न धनखड़ की ख‍िलाफत न अल्वा का समर्थन, उपराष्ट्रपति चुनाव में TMC का ऐलान ‘समर्थन’ जैसा

कोलकाता

पश्चिम बंगाल में मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने ऐलान क‍िया है क‍ि वह आगामी उपराष्ट्रपति चुनाव से दूर रहेगी। टीएमसी ने इसका कारण उसे बताए बिना विपक्षी उम्मीदवार का फैसला करने के तरीके को बताया है। ममता के इस फैसले में साफ है क‍ि वह अपने च‍िर व‍िरोधी रहे पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल जगदीप धनखड़ की ख‍िलाफत नहीं करेंगी। कांग्रेस का साथ न देने के ऐलान से ममता बनर्जी जहां एकला चलो की नीत‍ि अपना रही हैं। वहीं इससे साफ है क‍ि दीदी बीजेपी के उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को मौन समर्थन भी दे रही हैं। राजनीत‍िक गल‍ियारे में इसके पीछे का कारण ‘राजभवन भवन’ के बदलाव को बताया जा रहा है।

उपराष्ट्रपति चुनाव से दूर रहेगी तृणमूल कांग्रेस
दरअसल तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक बनर्जी ने गुरुवार को कहा कि उनकी पार्टी आगामी उपराष्ट्रपति चुनाव से दूर रहेगी। उन्‍होंने कहा क‍ि एनडीए उम्मीदवार जगदीप धनखड़ को समर्थन देने का सवाल ही नहीं उठता। लेकिन पार्टी सांसदों के साथ आज की बैठक के बाद यह तय किया गया है कि हम उपराष्ट्रपति चुनाव से दूर रहेंगे।

विपक्षी उम्मीदवार को लेकर क्‍यों गुस्‍से में है TMC
टीएमसी के राष्‍ट्रीय महासच‍िव ने कहा क‍ि हम तृणमूल कांग्रेस को विश्वास में लिए बिना विपक्षी उम्मीदवार की घोषणा करने की प्रक्रिया से असहमत हैं। हमसे न तो कोई सलाह ली गई और न ही हमसे किसी बात पर चर्चा की गई। इसलिए हम विपक्ष के उम्मीदवार का समर्थन नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस उसे जानकारी दिए बिना विपक्षी उम्मीदवार का फैसला करने के तरीके से सहमत नहीं है।

उपराष्ट्रपति चुनाव में कौन है उम्‍मीदवार
दरअसल राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) ने पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल जगदीप धनखड़ को उपराष्ट्रपति पद के चुनाव में अपना उम्मीदवार बनाया है। विपक्षी दलों ने रविवार को राजस्थान की पूर्व राज्यपाल मार्गरेट अल्वा को अपना संयुक्त उम्मीदवार बनाने का फैसला किया था।

About bheldn

Check Also

ममता बनर्जी पर गरम अधीर रंजन चौधरी के विद्रोही तेवर, खरगे के बयान पर बोले-मैं नहीं करूंगा वेलकम

कोलकाता पश्चिम बंगाल कांग्रेस अध्यक्ष और लोकसभा के पांच बार के सदस्य अधीर रंजन चौधरी …