से सियासी गलियारों में तरह-तरह की बाते चल रही थीं

जितिन प्रसाद ने क्या कहा
हालांकि स्थानांतरण विवाद को लेकर यूपी मंत्री जितिन प्रसाद ने कहा था कि पीएम मोदी और सीएम योगी की जीरो टॉलरेंस की नीति है। अगर विभाग में कोई अनियमितताएं हैं तो सरकार ठोस कदम उठाएगी। एक निष्पक्ष जांच होगी और जहां गड़बड़ी है वहां कार्रवाई होगी और बदलाव भी होगा। नाराजगी की कोई बात नहीं है।

केशव प्रसाद मौर्य का ट्वीट
उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने ट्वीट कर कहा यूपी के हर अधिकारी व कर्मचारी को प्रोटोकॉल का पालन करना होगा, मंत्रीगणों के साथ जन प्रतिनिधियों की भी बातें सुनकर समाधान करें, कार्यकर्ताओं को सम्मान दें, जनता की ईमानदारी से सेवा करें वरना कार्रवाई होगी। अखिलेश यादव जी साज़िश की जगह सपा को समाप्त होने से बचाने पर ध्यान दें।

मंत्री दिनेश खटीक ने पत्र में इस्तीफे का कारण बताया
योगी सरकार के राज्यमंत्री दिनेश खटिक ने गृहमंत्री अमित शाह के नाम पत्र लिखकर अपने इस्तीफे का कारण बताया है। जो अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। पत्र में मंत्री ने अपने विभाग के अफसरों पर तमाम तरह के आरोप लगाए हैं। पत्र में दिनेश खटीक ने लिखा है कि जलशक्ति विभाग में दलित समाज का राज्य मंत्री होने के कारण उनके किसी भी आदेश पर कोई कार्रवाई नहीं की जाती है। न ही उन्‍हें सूचना दी जाती है कि विभाग में कौन-कौन सी योजनाएं चल रही हैं और उन पर क्या काम हो रहा है।

उन्‍होंने आरोप लगाया कि, उत्तर प्रदेश सरकार के अफसर दलितों को अपमान कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा मैंने सिंचाई विभाग के प्रमुख सचिव अनिल गर्ग को एक मामले को लेकर फोन किया पर उन्‍होंने बात सुने बगैर फोन काट दिया। मंत्री दिनेश खटीक ने आरोप लगाते हुए कहा कि वह दलित जाति के मंत्री हैं, इसलिए विभाग में उनके साथ बहुत ज्यादा भेदभाव किया जा रहा है।

About bheldn

Check Also

साइंस कॉलेज चौपाटी दूसरे स्थान पर होगी शिफ्ट, राजेश मूणत ने दिए निर्देश

रायपुर। राजधानी रायपुर में स्थित साइंस कॉलेज की चौपाटी दूसरे स्थान पर शिफ्ट होगी। दरअसल …