क्या कांग्रेस ने कर दी जल्दबाजी या बेटी पर स्मृति इरानी घिर जाएंगी, जानें सबकुछ

नई दिल्ली

केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी कांग्रेस पार्टी, गांधी परिवार और खासतौर से राहुल गांधी पर लगातार हमलावर रहती हैं। गांधी परिवार के गढ़ अमेठी में राहुल को करारी शिकस्त देने के बाद स्मृति का आत्मविश्वास काफी बढ़ा है। हालांकि पिछले 24 घंटों में कांग्रेस पार्टी ने गोवा के एक बार को लेकर स्मृति को घेरने की कोशिश की है। कांग्रेस ने केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी की बेटी पर गोवा में ‘अवैध बार’ चलाने का गंभीर आरोप लगाया है। शनिवार को दिल्ली का मौसम थोड़ा कूल था, आसमान में बादल छाए थे लेकिन सियासी गलियारों में ‘उमस’ ज्यादा थी। मोदी सरकार की एक प्रमुख मंत्री पर आरोप लगे थे। पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस कांग्रेस की तरफ से मीडिया एवं प्रचार प्रमुख पवन खेड़ा और पूर्व मंत्री जयराम रमेश ने की। कुछ ही घंटे में स्मृति इरानी लाइव थीं। दोनों तरफ से कागजात दिखाए गए।

स्मृति इरानी का पलटवार इतना जोरदार था कि लगा जैसे आरोप जल्द ही धुल जाएंगे। लेकिन कुछ ही देर में कांग्रेस के नेता एक वीडियो ले आए। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में स्मृति इरानी की बेटी गोवा में अपने रेस्त्रां के बारे में बताती देखी जाती हैं। इससे चीजें और भी अस्पष्ट हो गई हैं। बातें होने लगीं कि कांग्रेस और सोनिया के खिलाफ मोर्चे पर जिस सेनापति को बीजेपी ने लगाया था कांग्रेस ने उसे ही घेर लिया? क्या कांग्रेस ने जल्दबाजी में केंद्रीय मंत्री पर गंभीर आरोप मढ़ दिए या फिर बेटी पर स्मृति इरानी घिर जाएंगी?

दोपहर में कांग्रेस की प्रेस कॉन्फ्रेंस
कांग्रेस पार्टी ने मांग की है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने मंत्रिमंडल से इरानी को बर्खास्त करना चाहिए। पवन खेड़ा ने कहा, ‘केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी के परिवार पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे हैं। गोवा में उनकी बेटी द्वारा चलाए जा रहे रेस्त्रां पर शराब परोसने के लिए फर्ज़ी लाइसेंस जारी करवाने का आरोप लगा है और यह कोई सूत्रों के हवाले से या एजेंसियों द्वारा राजनीतिक प्रतिशोध लेने के लिए लगाया गया आरोप नहीं है, बल्कि सूचना का अधिकार (RTI) से मिली जानकारी में खुलासा हुआ है।’ उन्होंने दावा किया, ‘इरानी की बेटी ने अपने ‘सिली सोल्स कैफे एंड बार’ के लिए फर्ज़ी दस्तावेज देकर ‘बार लाइसेंस’ जारी करवाए।’ कांग्रेस नेता के अनुसार, ’22 जून 2022 को लाइसेंस के नवीनीकरण के लिए जिस ‘एंथनी डीगामा’ के नाम से आवेदन किया गया, उनकी पिछले साल मई में ही मौत हो चुकी है। एंथनी के आधार कार्ड से पता चला है कि वह मुंबई के विले पार्ले के निवासी थे। आरटीआई के तहत सूचना मांगने वाले वकील को इनका मृत्यु प्रमाण-पत्र भी मिला है।’

उन्होंने कहा, ‘हम प्रधानमंत्री से मांग करते हैं कि तत्काल प्रभाव से स्मृति जुबिन इरानी को मंत्रिमंडल से बर्खास्त किया जाए।’ खेड़ा ने यह सवाल भी किया, ‘स्मृति इरानी को बताना चाहिए ये धांधली किसके इशारे पर हो रही है? अवैध कार्यों को अंजाम देने के पीछे कौन है? जो स्मृति इरानी कल तक राहुल गांधी जी और सोनिया गांधी जी को लेकर तरह-तरह के सवाल पूछ रही थीं, वह आज अपने पारिवारिक भ्रष्टाचार पर चुप क्यों है?’

