बस 8 राज्यों को छोड़कर सबमें बढ़त, 3 में 100% वोट, मुर्मू ने सिन्हा को यूं चटाई धूल

नई दिल्ली

द्रौपदी मुर्मू ने राष्ट्रपति चुनाव में जीत हासिल कर इतिहास रच दिया है। 25 जुलाई को शपथ के साथ ही पहली बार देश के सर्वोच्च पद पर आदिवासी समुदाय का कोई शख्स आसीन होगा। सिर्फ 8 राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों को छोड़कर मुर्मू ने सभी राज्यों में सिन्हा पर बढ़त बनाई। 3 राज्यों में तो उन्हें 100 प्रतिशत वोट मिले। आइए देखते हैं कि 16वें राष्ट्रपति चुनाव में राज्यों ने किस तरह वोट दिया।

कुल कितने वोटर, किसको मिले कितने वोट
राष्ट्रपति चुनाव में सभी राज्यों और 2 केंद्रशासित प्रदेशों (दिल्ली और पुदुचेरी) के चुने हुए सांसद और एमएलए वोट देते हैं। इस तरह इलेक्टोरल कॉलेज में 4,033 विधायक और 776 चुने हुए सांसद शामिल थे। इनमें से 3,991 विधायकों और 763 सांसदों ने वोट दिया। 53 वोट अमान्य घोषित हुए, जिनमें 15 सांसद और 38 विधायक के वोट शामिल हैं।

एनडीए की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को कुल 2,824 सांसदों और विधायकों ने वोट दिए, जिनका वोट वैल्यू 6,76,803 रहा। विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को 1,877 सांसदों, विधायकों ने वोट दिए जिसका वोट वैल्यू 3,80,177 रहा। वोट वैल्यू के हिसाब से मुर्मू को 64 प्रतिशत और सिन्हा को 36 प्रतिशत वोट मिले।

मुर्मू को 540 सांसदों के वोट
द्रौपदी मुर्मू को 540 सांसदों के वोट मिले। यशवंत सिन्हा को सिर्फ 208 सांसदों के वोट मिल पाए। कुल 776 सांसदों में से 763 ने ही वोटिंग में हिस्सा लिया। इनमें से 15 के वोट अमान्य करार दिए गए।

इन 8 को छोड़कर बाकी राज्यों में मुर्मू को सिन्हा से ज्यादा वोट
द्रौपदी मुर्मू सिर्फ 8 राज्यों को छोड़कर बाकी सभी जगह प्रतिद्वंद्वी यशवंत सिन्हा से आगे रहीं। जिन 8 राज्यों में सिन्हा को बढ़त मिली वे हैं- छत्तीसगढ़, केरल, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल और दिल्ली।

3 राज्यों में मुर्मू को 100% वोट
द्रौपदी मुर्मू ने 3 राज्यों में क्लीन स्वीप किया। आंध्र प्रदेश, नगालैंड और सिक्किम में उन्हें 100 प्रतिशत वोट मिले यानी सिन्हा इन तीनों राज्यों में खाता तक नहीं खोल पाए। मुर्मू को सबसे कम 0.7 प्रतिशत वोट केरल में मिले। इस मामले में दूसरे नंबर पर तेलंगाना रहा जहां एनडीए उम्मीदवार सिर्फ 2.6 प्रतिशत वोट ही हासिल कर सकीं।

126 विधायक, 17 सांसदों ने की क्रॉस वोटिंग
18 राज्यों के 143 सांसदों, विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की। इनमें 126 विधायक और 17 सांसद हैं। क्रॉस वोटिंग के सबसे ज्यादा 22 मामले असम से आए। मध्य प्रदेश में 19 माननीयों ने क्रॉस वोटिंग की। चुनावी राज्य गुजरात में कांग्रेस के 10 विधायकों ने मुर्मू के पक्ष में क्रॉस वोटिंग की।

About bheldn

Check Also

NDA कल करेगा लोकसभा स्पीकर पद के उम्मीदवार का ऐलान, 26 जून को होना है चुनाव

नई दिल्ली, संसद के निचले सदन लोकसभा  के नए अध्यक्ष की नियुक्ति को लेकर सियासी …