इरानी का आक्रामक पलटवार
कुछ ही घंटे में स्मृति इरानी पूरी तैयारी के साथ मीडिया के सामने आईं। उन्होंने पलटवार करते हुए दावा किया कि नेशनल हेराल्ड मामले में सोनिया और राहुल गांधी की ‘5000 करोड़ रुपये की लूट’ पर उनके खुलकर बोलने के कारण बेटी को निशाना बनाया गया है। उन्होंने कहा, ‘मेरी बेटी की गलती यह है कि उसकी मां सोनिया और राहुल गांधी की 5,000 करोड़ रुपये की लूट पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करती है। उसकी गलती यह है कि उसकी मां ने 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ा।’ इरानी ने कहा कि कांग्रेस ने उनकी बेटी जोइश का चरित्र हनन किया और उसे निशाना बनाया। उन्होंने विपक्षी दल कांग्रेस को उनकी बेटी द्वारा कोई गड़बड़ी किए जाने का सबूत दिखाने की चुनौती दी।

क्या नोटिस में मेरी बेटी का नाम है…
महिला और बाल विकास मंत्री इरानी ने पूछा कि क्या कांग्रेस नेता जयराम रमेश और पवन खेड़ा की ओर से दिखाए गए कथित नोटिस में उनकी बेटी का नाम है? इरानी ने साफ कहा कि उनकी 18 साल की बेटी कॉलेज की प्रथम वर्ष की छात्रा हैं और कोई बार नहीं चलाती है। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने गांधी परिवार के इशारे पर उनकी बेटी को निशाना बनाने के लिए संवाददाता सम्मेलन किया। स्मृति इरानी की पुत्री की ओर से भी इन आरोपों को खारिज किया गया है।

कुछ देर में केंद्रीय मंत्री की बेटी के वकील कीरत नागरा ने एक बयान में कहा कि उनकी मुवक्किल ‘सिली सोल्स” नामक रेस्त्रां की न तो मालकिन हैं और न ही इसका संचालन करती हैं। उन्होंने साफ कहा कि किसी प्राधिकार की तरफ से उन्हें कोई ‘कारण बताओ नोटिस’ भी नहीं मिला है। नागरा ने कहा, ‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि वे लोग सिर्फ इसलिए दुष्प्रचार कर रहे हैं, ताकि तथ्यों की जांच-परख किए बिना मुद्दा विहीन बात को सनसनी बनाकर पेश किया जा सके और वे मेरी मुवक्किल को सिर्फ इसलिए बदनाम करने पर आमादा हैं कि वह एक नेता की बेटी हैं।’

कांग्रेस ने दिखाए कागज
कांग्रेस ने एक कागजात जारी करते हुए दावा किया कि आबकारी विभाग की ओर से इरानी की बेटी को ‘कारण बताओ नोटिस’ जारी किया गया था और जिस अधिकारी ने नोटिस दिया था, उसका कथित तौर पर तबादला किया जा रहा है। कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने एक सवाल के जवाब में यह भी कहा, ‘हम इस मुद्दे को संसद में उठाएंगे।’ उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री तत्काल स्मृति इरानी को हटाएं। यह सिर्फ आरोप नहीं है। इसके सारे कागजात सामने हैं। यह सब हुआ है, क्योंकि एक प्रभावशाली मंत्री इसके पीछे हैं।’

राहुल गांधी पर ईरानी के हमले के बारे में पूछे गये एक सवाल के जवाब में खेड़ा ने कहा, ‘समाचार पत्र चलाने जैसे अच्छे काम की तुलना गोवा में गैर-कानूनी बार चलाने से कतई नहीं की जा सकती है।’ उन्होंने पूछा, ‘क्या यह सब उनकी (इरानी की) जानकारी के बिना हो रहा था और क्या लाइसेंस बिना उनके प्रभाव के मिल गया होगा?’ उन्होंने आरोप लगाया कि रेस्तरां तक मीडिया की पहुंच न होने देने के लिए गोवा में इसके चारों ओर निजी सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं। उन्होंने पूछा, ‘हम आपसे जानना चाहते हैं कि यह सब किसके प्रभाव से किया जा रहा है? इस गैर-कानूनी कार्य के पीछे कौन है?’

पवन खेड़ा ने एक बयान दिखाया
दोनों तरफ से प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद सोशल मीडिया पर वार पलटवार शुरू हो गया। कांग्रेस के पवन खेड़ा ने एक खबर साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘कौन स्मृति इरानी झूठ बोल रही हैं? वह, जिन्होंने 14 अप्रैल 2022 को कहा था कि उन्हें बेटी के रेस्त्रां पर गर्व है या फिर वह, जिन्होंने आज कहा कि उनकी बेटी का सिली सोल्स बार एंड कैफे से कोई लेना-देना नहीं है?’

…और सोशल मीडिया पर आया एक वीडियो
कांग्रेस नेता श्रीनिवास ने 45 सेकेंड का वीडियो जारी किया। इसमें एंकर लोगों का अभिवादन करता है और दर्शकों को युवा एंटरप्रेन्यर से परिचित कराता है। वह नाम पुकारते हैं जोइश ईरानी का। इस दौरान गोवा में रेस्त्रां की बातें सुनी जा सकती हैं। इस वीडियो के सामने आने के बाद ऐसा लग रहा है कि यह आरोपों की बारिश यहीं तक रुकने वाली नहीं है। अभी दोनों तरफ से गरज-चमक बाकी है।

About bheldn

Check Also

जिसने जुर्म किया है उसे ही जांच सौंप दी जाए तो… दिग्विजय सिंह ने NEET घोटाले में पीएम मोदी से कर दी बड़ी मांग

भोपाल नीट यूजी की परीक्षा के रिजल्ट को लेकर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय …